ENG | HINDI

विश्व युद्ध से इस दुनिया को नुकसान ही नहीं बल्कि कई फायदे भी हुए !

विश्व युद्ध

जब-जब दुनिया में जंग का ऐलान हुआ है तब तब मानवता को नुकसान पहुंचा है. सिर्फ मानवता ही नहीं बल्कि प्रकृति को भी भारी नुकसान उठाना पड़ा है. अक्सर ऐसा होता है कि एक छोटी सी लड़ाई में भी कईयों को नुकसान होता है. जब बात विश्व युद्ध की हो तो आप समझ ही सकते हैं कि कितनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी होगी इस समाज को.

विश्व युद्ध का नाम लेते ही मन डर जाता है. ऐसा लगता है कि कोई इस बारे में बात न करे. लोग उस समय की बातें भी करते हुए रो देते थे पहले. आज भी जब किताबों में उसका ज़िक्र आता है तो आँखें रोने लगती है.

विश्व युद्ध से नुकसान तो बहुत ही हुआ है उसे बयां नहीं किया जा सकता, लेकिन कुछ ऐसी चीज़ें भी हुई हैं, जो दुनिया के हित में रही है. विश्व युद्ध इंसानों को सबक सिखा गया. इसके कई फायदे भी हुए. विज्ञान में पढाया जाता है कई क्रिया के सामने एक विपरीत और बराबर प्रतिक्रिया होती ही है. इन्ही विश्वयुद्धों की वजह से ही हमें अंग्रेजी हुकूमत से छुटकारा मिला वरना हम अभी भी अंग्रेजों द्वारा बनाये कोई नए तरीके का लगान भर रहे होते. लगान से छुटकारा पाने के लिए हर ३ महीने एक नए ‘भुवन’ को जन्म लेना पड़ता. हम अभी तक नाइंसाफी की लहरों में गोते खा रहे होते. तो सबसे बड़ा फायदा यही हुआ कि कई देश आज़ाद हो गए.

इस आज़ादी में कई देशों का नाम शुमार है. असल में अगर ये युद्ध न हुआ होता तो आज भी कई देश गुलामी की साँस ले रहे होते. सिर्फ भारत ही नहीं, आधा ‘अफ्रीका’, आधे से ज्यादा ‘चीन’ और थोडा बहुत ‘यूरोप’ इन्ही २ विश्वयुद्धों के कारण ही आज़ाद हुए हैं. अब आप समझ सकते हैं कि ये विश्व युद्ध मानवता को फायदा भी पहुंचा गए.

शायद इसीलिए कहा गया है की जब बहुत बुरा होता है तो उसमें भी कहीं न कहीं कोई अच्छाई होती है. हर अच्छे काम में थोड़ी बहुत बुराई भी निहित होती है. ये तो प्रकृति का नियम है. इसे झुठलाया नहीं जा सकता. असल में जब भी कुछ बुरा होता है तो उसकी छाया में कुछ अच्छी चीज़ों का जन्म होता है. शायद यही कारण था कि दुनिया आपस में लड़ रही थी और कुछ देश इस लड़ाई को यूँ ही जारी रखने की कोशिश कर रहे थे.

इसका सिर्फ इतना मतलब था कि इस लड़ाई से कई देश खुली हवा में सांस ले सके. ये बहुत ही ज़रूरी था. अगर ये विश्व युद्ध न होते तो शायद आज बहुत से देश गुलामी की ज़ंजीर में बंधे होते. उनमें से हम लोग भो होते. आज बड़ा अच्छा लग रहा है विदेशी फैशन को दोहराने में लेकिन एक समय था जब हम लोग उन्हीं की बेड़ियों में जकडे थे और लगता था कि अब जान नहीं बचेगी. हुआ भी कुछ ऐसा ही.

आज भी कई देश ऐसे तनकर लड़ाई लड़ने को आतुर रहते हैं कि उन्हें देखते ही लगता है कि जैसे विश्व युद्ध हो जाएगा. आज भी लोग विश्व युद्ध से डरते हैं. आप भी किसी से लड़ाई मत कीजिए बल्कि शांति से रहिए.

Don't Miss! random posts ..