ENG | HINDI

7 कारण सिंगल लड़कियों को बॉयफ्रेंड की ज़रुरत नहीं!

single-woman

सिंगल होना कोई गुनाह है क्या?

अरे यार, पता नहीं क्यों लड़कियों के ऊपर यह ज़ोर डाला जाता है कि अकेली हो तो उदास हो और कोई न कोई बॉयफ्रेंड तो होना बनता ही है! सबको अपनी ज़िन्दगी जीने का हक़ है और लड़कियों पर भी ये बात उतनी ही लागू होती है जितनी कि लड़कों पर!

आज मैं आपको बताती हूँ कि क्यों लड़कियों को बॉयफ्रेंड की ज़रुरत नहीं है!

1) बिज़ी हैं

आजकल लड़कियों को भी अपने सपने पूरे करने हैं और उसके लिए लगती है बहुत मेहनत! जब काम से ही फ़ुर्सत नहीं है तो बॉयफ्रेंड के लिए वक़्त कैसे निकालें? वैसे भी यह इश्क़ मोहब्बत के लिए पूरी उम्र पड़ी है, लेकिन करियर तो जवानी में ही बनते हैं!

2) अपनी मर्ज़ी से जीना है

कौन हर वक़्त ये सोचता फिरे कि क्या खाना है, टीवी पर क्या देखना है, कैसे सोना है! अब बॉयफ्रेंड के साथ इन सब बातों का ध्यान रखना पड़ता है पर सिंगल हो तो छख के खाओ, कैसे भी उलटे-पुल्टे होकर बिस्तर पर सो जाओ, टीवी पर चाहे रोने-धोने वाले सीरियल देखो चाहे कुकरी शो के मज़े उठाओ!

3) 24 घंटे के मैसेज

मोबाइल फ़ोन ज़रुरत है पर हर वक़्त बॉयफ्रेंड के मैसेज आते रहें कि बेबी कहाँ हो, किसके साथ हो, कब मिल रही हो वगैरह-वगैरह के झंझट कौन पालना चाहता है? काम की जगह दिन भर फ़ोन पकड़ के बैठे रहो कि मैसेज आते ही जवाब देना है, ये क्या बात हुई?

4) किसी को इम्प्रेस नहीं करना

अकेली हो तो किसी को इम्प्रेस करने की ज़रुरत नहीं है| जब दिल चाहा वो किया, जैसे मर्ज़ी उठे-बैठे, जो मन में आया पहना, जैसे मन किया, जिसके साथ मन किया बातें की! बॉयफ्रेंड हुआ तो हर चीज़ उसके मन की करो, उसे दिन भर इम्प्रेस करने की कोशिश करो! तो जियोगी कब?

5) अपने दोस्त काफ़ी हैं

वैसे ही लाईफ़ में बहुत से दोस्त हैं और लड़के हैं दोस्तों की लिस्ट में जो अच्छे हैं, मज़ेदार हैं और दोस्ती निभाते भी हैं! तो फिर सिर्फ़ एक ख़ास बॉयफ्रेंड की क्या ज़रुरत है जो बाक़ी सब दोस्तों से अलग कर दे?

6) इतने जल्दी सेटल?

जवानी भरपूर ज़िन्दगी जीने का नाम है! रिलेशनशिप्स में ज़िन्दगी एक किस्म के ढर्रे पर चलती है जो शादी के बाद और भी प्रेडिक्टेबल हो जाती है! तो जब तक सिंगल रहकर मज़े उठा सकते हैं, क्यों न उठाएँ?

7) आज़ादी

आज़ादी से बड़ा सुख कोई नहीं है सिंगल रहने में! ना किसी को जवाब देना, ना किसी से सवाल करना! अपने दिल की करनी, अपने मन का सुनना! साथ ही इस बात की फ़िक्र भी नहीं कि आपके एक्शंस का आपके बॉयफ्रेंड की ज़िन्दगी में क्या असर पड़ रहा है! बस जो दिल चाहे, वैसे ज़िन्दगी जियो, अपनी शर्तों पर!

तो देखा, जब सिंगल रहने के इतने फ़ायदे हों तो कौन सी लड़की बॉयफ्रेंड चाहेगी?

Don't Miss! random posts ..