ENG | HINDI

25 ऐसे सवाल जिसे सुनते ही RSS की हो जाती है बोलती बंद.

RSS
RSS की सच्चाई और झूठ के बारे में जानने के लिए कुछ ऐसे प्रश्नों के उत्तर हैं, जो इस बात की सटीक जानकारी दे सकती है.
वैसे ऐसे कई सवाल हैंं जिसे पूछने पर संघ के लोग उत्तर नहीं देते हैं. या आप ये भी कह सकते हैं, कि उनके पास इन सवालों के जवाब ही नहीं हैं. आइए जानते हैं 25 ऐसे सवाल जिसे सुनकर RSS की बोलती बंद हो जाती है. और इन सवालों से आप इस बात का अंदाजा कर सकते हैं कि संघ इन सवालों के जवाब क्यों नहीं देता.
1. संघ परिवार के संगठन मुस्लिम या फिर इसाई के विरोध में  आए दिन प्रचार करते हैं. लेकिन जब अंग्रेजों का शासन था तो उन दिनों संघ ने ये प्रचार-प्रसार आखिर क्यों नहीं किया ?
2. सन् 1817 मेन ईस्ट इंडिया कंपनी के प्रारंभ और पेशवा शासन के अंत से लेकर उन्नीसवीं सदी के आखिर तक अंग्रेजों ने भारतीयों को ईसाई धर्म में परिवर्तन करने का काम किया. 1925 से लेकर 1947 तक धर्मांतरण का ये कार्यक्रम चलता रहा. ऐसे में RSS ने इसके विरोध में अपनी आवाज को बुलंद नहीं की ?
3. क्या 1925 से लेकर 1947 तक के बीच में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ RSS द्वारा किसी तरह का कोई आंदोलन चलाया गया ?
4. जब देश में आजादी की लड़ाई चल रही थी, तो संघ का ऐसा कौन नेता था, जो जेल गया. या फिर संघ के कोई ऐसे नेता जिन्हें आज़ादी के दौरान फांसी की सजा मिली हो ?
5. आजादी की लड़ाई में संघ के किसी भी संचालक या फिर स्वयंसेवक ने अपनी भागीदारी क्यों नहीं निभाई. और अंग्रेजी हुकूमत के समर्थन में क्यों खड़े रहे ?
6. जब अंग्रेजी हुकूमत गौमांस भक्षक बने हुए थे, तो संघ के किसी भी नेताओं ने गौ हत्या बंद कराने के लिए किसी तरह का कोई आंदोलन क्यों नहीं किया ?
7. हिंदू समाज में ब्राह्मणों की संख्या 3 फ़ीसदी से भी कम रह गई है. और हिंदुओं में एससी, एसटी और ओबीसी 85 फ़ीसदी है. संघ में 6 सरसंघचालक मौजूद हैं. इनमें ब्राह्मणों की संख्या कितनी है. और गैर ब्राह्मण की संख्या कितनी है. या फिर ओबीसी, एससी और एसटी समुदाय से कितने सरसंघचालक मौजूद हैं ?
8. संघ अगर इस बात का दावा करता है कि वे हिंदू संगठन हैं. तो फिर हिंदुओं को मिलने वाले 85 फ़ीसदी से अधिक आरक्षण के विरोध में क्यों खड़ा रहता है ?
9. अतिशुद्र- अवर्ण और शूद्र को संघ हिंदू का दर्जा देता है. अगर ऐसा वे मानते हैंं, तो उनके राष्ट्रीय नेताओं में से एक भी स्थान इन्हें क्यों नहीं दिया गया ?
10. 1925 से लेकर आज के समय तक संघ में किसी भी महिला को सरसंघचालक क्यों नहीं बनाया गया. संघ में महिलाओं के प्रवेश को निषेध कर क्या संघ महिला विरोधी नहीं बना हुआ है ?
11. संघ में गैर ब्राह्मण और ब्राह्मणों की सामाजिक भागीदारी क्या होती है ?
12. संघ में पहले राष्ट्रीय स्वयंसेविका संघ की पहली अध्यक्षा, संघ के पहले सरसंघचालक, एबीवीपी के पहले अध्यक्ष, विहीप के पहले अध्यक्ष और भारतीय मजदूर संघ के पहले अध्यक्ष किस जाति के थे. और आज इन सारे पदों पर किस जाति के व्यक्ति मौजूद हैं ?
13. बापू महात्मा गांधी की हत्या का आरोप महाराष्ट्र के उन ब्राह्मणों पर हूं क्यों लगाया जाता है, जो संघ हिंदू महासभा से जुड़े हुए हैं ?
14.  जिन समुदाय को अछूत माना गया है, अगर वो हिंदू है और जैसा की आप सभी जानते हैं कि संघ भी हिंदूवादी संगठन हींं है, तो नाशिक में मौजूद कालाराम मंदिर-प्रवेश के डॉ बाबासाहेब आंबेडकर ने जब आंदोलन किया तो संघ उसके विरोध में क्यों खड़ा हुआ ?
15. 1925 से लेकर 1947 तक आदिवासी समुदाय और अछूत समुदाय के लोगों को सामाजिक अधिकार दिलाने के लिए या फिर उनके प्रति असमानता के विरुद्ध संघ ने किसी तरह का कोई आंदोलन क्यों नहीं किया ?
16. 1925 से लेकर 1947 के दौरान संघ के किसी भी नेता ने या स्वयंसेवकों में से किसी भी व्यक्ति ने ‘वंदेमातरम्’ का नारा लगाया था ?
17. 1925 से लेकर 1947 के दौरान क्या कभी भी संघ को इस बात का पता चल पाया की बाबरी मस्जिद हीं भगवान राम की जन्म भूमी है. अगर पता था तो उन्होंने आंदोलन क्यों नहीं किया ?
18. जब 1980 मैं 52 फ़ीसदी OBC  समुदाय के संवैधानिक अधिकारों के दस्तावेज मंडल कमीशन की रिपोर्ट आई, तो उसके बाद 1981 से लेकर 1984 तक इस रिपोर्ट को लागू करने की आवाज उठने लगी. इसके बाद बाबरी मस्जिद के विवाद को संघ के द्वारा हवा क्यों नहीं दिया गया ?
19. 7 अगस्त 1990 को जब देश में ओबीसी आरक्षण के विरुद्ध आंदोलन शुरू हुआ, तो संघ के संगठनों ने बढ़-चढ़कर अपनी हिस्सेदारी क्यों निभाई ?
20. 27 फ़ीसदी मंडल आरक्षण की घोषणा होने के बाद उसके विरोध में संघ के जो कट्टर जातिवादी ब्राह्मण नेता थे, उन्होंने रामरथ यात्रा क्यों निकाली थी ?
21. बात 19 नवंबर 1992 की है जब सुप्रीम कोर्ट के द्वारा 27 फ़ीसदी ओबीसी आरक्षण को संवैधानिक घोषित किया गया था. इसके बाद ओबीसी समुदाय को गुमराह करने की खातिर संघ के कट्टर जातिवादी ब्राह्मण नेताओं ने कारसेवा के नाम पर बाबरी मस्जिद को क्यों गिरवाया था ?
22. अंग्रेजी शासन के दौरान गौ हत्या के खिलाफ संघ के द्वारा किसी भी तरह का आंदोलन क्यों नहीं किया गया ? जबकि 1950 के बाद हीं गौ हत्या के खिलाफ आवाज उठी. ऐसा क्यों ?
23. संघ हिंदूवादी संगठन है और राष्ट्रवादी या फिर यह संघ जातिवादी संगठन है. ऐसी क्या वजह है कि संघ के जितने भी प्रमुख हैंं वे ब्राह्मण हैं ?
24. 1925 से लेकर 1947 तक जब देश की आजादी के लिए आंदोलन चल रहा था, तो RSS के नेताओं ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ आवाज क्यों नहीं उठाई और आंदोलन का समर्थन क्यों नहीं किया. 1947 तक अंग्रेजी शासन के समर्थक क्यों रहे ?
25. संघ के जितने भी महत्वपूर्ण पद हैं, उन सभी पदों पर ब्राह्मण जाति का हीं अधिकार क्यों बना हुआ है ?
दोस्तों, ये 25 ऐसे सवाल हैंं, जो RSS के बारे में सोचने पर मजबूर करता है कि आखिर ये संघ राष्ट्रवादी संघ है, सामाजिक संघ है या फिर जातिवादी संगठन. ये ऐसे सवाल हैंं जो किसी के भी ज़हन में और भी कई सवाल पैदा कर देते हैं.

Article Categories:
राजनीति

Don't Miss! random posts ..