ENG | HINDI

कहीं दांतो की सड़न दिल तक ना पहुंच जाए !

दांतो की सड़न

दांत से जुड़ी जिस समस्या के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं, उस समस्या से जुड़ी परेशानियों से शायद ही कोई अवगत हो.

दांत के छोटे-मोटे इन्फेक्शन और दर्द इत्यादि को हम साधारण सी बात समझ कर इग्नोर करते रहते हैं, जो कि हमारे लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है.

इसलिए अगर आप भी दांतो की सड़न को हल्के में लेने वालों में से हैं तो जरा संभल जाइए, क्योंकि रुट इंफेक्शन दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों को पैदा करने वाला हो सकता है.

शोधकर्ता जॉन लिजेस्ट्रैंड जो कि फिनलैंड स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ हेलसिंकी के शोधार्थी हैं, इनके अनुसार अगर आपको डॉक्टर ने रूट कैनाल कराने की हिदायत दी है, या आपको खुद लगता है कि आपके दांतों में इस तरह की कोई परेशानी है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर इसे करा लें. नहीं तो अगर आप इलाज में देरी करते हैं, तो ये आपके लिए दूसरी बीमारी को शरीर में पनपने में मदद करेगा.

विशेषज्ञों की माने तो जिन लोगों को दांतो की सड़न से जुड़ी परेशानी होती हैं उन्हें एक्यूट कोरेनरी सिंड्रोम का खतरा 2.7 फ़ीसदी तक बढ़ जाता है.

डेंटल रुट टिप संक्रमण को एपिकल पीरियडोंटाइटिस का भी कहना है कि दांतों की जड़ों के ऊपरी भाग के चारों ओर एक तेज संक्रमण होता है और इसकी मुख्य वजह दांतो की सड़न होती है.

अध्ययनकर्ताओं ने इस शोध के लिए इंग्लैंड के 508 मरीजों का अध्ययन किया, जिनकी आयु लगभग 62 वर्ष थी. इस अध्ययन में ये नतीजा निकला की ये सभी लोग हार्ट पेशेंट थे.

अध्ययनकर्ताओं का कहना है कि अगर आप दिल से जुड़ी समस्याओं से बचे रहना चाहते हैं, तो अपने दांतों की जांच कराएं.

इसका पूरा ध्यान रखें. अगर आपको रूट कैनाल कराने की सलाह दी गई हो तो उसे जल्द हीं करा लें. शोध के निष्कर्ष के अनुसार मुंह का संक्रमण शरीर के अन्य दूसरे हिस्सों को भी प्रभावित करने में कारगर है.

दोस्तों यह अध्ययन ‘जर्नल ऑफ डेंटल रिसर्च’ में प्रकाशित किया गया है.

Article Categories:
सेहत

Don't Miss! random posts ..