ENG | HINDI

इस तरह आप खुद देख सकते हैं अपना भविष्य !

भविष्य

भविष्य – मनुष्‍य का शरीर चाहे कितना भी कमज़ोर या ताकतवर क्‍यों ना हो उसकी आत्‍मा पूरी तरह से सशक्‍त और ताकतवर होती है। आप सोच भी नहीं सकते,  इतनी ज्‍यादा शक्‍ति हमारे भीतर छिपी होती है। इस शक्‍ति को जानना, समझना और पहचानना मुश्किल जरूर है लेकिन नामुमकिन नहीं है।

कभी-कभी हमारे साथ कुछ ऐसा होता है जिसकी भनक हमें पहले से ही लग जाती है। ये कुछ अच्‍छा भी हो सकता है और बुरा भी। आपने भी कई बार अहसास किया होगा कि आपको आने वाली किसी घटना का अहसास पहले ही हो गया होगा। क्‍या आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्‍यों होता है?

दरअसल, ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि आपके अंदर बैठी शक्‍ति आपको पूर्वानुमान करने की क्षमता देती है।

आम भाषा में आप इस अहसास को इंट्यूशन या आभास कहते हैं। कुछ लोग इसे बुद्धिमत्ता का अगला पड़ाव भी कहते हैं। वैज्ञानिक ने भी इंसान के अंदर छिपी भीतरी शक्‍ति को माना है। अगर आप अभी तक अपने भीतर छिपी शक्‍तियों से अंजान हैं, अभी तो आप अपनी आत्‍मा की क्षमता को पहचान नहीं पाए हैं तो उसके लिए आपको सबसे पहले अपने अंदर की भीतरी शक्‍ति को जागृत करने की जरूरत है।

आइए जानते हैं कि किस तरह आप अपनी आत्‍मा की शक्‍ति को पहचानकर उसे जागृत कर सकते हैं। इसे जागृत करने के बाद आप भविष्य में होने वाली घटनाओ का पूर्वानुमान लगा सकते हैं। इसके कुछ तरीके आपके काम आ सकते हैं।

– अपनी भीतरी शक्‍ति को जागृत करने का सबसे सरल तरीका है ध्‍यान। ध्‍यान के माध्‍यम से मानसिक और आत्‍मिक रूप से शांत रह कर आप अपनी भीतरी शक्‍तियों से संबंध कायम कर सकते हैं। अपनी श्‍वास, आसपास की घटनाओं और साथ ही अपनी थर्ड आई यानि तीसरी आंख पर ध्‍यान दें।

– कई बार हम ऐसी चीज़ों में उलझ जाते हैं जो हमारे लिए कोई मायने नहीं रखती है। ये बातें हमारे भविष्य या अतीत से जुड़ी हो सकती हैं, जिनका हमारे वर्तमान से कोई संबंध नहीं है। ये सभी बातें हमारी आध्‍यात्मिक ऊर्जा और शक्‍तियों को बाधित करती हैं। सबसे पहले इनसे बचते हुए हमे हमेशा अपने वर्तमान के बारे में सोचना चाहिए।

– अगर आप अपने वर्तमान से खुश नहीं हैं या उसमें उलझकर रह गए हैं तो आपको अपने ऊपर और अपने मन पर विश्‍वास करना चाहिए। किसी भी तरह की मुश्किल या परिस्थिति से निकलने के लिए आपको अपने मन की सुननी चाहिए। मन की आवाज़ की राह पर ही चलें।

– हमारे आसपास के वातावरण में अच्‍छी और बुरी सभी तरह की ऊर्जाए होती हैं। इनमें से अगर कोई आपको कोई संदेश देना चाहती हैं तो आपको अपने पास एक अजीब सी वाइब्रेशन महसूस होगी। अगर आपको कुछ ऐसा महसूस होता है तो उसे गंभीरता से लें और समझें कि वो आपको किस ओर इशारा कर रही हैं।

– जब आप अपने इंट्यूशन पर भरोसा करने लगेंगें तो आप अपने आसपास के वातावरण में मौजूद ऊर्जाओं को और बेहतर तरीके से जानने लगेंगे। आपको कुछ ऐसे अहसास हो सकते हैं जिनके ज़रिए आपको वास्‍तविकता का ज्ञान होगा और आप सही और गलत के बीच भेद कर पाएंगें।

अगर आप इन तरीकों से अपने भीतर की शक्‍ति को जागृत कर लेते हैं तो आप अपने और अपने आसपास के दूसरे लोगों के भविष्य का अनुमान लगा सकते हैं।

Don't Miss! random posts ..