ENG | HINDI

क्या आप जानते हैं क्रिकेट को हिंदी में क्या कहते हैं?

चीज़ों के हिंदी नाम

चीज़ों के हिंदी नाम – आज के दौर में स्पोर्ट खुल कर विकसित हुआ है, फिर चाहे वह कोई मुस्लिम कंट्री हो या फिर ईसाई. या फिर इन सबसे बढ़ कर भारत।

आज के दौर में कोई भी देश हो या कोई भी समाज, शारीरिक विकास के लिए स्पोर्ट अनिवार्य हो चूका है। आज के दौर में स्पोर्ट के लोकप्रिय होने का एक दूसरा कारण ये भी है कि प्रत्येक देश स्पोर्ट को देश के सम्मान की प्रतिस्पर्धा के रूप में भी देखता है. इसलिए इसे सरकार और नागरिकों द्वारा और भी ज्यादा प्रायोरिटी दी जाती है।

इस विश्व में कुछ खेल ऐसे हैं जो लोगों के दिल और अहम् से जुड़े हुए हैं उनमें से क्रिकेट मुख्य है। आज-कल के लोगों में बड़ी आसानी से क्रिकेट के लिए क्रेजीपन्ति देखी जा सकती है। और हो भी क्यों ना . क्रिकेट में रोज नए इतिहास भी तो बन रहे हैं. और भारत में एक दूसरी वजह ये भी है कि क्रिकेट का बॉलीवुड से लगातार लगाव बढ़ रहा है। इन दोनों के करीब आने से लोगों द्वारा क्रिकेट को और भी अधिक महत्व दिया जाने लगा है। जो क्रिकेट के लिए अच्छी खबर है।

लेकिन आज हम बात करने वाले हैं क्रिकेट के हिंदी नाम को लेकर.

चीज़ों के हिंदी नाम

हम सब जानते हैं क्रिकेट इंग्लिश गेम हैं, इसलिए हमने उसे उसके इंग्लिश नाम के साथ ही अपना लिया लेकिन आपको बता दें कि इस दुनिया में ऐसी कोई चीज नहीं जिसका हिंदी नाम ना हो. इस दुनिया में चीज़ों के हिंदी नाम है और आज हम बताने वाले कुछ ऐसी चीज़ों के हिंदी नाम जिनके बारे में आपने कभी नहीं सोचा होगा.

चीज़ों के हिंदी नाम – 

क्रिकेट का हिंदी नाम– “गोल गट्टम लकड़ बग्घम दे दना दन प्रतियोगिता”

जैकेट का हिंदी नाम – फतुई

मोबाइल का हिंदी नाम– दूरभास यन्त्र

Pendrive का हिंदी नाम– स्मृतिशलाका

फिल्म का हिंदी नाम– चलचित्र

पेट्रोल का हिंदी नाम– ईधन या ध्रुव स्वर्ण

सिगरेट का हिंदी नाम– धूम्रपान दंडिका

टाई का हिंदी नाम– कंठ लंगोटी

T-shirt का हिंदी नाम– बिना आस्तीन वाली कमीज

एम्बुलेंस का हिंदी नाम– रोगी वाहिनी

ओक्सिजन का हिंदी नाम–  ओषजन

हाइड्रोजन का हिंदी नाम– उद्जन

Centrifugal फ़ोर्स–  केंद्रप्रसारी या अपकेन्द्रिय बल

Centripetal फ़ोर्स-  केंद्रगामी या अभिकेन्द्रीय बल

क्लोरोफिल-पर्णहरिम

अभी आपने इन चीज़ों के हिंदी नाम पढ़े, इनमे से अधिकतर नाम ना तो इन्टरनेट में उपलब्ध हैं और ना ही अधिकतर आधुनिक किताब में। क्योंकि लोगों ने अपनी सुविधा के अनुसार उर्दू और इंग्लिश से शब्द लिए और उन्हें हिंदी में मिला दिया जिसके परिणाम स्वरुप हिंदी के कुछ शब्द लोगों की जीवन शैली से विलुप्त हो गए।

लेकिन आपको बता दें की आज भी ऐसी किताबें उपलब्ध है जिनमें ये शब्द आसानी से मिल जाते हैं। और ऐसी ही एक किताब का नाम है “तोड़ो कारा तोड़ो” जी हाँ, हिंदी के महान लेखक नरेन्द्र कोहली द्वारा लिखी गई यह किताब स्वामी विवेकानंद की औपन्यासिक जीवनी पर आधारित है. इस किताब में शुद्ध हिंदी को जगह दी गई है इसलिए यह किताब बहुत प्रसिद्द भी है।

खैर यंन्गिस्थान की इस पोस्ट में इंग्लिश के इन शब्दों को हिंदी में जानने के बाद अगली बार हम हिंदी के उन शब्दों को इंग्लिश में जानेगे जिन्हें हम सोच भी नहीं सकते।

Don't Miss! random posts ..