ENG | HINDI

इस बेटे ने क्यों ठुकरा दिया अपने पापा का अरबों डॅालर का साम्राज्य ! जानिये क्यों !

वांग सिकांग

हम अक्सर ये कहावत सुनते आए हैं कि पैसा किसे बुरा लगता है.

लेकिन चीन के सबसे बड़े रईस कारोबारी के बेटे ने इस कहावत को झुठला दिया है.

चीन के अरबों के साम्राज्य वाले डालियान वांडा ग्रुप के मालिक के बेटे ने अपने पिता की संपत्ति को लेने से साफ इंकार करते हुए कहा है कि उसे इसमें कोई रूचि नहीं है.

देखा गया है कि आजकल बेटों में मां बाप की संपत्ति को लेकर झगड़े होते हैं. हर किसी की नजर पैतृक संपत्ति पर होती है. पिता की संपत्ति को लेकर भारत में जाने माने उद्योगपति रिलायंस ग्रुप में भाईयों के बीच विवाद जग जाहिर है. लेकिन चीन में 92 अरब अमेरिकी डॉलर के साम्राज्य के मालिक और देश के सबसे बड़े रईस वांग जियानलिन के बेटे वांग सिकांग ने अपने पिता की विरासत को लेने से साफ इन्कार कर दिया है.

जियानलिन का कहना है कि उन्होंने अपने अरबों के कारोबार को संभालने के लिए अपने बेटे से बात की थी लेकिन वे उसका उत्तर सुनकर अवाक रह गए. कारोबार को संभालने के बदले उन्हें बेटे से जो जवाब मिला उसकी कल्पना जियानलिन ने सपने में भी नहीं की थी.

चीनी कारोबारी के इस बेटे वांग सिकांग ने अपने पिता से कहा कि वह वैसी जिंदगी नहीं जीना चाहता, जैसी उसके पिता ने जी है. वह अपने जीवन  को अपने तरीके से जीना चाहता है. उसके जीवन का मकसद दुनिया में दिन रात पैसा कमाकर नाम कमाना नहीं है.

पिता के बार बार समझाने का वांग सिकांग पर कोई असर न होता देखकर जियानलिन ने भी तय किया है कि वह अपने बेटे वांग सिकांग के जीवन में कोई हस्तक्षेप नहीं करेगा. वह बेटे को उसके तरीके से जीवन जीने की छूट देगा. जियानलिन का मानना है कि आज के युवा अलग तरीके से सोचते हैं. जीवन को लेकर युवा लोगों की अपनी जद्दोजहद और प्राथमिकताएं होती हैं. इसलिए जियानलिन ने तय किया है कि वह अब अपने अरबों के कारोबार को प्रोफेशनल मैनेजरों के हवाले कर देंगे. यही कंपनी के लिए भी बेहतर रहेगा.

इसलिए जियानलिन ने अब अपने उत्तराधिकारी की तलाश शुरू कर दी है.

अब प्रोफेशनल मैंनेजरों के ग्रुप में से उत्तराधिकारी चुना जाएगा जो उनके अरबों के कारोबार को संभालेगा.

आप को बता दें कि ये वांग जियानलिन वहीं चीनी कारोबारी है जिन्होंने कुछ समय पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर उनसे हरियाणा में एक चीनी मिल परियोजना में 10 अरब अमेरिकी डॉलर निवेश करने का वादा किया था. शॉपिंग मॉल, थीम पार्क, स्पोर्ट्स क्लब तथा सिनेमा घरों के स्वामित्व वाले डालियान वांडा ग्रुप के संस्थापक और चेयरमैन 62 वर्षीय वांग जियानलिन ने इस मुकाम को हासिल करने के लिए बहुत संघर्ष किया है.

जियानलिन ने 1988 में चीन के डालियान शहर से एक छोटे-मोटे डेवलपर के रूप में ग्रुप की शुरुआत हुई थी.

आज डालियान वांडा ग्रुप के पास शॉपिंग मॉल, होटल, थीम पार्क के साथ ही दुनिया में सबसे ज्यादा सिनेमा हॉल हैं.

Article Categories:
विशेष

Don't Miss! random posts ..