ENG | HINDI

पोलियो होने के बाद भी ये शख्स सीख रहा है दुनिया का सबसे कठिन डांस

जुम्बा डांस

जुम्बा डांस – हौसला हो तो दुनिया का बहुत सा काम चुटकी में किया जा सकता है.

पैर न होने पर भी लोग एवरेस्ट पर चढ़ाई करके उसपर विजय प्राप्त करते हैं. बस मन में विश्वास चाहिए और आपके भीतर गज़ब का सहस होना चाहिए ओ आपको किसी भी काम को करने और उसे पूरा करने तक आपके भीतर ऊर्जा बनाए रखे.

जब मन में विश्वास होता है तो असंभव काम भी बन जाता है. इसी बात को साकार कर रहे हैं दिल्ली के एक डॉक्टर. इन्हें पोलियो है. इसके बावजूद ये जुम्बा डांस सीख रहे हैं. हम आपको बता दें कि इस जुम्बा डांस में बहुत ज्यादा एनर्जी की ज़रुरत होती है.

एक खबर के अनुसार, दिल्ली के डॉक्टर शिव मिश्रा से, जो पोलिओ से ग्रसित होने के बावजूद ज़ुम्बा क्लब में सेन्सेशन बने हुए हैं. वहीं ज़ुम्बा इंस्ट्रक्टर अष्मिता नायर ने डॉक्टर की इस प्रेरणादायक कहानी को फ़ेसबुक पर भी शेयर किया है. Calliper के सहारे ज़िंदगी बिताने वाले डॉ. शिव ने फ़िटनेस और मनोरंजन के तौर पर जुम्बा डांस का चुनाव किया. डांस सिखाने वाली भी हैरान है कि आखिर इतना जोश डॉक्टर को आता कहाँ से है.

ज़रा सोचिए जब गुरु ही हैरान होजाए शिष्य की काबिलियत पर तब समझ जाइए कि शिष्य के भीतर कितना कुछ भरा है. डॉक्टर भले ही एक पैर से चल फिर नहीं सकते ठीक से, लेकिन वो हार नहीं मानें और इस डांस को सीख रहे हैं. डॉक्टर ने कहा कि भगवान की कृपा से मेरे परिवार ने मुझे हमेशा नॉर्मल फ़ील कराया. हमें माता-पिता को ये बताने की ज़रूरत है कि वो अपने बच्चों को आत्मनिर्भर बनायें. इसे कहते हैं साहस.

सोशल मीडिया पर डांस टीचर ने डॉक्टर का डांस वीडियो लोगों के साथ शेयर किया. आप भी देखें ये वीडियो.

Everyone, please meet Dr Shiv Mishra from my Zumba class @Fitness First South Ex. This video is his dedication to…

Posted by Aashmita Nayar on Thursday, May 17, 2018

ये डॉक्टर Nehru Homoeopathic Medical College में लेक्चरार की पोस्ट पर काम करते हैं. वो बच्चों को पढ़ाते हैं. ज़ुम्बा प्रशिक्षक के साथ रणबीर सिंह के गाने मालारी पर डांस करते हुए सोशल मीडिया पर एक वीडियो क्लिप भी शेयर की है और लिखा कि ‘डियर फ़्रेंड्स मैं एक डॉक्टर हूं और Poliomyelitis का रोगी भी, लेकिन मैंने कभी अपने आपको अक्षम महसूस नहीं किया. मुझे पता है कि मैं एक परफ़ेक्ट डांसर नहीं हूं, लेकिन अगले जन्म एक अच्छा डांसर बनना चाहता हूं.’ इस पोस्ट को कई लोगों ने शेयर किया और कमेन्ट भी. इसे खूब लाइक मिल रहा है.

डॉक्टर की टीचर का कहना है कि क्लास के अन्य छात्र कई कठिन स्टेप्स करके थक जाते हैं या फिर उसे लेकर हार मान लेते हैं. इनमें से कुछ, तो ऐसे भी होते हैं जो बीच-बीच में फ़ोन यूज़ करने लगते हैं और ये सब मेरे लिए काफ़ी इरिटेटिंग होता है. वहीं डॉक्टर शिव के साथ ऐसा बिल्कुल नहीं है, मैंने उन्हें जितने भी चैलेंज दिए उन्होंने समय पर ख़त्म किये. इसका मतलब ये हुआ की टीचर भी अपने इस ख़ास स्टूडेंट से संतुष्ट है. उसे लगता होगा की डॉक्टर जल्दी ही सीख लेंगे. इतना ही नहीं जुम्बा डांस के  प्रति डॉक्टर के पैशन को देख कर वो हौरान थी. उन्हें विश्वास ही नहीं हो रहा था कि ऐसा भी कोई कर सकता है.

आप भी कुछ सोचिए. यूँ निराश होकर जिंदगी से हार मानने की बजाय उससे लड़िए. फिर देखिये इस खेल में कितना मज़ा आएगा.

Don't Miss! random posts ..