ENG | HINDI

एक किसान के बेटे ने कबाड़ से बना दिया हेलिकॉप्टर !

कबाड़ से हेलिकॉप्‍टर

भारत के युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है और ये बात कई बार प्रमाणित भी हो चुकी है।

भारत में कई ऐसे लोग हैं जो कम पढ़ाई करने के बावजूद भी अपने टैलेंट की वजह से आज सफलता की बुलंदियों को छू रहे हैं।

हाल ही में एक गरीब किसान के बेटे ने अपनी प्रतिभा से सभी को चकित कर दिया है।

दरअसल,  एक किसान के बेट ने कम पढ़ा-लिखा होने के बावजूद अपने टैलेंट से हेलिकॉप्‍टर बना सभी को हैरान कर दिया है। किसान के बेटे ने कबाड़ से हेलिकॉप्‍टर बना डाला।

हरियाणा के झज्‍जर जिले के सेहलंगा गांव के निवासी संदीप ने कबाड़ से हेलिकॉप्‍टर बना दिया। संदीप के इस टैलेंट को देख उसके माता-पिता के साथ-साथ अन्‍य लोग भी हैरान हैं। अपने इस हेलिकॉप्‍टर को संदीप ने ‘पैराग्‍लाइडिंग फ्लाईंग’ मशीन का नाम दिया है। इस मशीन की खासियत है कि ये सिर्फ 1 लीटर पेट्रोल से ही लगभग 6 मिनट तक आकाश में उड़ सकती है।

संदीप ने रेवाड़ी आईटीआई से मोटर मैकेनिक ट्रेड की पढ़ाई की थी लेकिन 2013 में हरियाणा पुलिस में सिलेक्‍शन हो गया और वह नौकरी पर लग गया। जब भी संदीप छुट्टियों में घर आता तो अपने हेलिकॉप्‍टर के काम में लग जाता था।

संदीप ने अपने इस इंवेशन पर काफी मेहनत की है। उसने अपने इस हेलिकॉप्‍टर में मोटर साइ‍किल का ईंजन और लकड़ी के पंखे और छोटे पहिये लगाए हैं। एक बार इस हेलिकॉप्‍टर की टंकी फुल कर देने पर ये 30 मिनट तक हवा में उड़ान भर सकती है।

फिलहाल इस हेलिकॉप्‍टर में सिर्फ एक ही व्‍यक्‍ति बैठ सकता है। लेकिन संदीप का कहना है कि वो अगले 3 महीने में वह इस हेलिकॉप्‍टर पर और काम करेंगें और फिर इसमें एकसाथ तीन लोग बैठ सकेंगें।

संदीप के इस कारनामे से एक बार फिर साबित हो गया है कि प्रतिभा बड़ी-बड़ी डिग्रियों और किताबों की मोहताज नहीं है।

खैर, संदीप ने यह साबित कर दिया है कि प्रतिभा बड़ी डिग्रियों की गुलाम नहीं होती है, बल्कि उसके लिए जूनून और अपने कार्य के लिए समर्पण चाहिए होता है।

Don't Miss! random posts ..