ENG | HINDI

ये ऐसे सितारे हैं जिन्हों ने हमेशा लोगो के दिल पे राज किया और आज भी करते हैं!

सितारे

फ़िल्मी दुनिया के सारे सितारे अपनी चमक से जाने जाते रहें है.

लेकिन कुछ ऐसे सितारे भी है जो अपनी मौत के बाद भी  लोगो के दिलों में जिन्दा है.

मधुबाला

मधुबाला अपने समय की जानी मानी अदाकारा रहीं. उनका जन्म इस्लामी परिवार में 14  फ़रवरी 1933 को हुआ. उन लोग 11 भाई बहन रहे. मधुबाला ने किशोर कुमार से शादी रचाई, लेकिन उनको अपने ससुराल में स्वीकार नहीं किया गया. मधुबाला को शुरू से ही ह्रदय की बिमारी थी, जिनके कारण उनकी मौत हो गई और अपने जीवन के आखरी समय उन्होंने बिस्तर पर खत्म किया. इनके जैसी खुबसूरत अदाकारा दोबारा देखने को नहीं मिली. 70 फ़िल्मो  में अभिनय किया. 23 फ़रवरी 1969  को बीमारी से मृत्यु हो गई.

Madhubala

किशोर कुमार

किशोर कुमार का जन्म 4 अगस्त 1929  को एम् पी  के खंडवा जिले में हुआ था. उनके पिता वहाँ के जाने माने वकील थे. इनका नाम आभास कुमार गांगुली था. किशोर कुमार ने अपना करियर  एक अभिनेता के रूप में 1946 में शुरू किया था. शिकारी उनकी पहली फ़िल्म  थी. 1950 में बनी फ़िल्म “प्यार” में उनको पहली बार गाना गाने का मौका मिला.  13 अक्टूबर, 1987 में उनकी मौत हो गई थी. उनकी  चार  पत्नियाँ थी पहली रुमा, मधुबाला, योगिता बाली, और लीना चंद्राकर. 1940 से वर्ष 1980 के बीच के  574 से ज्यादा गाने गाए थे. उन्होंने  81 फ़िल्म में अभिनेता के तौर पर काम किया  और  18 फ़िल्मों के निर्देशक रहे.

kishore-kumar

 दिव्यभारती

दिव्यभारती का जन्म 14 फ़रवरी 1974 को हुआ था उन्होंने तमिल एवं तेलुगु फिल्मों में सबसे पहले अभिनय किया. उनकी पहली फ़िल्म  तेलुगु में थी जिसका नाम  “बोब्बिली राजा”  था. उन्होंने कुल 18 फिल्मे की, जिनमे से 2 उनकी मौत के बाद रिलीज हुई. दिव्या को सबसे ज्यादा पहचान उनकी विश्वात्मा फ़िल्म से मिली. दियाभारती का विवाह 1992 में  फ़िल्म निर्देशक साजिद नाडियावाला से हुआ था और  5 अप्रैल 1993 को उनकी एक दुर्घटना में मौत हो गई.

divya-bharati

प्राण

प्राण का जन्म दिल्ली में हुआ था.  प्राण ने अनेकों फिल्मों में बेहतरीन भूमिकाएँ निभाईं. 1945 में उनका विवाह शुक्ला से हुआ. उनके दो बेटे अरविन्द, सुनील और एक बेटी पिंकी थी.  भारत पाकिस्तान के बटवारे के बाद प्राण मुंबई में आकर बस गए. प्राण के लिए कहा जाता है कि वो यारों के यार थे. फिल्मो में उनकी भूमिका एक नकारात्मक रूप में होती थी लेकिन अपनी वास्तविक ज़िन्दगी में वो सबसे चाहिए और बहुत अच्छे इंसान थे. उनको खेल से बहुत लगाव था. इनकी मौत 12 जुलाई 2013 को  लीलावती हॉस्पिटल  में  हुई उन्होंने 400 फिल्मों में अभिनय किया था.

pran

अमरीशपुरी

अमरीश पुरी का जन्म २२ जून 1932 को  लाहौर – पाकिस्तान  में   हुआ था. सबसे पहले श्रम मंत्रालय में काम किया. फिर नाटकों में काम करना शुरू कर दिया.  इनकी अनगिनत सुपर हिट फिल्मे रही. सकारात्मक से ज्यादा नकारात्मक किरदार में इनको प्रसिद्धि मिली. इनकी मौत ब्रेन ट्यूमर से 12 जनवरी 2005 को हुई . वे 72 वर्ष के थे.

amrish-puri

ये सारे वो सितारे हैं जो आज इस दुनिया में भले ही ज़िंदा नहीं हैं लेकिन इनकी याद छवि और किरदार आज भी  सबके दिलो में ज़िंदा हैं इनके जैसा कलाकार शायद दूसरा कोई नहीं हो सकता है.

Don't Miss! random posts ..