ENG | HINDI

5 बेहतरीन लघु उद्योग, थोड़े निवेश में ज्यादा आमदनी

small scale businesses

लघु उद्योग – कई बार हम किस्मत का रोना ही रोते रह जाते हैं  और हिम्मत करने वाले अपनी कामयाबी की कहानी इतिहास में दर्ज भी करा देते हैं.

आज इस समय में जब पूरा भारत स्टार्टअप और डिजिटल भारत की ओर अग्रसर है ऐसे में लघु उद्योग भी लोगों की जुबान पर छाए हुए हैं. सरकार इस समय छोटे उद्योगों को अपनी ओर से पूरी सहायता प्रदान कर रही है.

गाँव-गाँव और मोहल्लों में लघु उद्योगों से जुड़ी हुई जानकारियां पहुंचाई जा रही हैं. आज हम आपको इसी तरह के 5 लघु उद्योगों की जानकारी दे रहे हैं. ये उद्योग थोड़े निवेश में अधिक आमदनी दे सकते हैं. अगर आपके पास धन की कमी है तो सरकारी योजनाओं के तहत इन कामों के लिए बैंक से आप लोन भी प्राप्त कर सकते हैं.

तो आइये देखते हैं 5 बेहतरीन लघु उद्योग जो देते हैं थोड़े निवेश में ज्यादा आमदनी

1.  मोमबत्ती उद्योग:-

यह इस समय देश का नंबर एक लघु उद्योग बना हुआ है. आप अपनी क्षमता और आर्थिक हैसियत के हिसाब से इस उद्योग को शुरू कर सकते हैं. मोमबत्ती आज भी हमारी एक जरूरत बनी हुई है. बाजार में आसानी से इसके ग्राहक प्राप्त किये जा सकते हैं. सबसे बड़ी बात कि इस उद्योग को महिलायें भी शुरू कर सकती हैं. देश में कई संस्थान हैं जो मोमबत्ती उद्योग शुरू करने में मदद कर रही हैं.

candle-industry

2.  अगरबत्ती उद्योग:-

धर्म और पूजा से जुड़ा हुआ यह लघु उद्योग कभी भी बंद नहीं हो सकता है. अब या तो धर्म खत्म हो जाये या यह धरती, तभी यह उद्योग खत्म हो सकता है. घर की महिलायें अगरबत्ती का निर्माण करती रहती हैं और पुरूष लोग मार्किट में पकड़ बनाते हैं. यह एक ऐसा उद्योग है जो आसपास के कुछ पड़ोसियों को भी रोजगार प्रदान कर सकता है. इसको स्थापित करने में लागत बहुत कम आती है.

agarbatti

3.  मधुमक्खी पालन:-

अगर आपके पास जमीन है तो आप मधुमक्खी पालन को अपनी आय का साधन चुन सकते हैं. इस कार्य में कोई बड़ी रकम आपको नहीं चाहिए होती है. बस आप मधुमक्खी पालने का पूरा कोर्स किये हुए हो यह जरुरी होता है. शहद को इकठ्ठा करके मार्किट तक पहुँचाना औरअच्छी  आमदनी पाना, इस उद्योग की खासियत है.

Honey-bee

4.  डेयरी उद्योग:-

रोजमर्रा की जिन्दगी से जुड़ा डेयरी उद्योग देशभर में अपनी पकड़ बनाये हुए हैं. वैसे यह उद्योग ऊपर बताये गये उद्योगों की तुलना में महंगा जरुर है. लेकिन सरकार की सहायता भी इस उद्योग के लिए ज्यादा ही प्राप्त हो रही है. आजकल तो डेयरी के काम को लोग बड़े स्तर पर कर रहे हैं. पूरे गाँव का दूध एक जगह इकठ्ठा किया जाता है और कंपनी की गाड़ी आकर सारे दूध को ले जाती है. हर घर में गाय है, भैंस है तो इस कार्य को कोई भी व्यक्ति कर सकता है. दूध के अलावा इसमें दूध से बनने वाली चीजों को भी शामिल किया जाता है. बंगलौर में कुछ युवाओं ने इस सफल उद्योग से लाखों के टर्न ओवर वाली कंपनी भी बना रखी है.

dairy-industry

5.  डोर टू डोर सब्जियां और राशन:-

यह एक दम नया और नए जमाने का लघु उद्योग है. निवेश के नाम पर इसमें कोई बड़ी रकम नहीं चाहिए होती है. लेकिन इस काम में दिमाग की बेहद जरूरत होती है. बिहार के आरा गाँव में कुछ एमबीए किये हुए युवाओं ने इस काम को कर दिखाया है. सभी लोग बाजार चाहना नहीं जाते हैं. क्या सब्जियां लाना, क्या राशन के लिये दूकान पर खड़े रहना. तो यह युवा घर-घर साईकिल और अपनी बाइक्स से डोर टू डोर सामान पहुंचा रहे हैं.

veg_seller

तो अब भी अगर आप सोचने में ही वक़्त बिता रहे हैं तो आपसे बड़ा बेवकूफ कोई नहीं हो सकता है. सरकार जिस गति से छोटे- लघु उद्योगों की मदद कर रही है वह आज तक इतिहास में नहीं हुआ है. तो फिर इंतज़ार किस बात का, गुरु हो जा शुरू…

Don't Miss! random posts ..