ENG | HINDI

भारतीय सेना और शहीदों की शहादत को सलाम करने के लिए अथर्व फाउंडेशन का भव्य कार्यक्रम !

भारतीय सेना के जवान अपनी मातृभूमि की आन बान और शान की रक्षा के लिए मर मिटने को तैयार हो जाते हैं. ये सैनिक अपनी जान हथेली पर लेकर सरहद पर दुश्मनों से पूरे देश की रक्षा करते हैं. कई बार दुश्मनों से लड़ते वक्त हमारे ये जवान वीरगति को प्राप्त हो जाते हैं. लेकिन देश के लिए उनकी शहादत को लोग कुछ ही समय में भूल जाते हैं.

शहीदों की बहादूरी के किस्से आम लोगों और देश की युवा पीढ़ी तक पहुंच सके इसके लिए बीते कुछ समय से अथर्व फाउंडेशन वन फॉर ऑल, ऑल फॉर वन मुहिम के तहद देश के विभिन्न इलाकों में जाकर शहीद जवानों के परिवारों से मुलाकात कर रही थी.

देश पर मर मिटनेवाले कई शहीद जवानों के परिवार वालों से मुलाकात कर उनकी दिलेरी और जाबांजी के किस्सों को सुनकर इस संस्था ने इसे आम जनता और देश के युवा पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए 31 जनवरी 2018 को एक भव्य सम्मान समारोह का आयोजन किया.

राजनीति और बॉलीवुड के दिग्गज सितारों ने की शिरकत

भारतीय सेना के जवानों को सम्मानित करने और शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए 31 जनवरी को मुंबई में आयोजित इस भव्य समारोह में राजनीति और बॉलीवुड इंडस्ट्री के सितारों ने हिस्सा लिया.

इस समारोह में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, मथुरा से सांसद और अभिनेत्री हेमा मालिनी, अमीषा पटेल, सोनल चौहान, नील नितिन मुकेश, आफताब शिवदसानी और जाने माने डायरेक्टर मधुर भंडारकर ने शिरकत की.

इसके साथ ही भारतीय सेना का हिस्सा बनकर देश की निस्वार्थ सेवा करनेवाले लेफ्टिनेंट जनरल विश्वंभर सिंह, परम वीर चक्र विजेता रिटायर्ड कैप्टन बाना सिंह, परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र सिंह यादव और परमवीर चक्र विजेता सुबेदार संजय कुमार मुख्य अतिथि के रुप में शामिल हुए. इतना ही नहीं इस सम्मान समारोह का साक्षी बनने के लिए लाखों की तादात में लोगों ने हिस्सा लिया.

सीएम फडणवीस और केंद्रीय मंत्री गडकरी ने किया जवानों को सलाम

इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारतीय सेना के जवानों को सलाम करते हुए कहा कि हमारे सैनिक माइनस 45 डिग्री में भी तैनात रहकर दिन रात सरहद की निगरानी करते हैं. ये शूरवीर प्रतिकूल परिस्थियों में भी अपनी जान हथेली पर लेकर देश की रक्षा करते हैं ताकि देश के करोड़ों हिंदुस्तानी चैन से अपने घरों में सो सके.

वहींं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि देश के प्रति प्यार जताने के लिए हमें सिर्फ 26 जनवरी या 15 अगस्त का इंतजार नहीं करना चाहिए बल्कि देशभक्ति के इस अलख को हमेशा अपने दिल में जलाकर रखना चाहिए.  उन्होंने कहा कि हमारे देश की जनता को इन सैनिकों से प्रेरणा लेनी चाहिए और देश में फैले भ्रष्टाचार, हिंसा, रिश्वतखोरी के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमारे देश में शौर्य और त्याग की पूजा की जाती है इसलिए हमारे देश के सैनिकों को सम्मान मिलना चाहिए.

देवेंद्र फडणवीस ने इस मौके पर देश के लिए शहीद होनेवाले जवानों के परिवार वालों को दी जानेवाली राशि को साढ़े आठ लाख रुपये से बढ़ाकर 25 लाख रुपये करने का ऐलान भी किया.

देश के शहीद जवानों की वीरगाथा को सुनकर भावुक हुए लोग

इस समारोह के ज़रिए न सिर्फ भारतीय सेना के जवानों के प्रति सम्मान जाहिर किया गया बल्कि शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ ही उनकी वीरता की गाथाओं से जन-जन को अवगत कराया गया.

देश के अलग-अलग इलाकों से शहीदों के परिवार वालों से मिलकर उनकी वीरता की कहानियों को इकट्ठा करके इस संस्था ने इस कार्यक्रम के जरिए लोगों तक पहुंचाने की कोशिश की.

देश के सम्मान और उसके गौरव की रक्षा करने के लिए अपने प्राण न्योछावर करने वाले कई वीर जवानों की शहादत की गाथाओं से लोगों को रूबरू कराया गया जिसे सुनकर इस कार्यक्रम में उपस्थित लोग बेहद भावुक हो गए.

गौरतलब है कि वन फॉर ऑल, ऑल फॉर वन मुहिम ते तहद अथर्व फाउंडेशन देश की आवाम तक शहीदों और सेना के जवानों की वीरता की कहानियों को पहुंचाकर युवाओं के दिल में देशभक्ति का अलख जगाना चाहती है, ताकि देश के ज्यादा से ज्यादा युवा इन सैनिकों से प्रेरित होकर देश की सेवा में अपना योगदान दे सकें.

Don't Miss! random posts ..