ENG | HINDI

पाकिस्तान में लोग हवाई जहाज में भी खड़े होकर सफर करते हैं !

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस

अब तक आप ने अक्सर बसों में खड़े होकर लोगों को सफर करते हुए देखा या सुना होगा.

ये आपने कभी नहीं सुना होगा कि लोग हवाई जवाज में सीट नहीं मिलने के कारण खड़े खड़े सफर करते हैं.

लेकिन पाकिस्तान दुनिया का वो विरला मुल्क हैं जहां की एअरलाइनस में लोग खड़े होकर भी सफर करते हैं.

हाल में एक ऐसी खबर आई हैं कि जिसमें इस बात का खुलासा किया गया है कि पाकिस्तान में ओवरलोडेड हवाईजहाज भी चलते हैं. जहाँ दुनिया एक तरफ चाँद तक पहुँच रही है वहीँ दूसरी तरफ पाकिस्तान को धरती से भी नीचे जा रहा है. अब आज तक तो पाकिस्तान ने अपना सारा ध्यान पड़ोसियों को परेशान करने में लगाये रखा. शायद इसीलिए पाकिस्तान के ऐसे दिन आ गये हैं कि अब यहाँ जहाज में लोग खड़े होकर सफ़र करने को मजबूर हैं.

यह मामला पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस से जुड़ा है.

जानकारी के मुताबिक बीते कई सालों से खराब स्थिति में चल रही पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस की हाल ही में सऊदी अरब की एक फ्लाइट फुल होने के बाद भी उसमें 7 एक्स्ट्रा यात्रियों ने सफर किया.

20 जनवरी को भरी गई इस उड़ान में यात्रियों ने प्लेन के गलियारे में खड़े-खड़े यह सफर किया.

इस बात की पुष्टि करते हुए पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के प्रवक्ता ने बताया कि हां यह खबर सही है. लेकिन यह गलती कैसे हुई है इस बात की जांच करनी बाकी है.

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस में तय सीमा से अधिक लोगों ने सफर किया था. बताया जाता है कि करीब साढ़े चार घंटे की यह फ्लाइट पाकिस्तान के कराची से सऊदी अरब के मदीना के लिए थी.

गौरतलब है कि पाकिस्तान के डॉन अखबार में यह रिपोर्ट छपी थी जिसके मुताबिक इन एक्स्ट्रा यात्रियों को हाथ से लिखे बोर्डिंग पास दिए गए, जिसे लेकर इन्होंने उड़ान भरी.

पाकिस्तान के डॉन अखबार से हुई बातचीत में फ्लाइट के कैप्टन अनवर आदिल ने भी इस बात को स्वीकार करते हुए कहा है कि अतिरिक्त यात्रियों के विषय में खुद उनको भी कोई जानकारी नहीं थी. फ्लाइट के टेक ऑफ करने के बाद उन्हें इसकी जानकारी दी गई.

चूंकि पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का प्लेन ने तुरंत ही उड़ान भरी थी इसलिए तत्काल लैंडिंग भी नहीं कराई जा सकती थी. तत्काल लैंडिंग से एक तो ज्यादा ईंधन खर्च होता और ऊपर से यह एयरलाइंस के लिए भी ठीक नहीं होता.

आप आप ही सोच लीजिए पाकिस्तान में बसे ही ओवरक्राउडेड नहीं चलती बल्कि वहां की एयरलाइंस भी ओवरलोडेड चलती है.

इतना ही नहीं, इस  फ्लाइट में इमर्जेंसी के लिए पर्याप्त ऑक्सिजन मास्क और बाकी सेफ्टी डिवाइसेज भी नहीं थे. रिपोर्ट के मुताबिक यह पहला मामला है जब किसी फ्लाइट पर क्षमता से ज्यादा यात्रियों ने सफर किया हो.

फ्लाइट की क्षमता 409 सीटों की थी जिसमें 416 यात्रियों ने सफर किया.

Don't Miss! random posts ..