ENG | HINDI

यहाँ भगवान शिव के गुस्से के आगे झुकना पड़ा था औरंगजेब को !

चित्रकूट बालाजी मंदिर

कहा जाता है कि मुगल बादशाह औरंगजेब एक ऐसा शासक था, जो अपने धर्म को लेकर काफी कट्टर माना जाता था.

लेकिन वो अपने जीवन में एक बार इतना ज्यादा डर गया कि उसने हार मानकर धार्मिक कट्टरता का त्याग करते हुए हिंदुओं के एक मंदिर को बनाने का आदेश दिया.

आखिर कौन है वो जिसके आगे औरंगजेब न सिर्फ नतमस्तक हुआ था बल्कि उसने अपनी गलती स्वीकार करते हुए हार भी मान ली थी.

आइए जानते हैं इससे जुड़ी हुई एक दिलचस्प कहानी.

shiv

चित्रकूट बालाजी मंदिर से जुड़ी कहानी

औरंगजेब ने जहां अपनी धार्मिक कट्टरता को छोड़ते हुए एक भव्य मंदिर बनाने का आदेश दिया था वो जगह है उत्तर प्रदेश का चित्रकूट बालाजी मंदिर –

यही वो जगह है जहां पर मुगल बादशाह औरंगजेब ने बालाजी का एक भव्य मंदिर बनवाया था.

इतना ही नहीं इस चित्रकूट बालाजी मंदिर में भोग की रस्म के लिए स्थायी रुप से धन मिलते रहने का इंतजाम भी किया था, जो आज भी सरकारी सहायता के रुप में बदस्तूर जारी है.

बादशाह औरंगजेब ने आज से करीब 333 साल पहले इस चित्रकूट बालाजी मंदिर में राजभोग और पूजा के लिए आवश्यक धन के लिए 8 गांवो की 330 बीघा जमीन और राजकोष से 1 चांदी का सिक्का हर रोज देने का फरमान जारी किया था. उस फरमान की छायाप्रति आज भी मंदिर में मौजूद है.

chitrakoot

भगवान शिव के आगे नतमस्तक हुआ था औरंगजेब

प्रचलित कथा के अनुसार औरंगजेब जब चित्रकूट आया तो उसने अपनी सेना को भगवान शिव के प्राचीन मत्यगयेंद्र मंदिर को तोड़ने का आदेश दिया था.

जब अगली सुबह उसके सिपाही मंदिर तोड़ने के लिए गए तो अचानक से उनके पेट में दर्द होने लगा और फिर वो बेहोश हो गए.

अपने सिपाहियों की ऐसी हालत देखकर औरंगजेब घबरा गया. बहुत कोशिश करने के बाद भी जब उसके सिपाही ठीक नहीं हो सके तब वहां मौजूद एक शख्स ने उन्हें बाबा बालक दास के पास जाने की सलाह दी और कहा कि इनका ईलाज सिर्फ वही कर सकते हैं.

बाबा के पास जाकर जब बादशाह ने अपने सिपाहियों के जीवन की भीख मांगी, तब बाबा ने तत्काल शिव मंदिर को तोड़ने से रोकने की सलाह दी. जिसके बाद बादशाह ने हार मानकर मंदिर को तोड़ने के आदेश पर रोक लगा दी. उसके ऐसा करने से उसके सिपाही ठीक होने लगे.

बाबा के इस चमत्कार को देखकर बादशाह ने अपने विश्वसनीय सिपहसलाहकार गैरत खां को चित्रकूट में रहकर भव्य मंदिर बनवाने का आदेश दिया, बाद में ये चित्रकूट बालाजी मंदिर के नाम से विख्यात हुआ.

aurangzeb

इस तरह औरंगजेब को भी भगवान शिव के चमत्कार के आगे नतमस्तक होना पड़ा और अपनी धार्मिक कट्टरता को छोड़ते हुए उसने इस भव्य मंदिर चित्रकूट बालाजी मंदिर को बनवाया.

Don't Miss! random posts ..