ENG | HINDI

दुनिया में महिलाओं से जुड़ी ये क्रूर मान्यतायें आपके रोंगटे खड़े कर देगी!

महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें

महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें – दुनिया में महिलाओं के ऊपर जुल्मों-सितम का पुराना इतिहास रहा है.

इस पुरुष प्रधान समाज में लगभग हर दौर में महिलाओं को यातनाएं दी गई है कभी संस्कृतियों के नाम पर, कभी रिवाजों के नाम पर तो कभी मान्यताओं के नाम पर. इतिहास गवाह है कि दुनिया में ऐसा कोई दौर नहीं हुआ है जब महिलाओं ने अपने आप को सुरक्षित महसूस किया हो.

आज हम आपको दुनिया भर की महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें – कुछ ऐसी ही कई क्रूर मान्यताओं और रिवाजों के बारे में बताने जा रहे है जो औरतों के लिए बनाई गई है ये क्रूर मान्यताएं इतनी खौफनाक होती है कि उन्हें बयान करना ही अपने आप में महिलाओं को दर्द देने के सामान है.

ये महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें – क्रूर यातनाएं उन महिलाओं को अपने लोग ही देते है.

तो आइये जानते है उन क्रूर मान्यताओं के बारे में जो महिलाओं को दी जाती है- 

1.ब्रेस्ट आयरनिंग-

ब्रेस्ट आयरनिंग में लड़कियों के ब्रेस्ट को इस्त्री किया जाता है. जैसे कपड़ो पर इस्त्री की जाती है वैसे ही गर्म पत्थरों, स्टील की रोड या हथौड़े आदि से लड़कियों के ब्रेस्ट को दाग दिया जाता है. ये क्रिया इतना दर्द देने वाली होती है कि लड़कियां इससे तड़प उठती है. ब्रेस्ट आयरनिंग अधिकतर कैमरून, नाइजीरिया और साउथ अफ्रीका के आदिवासी इलाकों में किया जाता है. अधिकतर ये काम लड़की की माँ ही करती है. इस कुप्रथा के पीछे उनका ये भी कहना है कि इससे उनके ब्रेस्ट कम विकसित होंगे जिससे वे आकर्षक नहीं लगेगी और उन्हें रेप और यौन उत्पीड़न से बचाया जा सकेगा.

2.महिलाओं को सबके सामने नग्न कर पीटना-

सबसे पहले तो किसी को नग्न करना ही अपराध की श्रेणी में आता है लेकिन ब्राज़ील की कुछ जनजातियों में ये कुप्रथा सालों से चली आ रही है जिसमें एक औरत को सबके सामने नग्न करके तब तक पीटा जाता है जब तक की वह बेहोश न हो जाए. इस कुप्रथा के पीछे उन लोगों का तर्क होता है कि जो औरत इस अत्याचार को सह लेती है वो शादी के लिए बेस्ट मटेरियल मान ली जाती है. इस पिटाई में कई बार तो महिला की जान भी चली जाती है.

महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें

3.छोटी बच्चियों को यौन शोषण-

ये अक्सर आपने ख़बरों में पढ़ा होगा की छोटी बच्चियां भी यौन शोषण का शिकार होती है. लेकिन इस दुनिया में एक ऐसी जगह भी है जहाँ पर 6 साल से ऊपर की लड़कियों के यौन शोषण को खुली छुट मिली है. दरअसल पापुआ न्यू गिनी में एक आदिवासी समुदाय में रिवाज़ है कि 10-12 वर्ष के लड़के 6 साल से ऊपर की किसी भी लड़की से शारीरिक सम्बन्ध बना सकते है. यहाँ पर शादी से पहले सेक्स को मंजूरी दी गई है लेकिन शादी से पहले साथ में खाना खाने की अनुमति नहीं है.

महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें

4.दातों को धारदार हथियार से तराशकर नुकीला बनाना-

एक जनजाति ऐसी भी है जिसमें महिलाओं के दातों को ब्लेड या फिर किसी धारदार हथियार से नुकीला किया जाता है. ये काम इंडोनेशिया की एक जनजाति में किया जाता है. इसके पीछे उनका तर्क है कि नुकीले दातों वाली औरतें खुबसूरत दिखती है. ये एक तरह की सर्जरी ही होती है जो बिना किसी एनेस्थीसिया के की जाती है. इसमें असहनीय दर्द होता है जिसमे महिलाएं चीखती और चिल्लाती भी है लेकिन दाँतों को छिलने वालो पर इसका जरा भी असर नहीं पड़ता है.

महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें

5.अपहरण कर शादी करना-

किर्गिजस्तान में एक रिवाज़ ऐसा भी है जिसमें जबरदस्ती औरतों का अपहरण करके उनसे शादी की जाती है. इस रिवाज़ में जब कोई आदमी किसी औरत का अपहरण करके उसे अपने साथ 2-3 दिन तक रखने में सफल हो जाता है वह लड़की उसकी हो जाती है. इसमें लड़की की मर्जी हो या न हो उसे उस शख्स से शादी करनी पड़ती है. हालाँकि ये शादियाँ कभी सफल नहीं होती है क्योंकि लड़की इस तरह की प्रताड़ना से तंग आकर आत्महत्या कर लेती है.

महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें

ये है महिलाओं से जुड़ी क्रूर मान्यतायें जो दुनिया के कई हिस्सों में महिलाओं को दी जाती है. इन क्रूर मान्यताओं को देने के पीछे अजीब तर्क भी दिए जाते है जिनका वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं होता है. लेकिन इस सब में एक महिला को एक महिला होने की कीमत चुकानी पड़ती है.

Don't Miss! random posts ..