ENG | HINDI

क्या अमरीका फिर से भारत में ‘फूट डालो, राज करो’ की योजना बना रहा है?

india-america

क्या घर-वापसी की संकल्पना आपको सही लगती है?

अमेरिका को शायद ऐसा नहीं लगता! अमेरिका के एक पैनल ने कहा है कि नरेन्द्र मोदी की सरकार आने के बाद भारत में धार्मिक अल्पसंख्यक वर्ग यानि की धार्मिक माइनॉरिटी के लोगों पर ज्यादती की जा रही है.

पैनल का कहना है कि मोदी गवर्नमेंट यानी भाजपा की सरकार आने के बाद, RSS और विश्व हिंदू परिषद द्वारा किया जा रहा ‘घर वापसी’ आंदोलन, कुछ ज़्यादा ही ज़ोर-शोर में हो रहा है. अमेरिका के इस पैनल ने मोदी सरकार की जम कर आलोचना की.

hindu-conversions-square

Ghar Wapsi

दरअसल, यू.एस. कमीशन फॉर इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम(USCIRF) ने एक सूची जारी की थी जिसमें 30 ऐसे देश शामिल थे जहां अल्पसंख्यक वर्ग पर ख़तरा हमेशा मंडराता रहता है. 30 ऐसे देश जहां अल्पसंख्यक वर्ग के लिए अपेक्षाकृत अप्रभावी कानून बनाए गए हैं.

लेकिन भारतीय सरकार ने इस रिपोर्ट को पूरी तरह से अस्वीकार कर दिया!

दुनिया में भारत का नाम कलंकित करने का, यह अमरीका द्वारा रचा गया कोई षड्यंत्र तो नहीं?

क्या अमरीका में यह सब नहीं होता? अमरीका के टेक्सस राज्य में एक हिंदू मंदिर की दीवारों पर भी अभद्र चित्र बनाए गए थे! अमरीका ऐसे मुद्दों को क्यों नहीं उठाता?

सिर्फ अमरीका नहीं, बल्कि भारत के पूर्व यूनियन मिनिस्टर, अरुण शोरी ने भी, लव जिहाद और घर- वापसी जैसे संगीन मामलों पर, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर खूब सवाल उछाले! अरुण शोरी जी ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की भी खूब आलोचना की.

एक तरह से देखा जाए तो अरुण शोरी की बातें सही भी हैं. नरेंद्र मोदीजी बिज़नस की और भारत के विकास की बड़ी-बड़ी बातें तो करते हैं लेकिन वहीँ, घर-वापसी और लव जिहाद से सम्बंधित अपराधों पर कोई टिप्पणियाँ नहीं करते. और जब की यह भारत की ‘सहनशीलता’ की ताकत का सवाल है.

Love-Jihad

Love Jihad

भारत के प्रधान मंत्री की ऐसी मामलों पर चुप्पी उनके चरित्र का एक अलग ही पहलू दर्शाती है. यह सही मौक़ा है कि माननीय प्रधान मंत्री जी अपना मौन तोडें और अपने आलोचकों को जवाब दें.

अमरीका का बार-बार एशियाई देशों पर निशाना साधना भी अमरीका के चरित्र पर एक अलग ही सवाल उठाता है.

अब आप यानी इस देश की जनता ही इस सवाल का सही जवाब दे सकती है, क्या घर-वापसी और लव जिहाद जैसे जातिवाद वाले मामले भारत जैसे देश के लिए, जहां सभी धर्म के लोग मिल जुल कर रहते हैं, हानिकारक है या लाभदायक है?

और इस प्रश्न का जवाब जनता को सोच समझकर ही देना पडेगा, क्योंकि भारत देश के दो अमूल्य गुण, जिनके लिए भारत देश दुनिया भर में जाना जाता है, अर्थात, धर्मनिरपेक्षता और विविधता में एकता, इन दोनों का सवाल है!

जय हिन्द!

Don't Miss! random posts ..