ENG | HINDI

एक मुखी से लेकर इक्कीस मुखी तक का होता है रुद्राक्ष और सबका है अलग-अलग महत्व ! 

रुद्राक्ष की शक्ति

रुद्राक्ष की शक्ति – रुद्राक्ष को बहुत हीं पवित्र माना गया है. क्योंकि रुद्राक्ष का पौराणिक कथाओं में बहुत हीं ज्यादा महत्व दिया गया है.

पुराणों में इस बात का जिक्र हो रखा है कि रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव के नेत्रों से हुई है. रुद्राक्ष की शक्ति अपार होती है, जो नकारात्मक ऊर्जा को खत्म कर सकारात्मक उर्जा प्रदान करने का काम करता है.

रुद्राक्ष की शक्ति व्यक्ति को सभी तरह की बुरी शक्तियों से बचा कर रखता है रुद्राक्ष. एक मुखी रुद्राक्ष से लेकर 21 मुखी रुद्राक्ष तक होते हैं और सबके अलग-अलग महत्व भी हैं.

कभी भी रुद्राक्ष धारण करने से पहले अच्छे ज्योतिष की सलाह अवश्य लेनी चाहिए.

रुद्राक्ष की शक्ति –

पहाड़ी इलाकों में पाया जाता है रुद्राक्ष

पवित्र रुद्राक्ष का पेड़ होता है. इस खास तरह के पेड़ का बीज होता है रुद्राक्ष. ये पेड़ खासकर पहाड़ी इलाकों में मौजूद होता है. आपके लिए इस बात की जानकारी आवश्यक है कि रुद्राक्ष सिर्फ बुरी शक्तियों से बचाने का काम नहीं करता, बल्कि भविष्य में होने वाली विपदा का संकेत भी हमें देता है.

रुद्राक्ष को किसी अच्छे मुहूर्त में हीं धारण करना चाहिए. क्योंकि इसे बहुत हीं ज्यादा पवित्र माना गया है. जिस रुद्राक्ष की माला से आप जाप किया करते हैं, ध्यान रखें कि उस माला को कभी भी धारण ना करें. उस रुद्राक्ष को सिर्फ पूजा के कार्यों में ही इस्तेमाल करना चाहिए. नियमों के साथ अगर आप रुद्राक्ष धारण करते हैं, तो आपके सारे कष्ट दूर होते हैं. और तो और भगवान शंकर की कृपा भी आपको मिलती है.

भगवान शंकर की प्रिय चीज मानी जाती है रुद्राक्ष.

कहते हैं कि जिस घर में भी रुद्राक्ष की पूजा की जाती है वहां महालक्ष्मी का निवास होता है. इतना ही नहीं रुद्राक्ष भगवान शंकर की प्रिय चीज के रूप में जानी जाती है. रुद्राक्ष कई मुख वाले होते हैं. हर रुद्राक्ष की अपनी अलग-अलग उपयोगिता भी होती है.

दोस्तों अगर आप भी किसी तरह की परेशानियों से जूझ रहे हैं, तो किसी अच्छे ज्योतिष की सलाह लेकर रुद्राक्ष को आप या तो अपने घर में लगा कर नकारात्मक शक्ति को दूर रख सकारात्मक ऊर्जा का स्वागत कर सकते हैं. या फिर आप रुद्राक्ष धारण भी कर सकते हैं. जिस भी रुप में चाहें रुद्राक्ष उपयोगी हीं होता है.

Don't Miss! random posts ..