ENG | HINDI

नहीं बदला पाकिस्तान अब भारत के खिलाफ खूबसूरती बम का कर रहा इस्तेमाल

पाकिस्तानी हनी ट्रैप

पाकिस्तानी हनी ट्रैप – भारत की शांति भंग करने के लिए पाकिस्तान न सिर्फ सीमापार से घुसपैठ करता है और आतंकियों के ज़रिए जम्म-कश्मीर का माहौल खराब कर रहा है, बल्कि और भी कई नए-नए पैतरे इस्तेमाल कर रहा है.

इन्हीं पैतरों में से एक है हनीट्रैप यानी खूबसूरत लड़कियों के ज़रिए देश के साइंटिस्टों को फंसाना.

जी हां, हाल ही में भारतीय खुफिया एजेंसियों को ये सनसनीखेज जानाकरी मिली है. खबरों के मुताबिक, इंडियन इंटेलिजेंस एजेंसी को पता चला है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई भारतीय वैज्ञानिकों को अपना शिकार बनाना चाहती है, खासतौर पर यंग साइंटिस्टों पर आईएसआई की नज़र है.

पाकिस्तान अपने इस नापाक इरादे को अंजाम तक पहुंचाने के लिए भारत में छिपे उनके स्लीपर सेल के सदस्यों का इस्तेमाल कर रहा है. ये लोग पहले उस व्यक्ति का एक खास किस्म का डेटा एकत्र करते हैं. इस डाटा में भारत के अलग-अलग शहरों में रक्षा मंत्रालय के अलग-अलग यूनिट में काम करने वाले युवा साइंटिस्ट के नाम, उनका पता, जन्म तारीख, ईमेल आईडी, और सोशल मीडिया प्रोफाइल से जुड़ी जानकारियां शामिल होती हैं.

पाकिस्तानी हनी ट्रैप –

यह जानकारी मिलने के बाद आईएसआई की डिफेंस के मामलों में हाईली क्वालिफाइड टीम फेसबुक पर फ़र्ज़ी आईडी की मदद से लड़की बनकर कर इन युवा साइंटिस्ट से पहले दोस्ती करती हैं और फिर चैटिंग. भारतीय युवा वैज्ञानिकों को हनी ट्रैप करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले फेसबुक के इस अकाउंट की कोई भी जानकारी सच नहीं होती. यानी खूबसूरत चेहरों का इस्तेमाल कर पाकिस्तानी हनी ट्रैप इन साइंटिस्टों को अपने जाल में फंसाने की कोशिश करता है. फेसबुक पर बनी आईडी की लोकेशन से लेकर इसके आइपी एड्रेस तक पूरी तरह से गलत होता है.

पाकिस्तानी हनी ट्रैप में युवाओं को फंसाने के लिए कामुक फोटो से लेकर अश्लील चैटिंग तक का सहारा लिया जाता है. डमी महिला मॉडल के जरिये इरोटिक लाइव सेक्स विडियो कॉलिंग भी की जाती है. मिलने का लालच देकर इन युवा वैज्ञानिकों से उनके विभाग की सभी खुफिया जानकारी हासिल करने की हर कोशिश करता है पाकिस्तान.

कुछ दिनों पहले भारतीय इंटेलिजेंस एजेंसी को पाकिस्तानी हनी ट्रैप की इस नई और बेहद खतरनाक साजिश के बारे में पता चला, जिसके बाद संदिग्ध साइंटिस्टों पर कई दिनों तक कड़ी नजर रखी गई. शुरुआती जांच में एजेंसी को पता चला है कि ये साइंटिस्ट विभाग से जुड़ी अहम जानकारी ऑफिस के कंप्यूटर के साथ ही अपने पर्सनल कंप्यूटर और लैपटॉप पर भी रखते हैं. इसके बाद इन वैज्ञानिकों को सीक्रेटली गिरफ्तार किया गया.

पाकिस्तानी हनी ट्रैप का नया पैतरा देश की सुरक्षा के लिहाज से बहुत खतरनाक है. क्योंकि कामुकता के नाम पर लड़के कुछ भी करने को तैयार हो जाते है, ऐसे में यदि कोई भी अहम जानकारी पाकिस्तान के हाथ लग गई, तो देश का बहुत बड़ा नुकसान होगा.

Don't Miss! random posts ..