ENG | HINDI

1700 रुपए कमाने वाली ये लड़की अब करती है करोड़ों में कमाई

करोड़ों कमानेवाली लड़की

करोड़ों कमानेवाली लड़की – वक्‍त भी अजीब चीज़ है, कभी एक जैसा नहीं होता।

आज वक्‍त अच्‍छा है तो कल बदल भी सकता है। इसलिए आपको कभी भी निराश नहीं होना चाहिए और ना ही अपने बुरे वक्‍त में हिम्‍मत हारनी चाहिए।

कभी 1700 रुपए में नौकरी करने वाली अंजलि का भी ऐसा ही हाल था। आपको जानकर थोड़ी हैरानी जरूर होगी लेकिन ये बात सच है कि कभी 1700 रुपए कमाने वाली अंजलि आज करोड़ों कमानेवाली लड़की है – हर महीने 12 से 15 लाख रुपए का बिजनेस करती है।

अंजलि की कंपनी का टर्नओवर 1 करोड़ से भी ज्‍यादा का है। अंजलि कहती हैं कि उनका सपना तो एयर होस्‍टेस बनने का था लेकिन खानदान की एकलौती लड़की होने की वजह से उसे घरवालों ने दूर पढ़ने की इज़ाजत नहीं दी। तो फिर उसे लखनऊ यूनिवर्सिटी से ही एमबीए करनी पड़ी।

करोड़ों कमानेवाली लड़की –

साल 2001 में एमबीए करने के बाद लखनऊ के शिवगढ़ रिजॉर्ट में चेन मार्केटिंग की पोस्‍ट पर उसे नौकरी मिल गई। उस समय उसे सैलरी के नाम पर महीने में सिर्फ 1700 रुपए मिला करते थे। कुछ महीने बाद अंजलि ने इस जॉब को भी छोड़ दिया।

इसके बाद उसने साल 2011 में आईसीएफआई यूनिवर्सिटी की लखनऊ ब्रांच में काउंसलर की पोस्‍ट पर ज्‍वाइन किया जहां पर उसे 4 हज़ार रुपए मासिक वेतन मिला करता था। इसके 2 साल बाद प्रमोशन हुआ और वो उसी कंपनी में मार्केटिंग मैनेजर बन गईं और उसकी सैलरी 20 हज़ार हो गई।

बस, यहीं से अंजलि के मन में खुद को बिजनेस शुरु करने का ख्‍याल आया और उसने साल 2009 में अपने पिता के एनजीओ में काम करने वाली शबनत को अपने साथ लेकर जूट के बैग और दूसरे आइटम्‍स बनाने का काम शुरु किया।

धीरे-धीरे अंजलि की कंपनी से 25 से 30 महिलाएं जुड़ गईं और कंपनी शुरु करने के लिए सरकारी बैंक ने 25 लाख रुपए का लोन भी दे दिया। साल 2017 में भारतीय सेवा संस्‍थान एनजीओ को जुटआरटीशियंस ग्रिल्‍ड प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के तौर पर रजिस्‍टर्ड कराया।

आज अंजलि की इस कंपनी की लखनऊ में ही 4 ब्रांचें हैं। इसमें 200 से ज्‍यादा महिलाएं काम करती हैं और कंपनी का सालाना टर्नओवर 1 करोड़ से भी ज्‍यादा है।

अंजलि की शादी 2006 में बनारस के रहने वाले शैलेंद्र सिंह से हुई थी जोकि दिल्‍ली की कंपनी के बिजनेस स्‍कूल में वाइस प्रेजिडेंट थे। शादी के कुछ साल बाद ही अंजलि के पति ने नौकरी छोड़कर अपनी पत्‍नी की ही कंपनी ज्‍वॉइन कर ली।

अंजलि की कहानी सुनकर आपको भी जरूर प्रेरणा तो मिली ही होगी। अगर अंजलि की तरह सभी महिलाएं थोड़ी हिम्‍मत जुटाएं तो उन्‍हें कभी कोई परेशानी नहीं होगी।

अंजलि जैसी महिलाओं को देखकर ही लगता है कि भारत में महिला सशक्‍तिकरण का नारा सफल हो रहा है क्‍योंकि अंजलि ने ना केवल अपना भविष्‍य सुधारा बल्कि उसने अपने साथ काम करने वाली कई महिलाओं को भी रोज़गार दिया और उनका सहारा बनीं।

ये है करोड़ों कमानेवाली लड़की अंजलि की कहानी –  अगर आपकी मां, पत्‍नी या बहन भी अपनी मर्जी से कुछ करना चाहती है तो आपको भी पूरे दिल से उनका साथ देना चाहिए। क्‍या पता अंजलि की तरह उनकी भी किस्‍मत चमक जाए। तो सोच क्‍या रहे हैं अभी अपने सपनों को सच करने की कोशिश शुरु कर दीजिए।

Don't Miss! random posts ..