ENG | HINDI

योगी के इस फैसले के बाद जेल जा सकती है मायावती !

चीनी मिल घोटाले

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक ऐसा फैसला किया है जिसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमों मायावती की मुश्किलें बढ़ सकती है.

अगर जांच में उनको दोषी पाया गया तो उनको जेल भी जाना पड़ सकता है. आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मायावती सरकार में चीनी मिल घोटाले की जांच के आदेश दिए हैं.

यही नहीं मुख्यमंत्री योगी ने कहा है कि जरूरत पड़ी तो 2010-11 में हुए 1100 करोड़ रुपये के चीनी मिल घोटाले की सीबीआई जांच भी कराई जा सकती है. अगर ऐसा हुआ तो पहले से सीबीआई जांच का सामना कर रही बसपा सुप्रीमों मायावती पर मुख्यमंत्री पद पर रहते भ्रष्टाचार का ये एक ओर मामला होगा.

गौरतलब है कि मायावती के मुख्यमंत्री काल उनकी सरकार ने उत्तर प्रदेश शुगर कॉरपोरेशन और राज्य चीनी एवं गन्ना विकास निगम लिमिटेड की कुल 21 चीनी मिलों को औने-पौने दामों में बेच दिया गया था. उस वक्त आरोप लगे थे कि जितने में ये शुगर मिलें बिकी है उससे अधिक की तो उसमें चीनी और शीरा आदि का भंडार जमा था.

माया सरकार द्वारा नियमों को ताक पर रखकर जिस प्रकार चीनी मिलों की नीलामी कुछ चीनी और शराब के कारोबार में लगे को की गई उसका उस समय बहुत विरोध हुआ था. बाद में जब सीएजी ने इस मामले की जांच की थी, तो उसने पाया कि इस प्रकार नियमों को ताक पर रखकर नीलामी करने से – चीनी मिल घोटाले से सरकार को 1179 करोड़ का घाटा हुआ था.

बहराल, योगी ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को सरकारी संपत्तियां को औने-पौने दामों पर बेचने का कोई हक नहीं है. यह जनता की संपत्ति है. इसका दुरुपयोग नहीं होने दिया जाएगा.

गौरतलब है कि इन चीनी मिलों को पोंटी चढ्ढा समूह के अलावा कुछ अन्य व्यवसायियों ने खरीद लिया था. सीएजी की रिपोर्ट के गड़बड़ी के खुलासे के बावजूद इस मामले में पूर्व की अखिलेश सरकार ने कोई ऐक्शन नहीं लिया था.

यही नहीं इसको लेकर मामले को अदालत में ले जाने लोगों ने इसकी शिकायत राज्य लोकायुक्त से भी लेकिन मामले में कोई कार्यवाही नहीं हुई.

लेकिन अब जब से यूपी में योगी सरकार आई है उसके बाद से लोगों को उम्मीद जगी है कि अब जनता के पाई पाई का हिसाब होगा.

Don't Miss! random posts ..