ENG | HINDI

अब सफर में बोतल नहीं बुलबुला बुझाएगा प्यास !

पानी का कैप्स्यूल

हो सकता है आने वाले दिनों में आपको सफर में प्यास बुझाने के लिए पानी की बोतल लेकर चलने से छुटकारा मिल जाए.

क्योंकि प्लास्टिक की बोतलों से पर्यावरण को नुकसान को देखते हुए लंदन के एक स्टार्टअप ने ऐसा पदार्थ विकसित किया है जिसे बुलबुले का आकार देकर इसमें पानी भरा जा सकता है.

इसका लाभ यह होगा कि जब आपको प्यास लगगी तो, आप इसे पी सकते हैं. यही नहीं, इस बुलबुले को आप पानी के साथ कैप्स्यूल की तरह गटका भी सकते है. आपको बता दें कि स्किपिंग रॉक्स लैब ने पानी को बुलबुले के रूप में कैद करने के लिए एक ऐसा पदार्थ बनाया है, जिसमें आसानी से पानी भरा जा सकता है.

समुद्री शैवाल से बनाया गया यह एक बुलबुलेनुमा पानी की बॉल है. जिसे ओहो नाम दिया है. समुद्री शैवाल से बनाए जाने के कारण यह बुलबुले नुमा पानी का कैप्स्यूल न केवल खाने योग्य है साथ ही यह स्वत नष्ट भी हो जाने वाला है.

जिस कारण आप पानी का कैप्स्यूल ओहो को खोलकर मुंह में पानी डाल सकते हैं या सीधे इसे खा सकते हैं. इसे पानी पीने के बाद फेंकने पर 4-6 हफ्ते में यह स्वत नष्ट हो जाएगा, जैसे कोई फल नष्ट होता है.

बताया जाता है कि इस लेब ने 2013 में ओहो का प्रोटोटाइप बनाया था. सफलता मिलने के बाद अब इसे वृहद रूप से पेश किया है. इसके उत्पादन के लिए इसकी रिटेल मशीनें भी बनाई जा रही हैं. हालांकि ओहो बुलबुलों का आकार कितना बड़ा होगा, इसके बारे में कुछ नहीं कहा गया है.

लेकिन दुनिया को प्लास्टिक की बोतल से मुक्ति दिलाने में यह काफी महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है. जैसा कि हम सभी जानते हैं कि प्लास्टिक की बोतल में पानी रखना दुनियाभर में आम है, लेकिन इन बोतलों को पानी पीने के बाद यहां-वहां फेंकने से बड़ी समस्या पैदा होती है.

एक अनुमान के मुताबिक समुद्र में हर साल एक अरब बोतलें फेंकी जाती हैं, जिससे जीवों को जान का खतरा पैदा हो गया है. यदि यह पानी का कैप्स्यूल प्रयोग सफल और सस्ता हुआ तो आने वाले दिनों में दुनिया को पर्यावरण बचाने में एक बड़ी कामयाबी मिल सकती है.

Don't Miss! random posts ..