ENG | HINDI

8वी फेल ये लङका है करोङपति, मुकेश अंबानी है क्लाइंट !

त्रिशनीत अरोरा

त्रिशनीत अरोरा – किसी भी माता पिता के लिए आज के वक्त में अपने बच्चों की शिक्षा से ज्यादा कुछ भी जरुरी नही है, जिसके लिए पैरेंट्स अपने बच्चों को बढिया से बढिया  स्कूल में डालते हैं।

इस उम्मीद में की उनका बच्चा कुछ बनकर दिखाएगा और उनका नाम रोशन करेगा । लेकिन जरुरी तो नही हर बच्चा  पढाई में अच्छा हो । अगर बच्चे स्कूल में फेल हो जाए तो माता पिता का विश्वास अपने बच्चों से उठ जाता है और ज्यादातर पैरंट्स को  लगने लगता है उनका बच्चा लाइफ में कर भी पाएगा या नहीं, जिसे हमेशा ये सवाल उठता है कि क्या किसी की कामयाबी के लिए स्कूल के नंबर मायने रखते है ?

क्या स्कूल काॅलेज में फेल होने के बाद आप कामयाब नही बन सकते हैं ?

शायद आपके दिमाग में बी अक्सर यही सवाल उठते होंगे जब आप किसी चीज में पीछे रह जाते होंगे। लेकिन इन सवालों  का जवाब है क्यों नही ?

शिक्षा जिंदगी के लिए महत्वपूर्ण होती है लेकिन हमारी कामयाबी हमारे हाथ में होती है । अगर फेल हो भी जाए तो इसका मतलब ये नही है कि आप नाकामयाब हो गए । रास्ते बहुत है बस ढूंढने की जरुरत है ।

जैसे मुबंई के इस 8वीं फेल लङके ने बनाई जिसका नाम  त्रिशनीत अरोरा है ।  त्रिशनीत अरोरा इस वक्त टीएके सिक्योरिटी एलायंस नाम की कंपनी के मालिक है इस वक्त जिसकी कीमत 2000 हजार करोङ है । ये कंपनी दूसरी  कंपनियों की सिक्युरिटी और कंम्प्यूटर से जुङी अन्य समस्याओं को सुलझाती है।

त्रिशनीत अरोरा

त्रिशनीत अरोरा को बचपन से ही कंम्प्यूटर और डिवाइजस में काफी दिलचस्पी  थी । त्रिशनीत अरोरा अपने खिरौनो को तोङ मोङ कर उन्हे ठीक है करने में लग जाते । ऐसा ही वो अपनी वीडियो गेम्स के साथ भी करते । त्रिशनीत अरोरा अपने बेटे ईए लिए जब कंम्प्यूटर लेकर आए ये सोचकर कि आज के वक्त में कंम्प्यूटर सीखना काफी जरुरी है । लेकिन उन्हे क्या पता था उनका बेटा  कंम्प्यूटर का दीवाना हो जाएगा । त्रिशनीत अरोरा का ध्यान पढाई से हट गया जिस वजह से वो आठवीं में फेल हो गया। इस बात पर त्रिनिशत के माता पिता काफी गुस्सा हुए । लेकिन जल्द उन्हें समझ आ गया कि उनके बेटे का मन पढाई से उठ चुका है और आखिर में उन्होंने अपने बेटे को स्कूल से निकाल दिया । और अपने बेटे के कंम्प्यूटर में दिलचस्पी को बढावा सही समझा ।

त्रिशनीत अरोरा 19 साल की उम्र में ही साफ्टवेयर  क्लीनिंग और  कंम्प्यूटर फिक्सिंग में माहिर हो गए । त्रिशनीत अरोरा को पहली बार किसी के लिए साफ्टवेयर किलनर का काम करने पर 60 हजार का चेक मिला । जो 19 साल के लङके बहुत मायने रखता था जिसने सिर्फ आठवी तक पढाई की थी।इसके बाद त्रिशनित ने अपनी टीएके कंम्प्यूटर सल्यूशन नाम की  कंपनी खोली ।अभी त्रिशनित अरोरा की उम्र महज 22  साल है। और उनकी कंपनी सालाना टनओवर करोङो में जाने लगा  है ।कंपनी की मार्केट वैल्यू इस वक्त 2000 हजार करोङ है ।

और आपको जानकर हैरानी होगी कि त्रिशनीत अरोरा की कंपनी इंडिया की बङी बङी कंपनियों के लिए सेक्यूरिटी और साफ्टवेयर क्लीनिंग का काम करती है जिसमें इंडिया के नंबर वन उद्योगपति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज भी शामिल है ।साथ ही त्रिशनित अरोरा पंजाब स्टेट के एडवाइजर भी है औऔर क्राइम ब्रांच और सीबीआई के लिए भी काम करते है ।

त्रिशिनत अरोरा ने अपनी कामयाबी से ये साबित किया कि शिक्षा ज्ञान देती है किस्मत नही लिखती ।

Don't Miss! random posts ..