ENG | HINDI

जब इस अभिनेत्री को अपनी फिल्म का ऑफर देने के लिए उनके घर पहुंचे राजकपूर तब…!

सिमी गरेवाल

सिमी गरेवाल – हिंदी सिनेमा के शोमैन राजकपूर साहब के साथ काम करने का मौका जिस अभिनेत्री को मिलता था वो खुद को खुशकिस्मत समझती थी.

ऐसे में जरा सोचिए अगर खुद राजकपूर साहब किसी अभिनेत्री के घर जाएं और वो भी उसके लिए अपनी फिल्म का ऑफर लेकर, तो क्या होगा.

जाहिर सी बात है इतने बड़े महान कलाकार को अपने घर ही दहलीज पर देखकर कोई भी हीरोइन चौंक जाएगी और उसकी खुशी का कोई ठिकाना ही नहीं रहेगा.

जी हां, कुछ ऐसा ही हुआ था बीते दौर की हॉट अभिनेत्री सिमी गरेवाल के साथ, जब उन्होंने देखा कि महान फिल्मकार राजकपूर साहब खुद चलकर उनके घर तक आए हैं तो वो बिल्कुल हैरान रह गईं.

राजकपूर की बचपन से ही दीवानी थीं सिमी गरेवाल

यह तो हर कोई जानता है कि राजकपूर अपनी फिल्मों के संगीत और हीरोइनों को लेकर किसी भी तरह का समझौता नहीं करते थे. खासकर वो अपनी हीरोइनों को इस तरह से तराशते थे कि देखने वाले उन्हें बस देखते ही रह जाएं.

नर्गिस, वैजंतीमाला, मंदाकिनी, डिंपल कपाड़िया और सिमी गरेवाली जैसी अभिनेत्रियां उनके पारखी नजर का ही कमाल हैं.  बताया जाता है कि बचपन में जब सिमी गरेवाल ने राजकपूर साहब की फिल्म ‘आवारा’ देखी थी तभी से वो राजकपूर साहब की दीवानी हो गईं.

बचपन से ही सिमी के दिल में राजकपूर के साथ काम करने की हसरत थी लेकिन उन्हें इसका जरा सा भी इल्म नहीं था कि उनकी ये हसरत एक दिन पूरी हो जाएगी. बताया जाता है कि इंग्लैंड से पढ़ाई करके वापस लौटने के बाद सिमी ने फिल्मों में काम करने का फैसला किया और मुंबई में आकर स्ट्रगल करने लगीं.

मेरा नाम जोकरफिल्म का ऑफर लेकर पहुंचे घर

एक दिन मौका मिलते ही सिमी ने राजकपूर साहब को फोन किया. फोन पर दोनों की बातें इतनी दिलचस्प रही कि फोन पर बात करने का यह सिलसिला लगभग हर रोज चलने लगा.

एक दिन राज कपूर ने सिमी को चर्चगेट के एक होटल में मिलने के लिए बुलाया और उस पहली मुलाकात में ही सिमी ने अपनी लिखी हुई कविता और गुलाब का फूल राजकपूर को भेंट किया. सिमी के इस तोहफे से राजकपूर साहब बेहद खुश हुए और फिर से मिलने का वादा करके वहां से चले गए.

हालांकि इस मुलाकात में सिमी ये जाहिर नहीं कर सकीं कि वो राजकपूर साहब के लिए कितनी दीवानी हैं और उनके साथ का करना चाहती हैं. लेकिन सिमी को इस बात का पूरा भरोसा था कि अगर उनके लायक कोई रोल आएगा तो राज साहब उन्हें जरूर याद करेंगे.

आखिरकार एक दिन वो मौका आ ही गया जब शाम के वक्त सिमी के घर का फोन बजा हालांकि फोन सिमी की मम्मी ने फोन उठाया तब राजकपूर ने सिमी से बात करने की इच्छा जाहिर की और अगले दिन वो फूलों के गुलदस्ते के साथ सिमी के घर पहुंच गए.

घर पहुंचकर जब राजकपूर ने बड़ी ही विनम्रता से सिमी की मां से कहा कि अगर आप इजाजत दें तो मैं आपकी बेटी को अपनी फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में बतौर हीरोइन लेना चाहता हूं.

राजकपूर जैसे महान कलाकार को अपने घर देखकर सिमी और उनकी मां दोनों हैरत में पड गईं क्योंकि राजकपूर चाहते तो इसके लिए सिमी को अपने ऑफिस में बुला सकते थे.

गौरतलब है कि सिमी फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ के पहले भाग की हीरोइन थीं और उन्होंने मैरी नाम की एक टीचर का किरदार निभाया था. लेकिन यहां सिमी गरेवाल का हैरान होना लाजमी था क्योंकि जिसके साथ वो बचपन से काम करने का सपना देखा करती थीं वही महान कलाकार एक दिन फिल्म का ऑफर लेकर उनकी दहलीज तक जा पहुंचा.

Don't Miss! random posts ..