ENG | HINDI

पानीपत की पहली लड़ाई का दर्दनाक सच ! एक लाख लोगों की सेना भी ख़त्म हो गई !

पानीपत की लड़ाई

भारत की तक़दीर का निर्धारण वैसे तलवार और युद्धों के दम पर ही हुआ है.

भारत के ऊपर एक से एक योद्धा और शासकों की नजर थी. इसके पीछे जो मुख्य कारण था वह था यहाँ का सोना. भारत उस समय में विश्व का सबसे बड़ा व्यापारिक केंद्र हुआ करता था. भारत में व्यापार करने आने वाले लोग सोना लेकर ही आते थे.

यही एक मुख्य कारण था कि उस समय भारत में घर-घर में सोने के भंडार होते थे. भारत के मंदिरों में उस समय सोने के अपार भण्डार हुआ करते थे. यही एक मुख्य कारण था कि विदेशी शासक भारत में लूट के लिए आना चाहते थे.

उत्तर भारत में मुगलों का प्रवेश जिस लड़ाई के बाद हुआ है उसे असल में पानीपत की लड़ाई बोला जाता है.

यह पानीपत की लड़ाई ऐसी लड़ाई थी जो बारूद के दम मुग़ल लड़ रहे थे.

हिन्दू राजाओं की कायरता –

पानीपत की लड़ाई

वैसे पानीपत की लड़ाई के बारें में आगे पढ़ने से पहले यह जानना जरुरी है कि आखिर क्या मुगलों में वाकई दम या फिर वह बस किस्मत के भरोसे ही उत्तर भारत पर कब्जा कर पाए थे.

असल में इब्राहिम लोधी अपने पिता सिकन्दर लोदी की नवम्बर, 1517 में मृत्यु के उपरांत दिल्ली के सिंहासन पर विराजमान हुआ था. पिता की मृत्यु के बाद राज्य को संभालना बेटे के लिए वाकई मुश्किल हो रहा था. दिल्ली की सत्ता और जनता दोनों की ही स्थिति कुछ ज्यादा अच्छी नहीं थी. लेकिन इस मौके का फायदा किसी भी हिन्दू राजा ने नहीं उठाया. असल में तब अगर उत्तर भारत के आसपास के राजा एक होकर दिल्ली पर हमला कर देते तो आसानी से दिल्ली को वापस प्राप्त किया जा सकता था. लेकिन एक कड़वा सत्य यह है कि उस समय के हिन्दू योद्धाओं का खून भी ठंडा हो चुका था.

तो कैसे उतर भारत पर मुगलों का कब्जा हुआ?

पानीपत की लड़ाई

जब दिल्ली की सत्ता कमजोर थी जो बाबर को यह मौका युद्ध के लिए अच्छा लगा.

बाबरनामे में इस युद्ध के बारे में लिखा है कि बाबर बस कुछ 25 हजार की सेना लेकर ही युद्ध करने आ रहा था.

वहीं इब्राहिम लोधी के पास करीब 1 लाख लोगों की सेना थी. असल में लोधी को यह लग रहा था कि मात्र एक छोटी-सी सेना उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकती है.

बाबर को रोकने के लिए इब्राहिम लोधी ने अपने एक सेवक को सेना के साथ भेजा. कहते हैं कि पानीपत की लड़ाई जो हिसार के आसपास कहीं हुई थी. लेकिन यहाँ बाबर ने सामने वाले की सेना को हरा दिया.

तब इब्राहिम लोधी समझ गया था कि यह सेना कोई मामूली सेना नहीं है. लेकिन तब तक वह यह समझ नहीं पाया था कि बाबर के पास बारूद और तोपें हैं.

युद्ध का दिन भी आया –

पानीपत की लड़ाई

तो इस तरह से 25 अप्रैल 1526 को इब्राहिम लोधी और बाबर की सेना का आमना-सामना हुआ और यह युद्ध भारत की नई तक़दीर लिख रहा था. इब्राहिम लोधी के सैनिकों के पास तलवार और हल्का बारूद था किन्तु बाबर की तोपों का सामना कोई नहीं कर सकता था.

यह युद्ध एक तरफ़ा युद्ध था और इस युद्ध में इब्राहिम लोधी को मार दिया गया और इस मृत्यु के साथ ही बाबर वंश ने दिल्ली में नया इतिहास लिखा था.

इस तरह पानीपत की लड़ाई में से एक लाख की सेना भी बाबर को भारत में अपना साम्राज्य फैलाने से नहीं रोक सकी.

इस युद्ध के साथ लोधी साम्राज्य का अंत हुआ था और मुग़ल साम्राज्य का भारत में उदय हुआ था.

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

Don't Miss! random posts ..