ENG | HINDI

आठवी पास ने बनाया एक ऐसा चूल्हा जिसमे चाय बनती है, मोबाईल चार्ज होता है और बिजली पैदा होती है!

चूल्हा जो बिजली पैदा करता है

आवश्यकता आविष्कार की जननी होती है.

आवश्यकतों के कारण चीजो का निर्माण किया जाता है और उपयोग से उत्पादन में बढ़ोतरी होती है.

एक आवश्यकता के कारण ही एक गाँव के आठवी पास युवक ने एक ऐसा आविष्कार किया है, जिससे एक नहीं बल्कि अनेक काम किया जा सकता है.

इसका आविष्कार बड़ी लगत पर कम फायदा नहीं बल्कि कम लगत पर बड़ा फायदा देता है.

आठवी पास एक लड़के ने बनाया है चूल्हा जो बिजली पैदा करता है –

चूल्हा जो बिजली पैदा करता है

तो आइये जानते हैं क्या अविष्कार किया गया

  • राजस्थान के उदयपुर के चीरव नामक गाँव में गोवर्धन नामक युवक है.
  • गोवर्धन के पास इंजीनियरिंग की डिग्री या  डिप्लोमा नहीं है बल्कि सिर्फ आठवी पास है.
  • चूल्हा जो बिजली पैदा करता है – इस युवक ने ऐसे चूल्हे का अविष्कार किया जिससे एक साथ तीन काम हो जाते है.
  • इस चूल्हे की खासियत यह है कि इसमें चाय बनाई जा सकती है, मोबाईल चार्ज किया जा सकता है और बिजली पैदा की जा सकती है.
  • गोवर्धन एक पंखा बनने वाली फैक्ट्री में नौकरी करता है और उसको यह यंत्र बनने का ख्याल वही से आया.
  • यह चूल्हा लकड़ी, गोबर से जलता जरुर है, लेकिन यंत्र की तरह कार्य करता है.
  • इस चूल्हे में गोवर्धन ने पहला काम चाय बनाने का किया. उसके बाद चूल्हे के अंदर करंट उत्पन्न किया फिर उसमें इलेक्ट्रौनिक  प्लग सिस्टम लगाकर घर की लाईट जलाई और मोबाईल चार्ज करके देखा.
  • शुरू में उसको यह यंत्र काम का नहीं लगा, लेकिन गोवर्धन की मेहनत रंग लाई और अंत में यह यंत्र तैयार हो गया.
  • इस अविष्कार का जन्म भी गोवर्धन और उसकी गाँव की आवश्यकता से हुआ. इनके गाँव में बिजली की किल्लत है, जिसके कारण मोबाईल चार्ज करने के लिए दूसरे गाँव भागना पड़ता था.
  • मोबाईल चार्ज करने की आवश्यकता के कारण गोवर्धन फैक्ट्री में कार्य करते हुए इसके यंत्र  निर्माण के बारे में सोचा और सामान ला कर बनाया.
  • इस चूल्हे में क्वाइल से पावर जेनरेटर संलग्न है, जो गर्मी और धुएं के दबाव के साथ कार्य करने लगता है.
  • जब चूल्हा को लकड़ी या गोबर डाल कर जलाने के लिए माचिस जलाते हैं, तब उसमें  धुआं और गर्मी उत्पन्न होती है, जिससे यंत्र दबाव में आकर कार्य करने लगता है.
  • इस चूल्हे के खुले भाग में आग लगाकर चाय या खाना  बना सकते है. साथ ही इलेक्ट्रोनिक प्लग बोर्ड लगाकर घर में बिजली जला सकते है और मोबाईल भी चार्ज कर सकते है.

गोवर्धन का यह आविष्कार – चूल्हा जो बिजली पैदा करता है – हर उस गाँव के लिए फायेदेमंद है, जहाँ आज तक बिजली नहीं पहुंच पाई है और पहुंची भी है तो बिजली नहीं रहती. यह आविष्कार गाँव वालों के साथ साथ देश के लिए भी फायदेमंद है.

Don't Miss! random posts ..