ENG | HINDI

चीन के बिना 70 दिनों में ऐसे कंगाल हो सकता है पाकिस्तान

पाक सरकार

पाक सरकार – खबरों की मानें तो भारत का सबसे बड़ा प्रतिद्वंदी देश पाकिस्‍तान जल्‍द ही कंगाली के रास्‍ते पर आने वाला है।

पाक सरकार के सूत्रों के मुताबिक इस्‍लामाबाद ने चीन से हाल ही में 1-2 अरब डॉलर यानि 68 से 135 अरब रुपयों का कर्जा मांगा है। पाकिस्‍तान वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक जून में खत्‍म होने वाले वित्तीय वर्ष में चीन और उसके बैंकों द्वारा पाक को दिया गया कर्ज 5 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा।

आपको बता दें कि इस कर्ज को लेने के पीछे इस्‍लामाबाद का एक बड़ा मकसद है। पाक अपनी तेजी से कम हो रहे विदेश मुद्रा भंडार को मजबूत करना चाहता है। मई 2017 में पाक के पास 16.4 अरब डॉलर विदेशी मुद्रा भंडार था जो पिछले हफ्ते गिरकर 10.3 अरब डॉलर तक पहुंच गई।

ये लोन इसी भंडार को मजबूत करने के लिए लिया जा रहा है।

चुनाव के बाद होगा फैसला पाक सरकार का

ये कर्ज ऐसे वक्‍त पर मांगा गया है जब इसी साल अप्रैल में चीन के कमर्शियल बैंकों ने पाक सरकार को 1 अरब डॉलर का कर्ज दिया था।

विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट और लगातार पाक के चालू खाता घाटे को देखते हुए फाइनेंशियल एनालिस्‍ट्स न कहा है कि जुलाई में आम चुनाव खत्‍म होने के बाद पाक को एक बार फिर अंर्तराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के पास कर्ज के लिए जाना पड़ सकता है।

इससे पहले भी 2013 में आईएमएफ ने पाक को 6.7 अरब डॉलर की मदद दी थी।

इतना देना होगा कर्ज

पाक को उम्‍मीद है कि उसे चीन 1 से 2 अरब डॉलर की सहायता दे देगा।  

ये पैसे चीन सरकार के अधीन चलने वाले संस्‍थान की तरफ से दिए जाएंगें। इसके अलावा पाक 2 अरब डॉलर तक की फंडिंग के बारे में पेइचिंग से बात की जा चुकी है। हालांकि, पाक के वित्त मंत्रालय के अधिकारियों की ओर से आर्थिक संकट या लोन को लेकर कोई बयान नहीं आया है।

हो सकता है कि अगर पाक को ये कर्ज ना मिले तो उसमें तंगहाली आ जाए लेकिन सोचने वाली बात तो ये है कि अगर पाक के पास आतंकवादियों को फंड देने के लिए पैसा तो फिर उसके पास ऐसे कामों के लिए कर्ज लेने की नौबत क्‍यों आ रही है।

आए दिन पाकिस्‍तान, भारत पर आतंकवादी हमले करता रहता है और इस वजह से दोनों के बीच दूरियां और बढ़ती जा रही हैं। भले ही पाकिस्‍तान, भारत पर हुए आतंकी हमलों से खुद को दूर रखता हो लेकिन ये कई बार साबित हुआ है कि भारत पर हमला करने वाल आतंकी पाक के नागरिक थे।

अब तो अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर भी पाक को बेइज्‍जती सहनी पड़ रही है। कुछ दिनों पहले पाक एक्‍ट्रेस सबा कमर ने नेशनल टेलीविजन पर खुद को पाक का ना‍गरिक होने पर शर्मिंदा महसूस किया था जबकि ऐसा कभी भारत में नहीं हुआ जब किसी एक्‍ट्रेस या बड़ी हस्‍ती ने यूं टीवी पर अपने ही देश को बेइज्‍जत किया हो। यहां तक हाल ही में विदेश दौरे पर गए पाक के प्रधानमंत्री के तो एयरपोर्ट पर चैकिंग के दौरान कपड़े ही उतरवा लिए गए।

पाकिस्‍तान की ऐसी इमेज के बाद भी ना जाने चीन क्‍यों उसे आर्थिक मदद देता है।

Don't Miss! random posts ..