ENG | HINDI

8 साल के इस सीरियल किलर की हैवानित सुन जब पुलिस भी रह गई दंग !

आज भी सीरियल किलिंग की कई घटनाओं का जिक्र सुनने को मिलता है जिनके बारे में जानकर हैरत होती है. इतिहास के पन्नों में सीरियल किलिंग के कई खौफनाक किस्से दर्ज हैं.

आमतौर पर सीरियल किलर को मानसिक रुप से विकृत माना जाता है लेकिन आज हम आपको एक ऐसे सीरियल किलर की खौफनाक दास्तान बताने जा रहे हैं जिसकी उम्र महज 8 साल है लेकिन उसका जुर्म इतना बड़ा है कि अच्छे-अच्छों के पसीने छूट जाएं.

8 साल के सीरियल किलर की हैवानियत

इस बात पर यकीन करना बेहद मुश्किल है लेकिन ये सच है कि खेलने-कूदने की छोटी सी उम्र में एक 8 साल का बच्चा सीरियल किलर बन गया. इस बच्चे की मासूमियत को देखकर कोई भी धोखा खा सकता है लेकिन इस बच्चे पर एक नहीं बल्कि तीन-तीन लोगों को मौत के घाट उतारने का आरोप है.

इस 8 साल के अपराधी ने 2 बच्चों के साथ एक बड़ी उम्र के व्यक्ति को दर्दनाक मौत दी थी. खबरों के अनुसार पुलिस ने जब इन हत्याओं की जांच की तो उन हत्याओं का कातिल उनके सामने ही था लेकिन पुलिस को विश्वास नहीं हो रहा था कि एक 8 साल का बच्चा तीन लोगों को मौत के घाट उतार चुका है.

अपनी 6 महीने की बहन को भी नहीं बख्शा

बिहार के बेगूसराय के मुसहरी गांव में रहनेवाले 8 साल के इस सीरियल किलर का नाम अमरदीप सदा बताया जाता है.

दअसल साल 2007 में इस गांव में एक के बाद एक करके दो मासूम बच्चों का कत्ल हो गया था और हत्यारे का कोई सुराग नहीं मिल रहा था. इन हत्याओं से पूरे गांव में दहशत का माहौल बन गया था लेकिन इसके बाद एक जवान व्यक्ति की हत्या की घटना ने सबको हैरत में डाल दिया.

खबरों के मुताबिक 8 साल के आरोपी अमरदीप ने सबसे पहले अपनी 6 महीने की बहन को मौत के घाट उतार दिया था. उसने अपनी बहन के सिर पर पत्थर से वार करके उसे मौत के घाट उतार दिया था और बाद में उसकी लाश को खेत में दबा दिया. जब अपनी ही बहन की हत्या करके उसका पेट नहीं भरा तो उसने अपनी दरिंदगी का दूसरा शिकार अपने ही चचेरे भाई को बनाया.

लोगों की हत्या करने में उसे आता था मज़ा

इन हत्याओं की तफ्तीश करते-करते जब पुलिस इस 8 साल के हत्यारे तक पहुंची तब उसे हिरासत में लेकर उससे पूछताछ शुरू की. पूछताछ के दौरान जब पुलिस ने आरोपी अमरदीप सदा से इन हत्याओं की वजह पूछी तो जवाब सुनकर पुलिस भी हैरान रह गई.

इस छोटे से सीरियल किलर ने अपना गुनाह कबूल करते हुए बताया कि लोगों को मारने में उसे मज़ा आता था और वो सिर्फ मज़े के लिए ही लोगों की हत्या करता था.

बताया जाता है कि अमरदीप अपने हर गुनाह को कबूल करने के बदले में बिस्किट मांगता था और उसे बिस्किट देकर ही पुलिस को इन तीनों हत्याओं की सच्चाई पता चली.

गौरतलब है कि पुलिस की डांट का भी इस कातिल बच्चे पर कोई असर नहीं पड़ रहा था. आखिरकार इस सीरियल किलर को सुनवाई के बाद बाल सुधार गृह में भेज दिया गया. लेकिन छोटी सी उम्र में इस आरोपी ने सीरियल किलिंग की वारदातों को अंजाम देकर पूरे इलाके में दहशत मचा दी थी.

 

 

Don't Miss! random posts ..