ENG | HINDI

परिणाम पर नहीं, सफ़र पर हो नज़र! कामयाबी के कुछ अचूक मंत्र

एक सफल व्यक्ति से किसी ने पूछा कि उनकी सफलता और महानता का राज़ क्या है? इसके जवाब में उन्होंने तुरंत कहा, ‘जब मैं अपने बाल संवार रहा होता हूँ, तो उस समय उसके सिवाए मैं और कुछ नहीं सोचता.’ इस सांकेतिक जवाब के पीछे काफी गूड़ अर्थ छिपा था. उनके इस जवाब का तात्पर्य था कि वे एक समय में जो भी कार्य करते हैं, उनका पूरा ध्यान उसी पर होता है. उनकी सफलता का राज़ भी इसी में है क्योंकि एकाग्रता से ही उन्हें सफलता की ताकत मिलती है.

गुरु द्रोणाचार्य जब अपने शिष्यों की परीक्षा ले रहे थे तब सभी से उन्होंने एक चिड़िया पर निशाना लगाने को कहा. निशाना लगाने के दौरान उन्होंने सभी से पूछा कि उसे क्या दिख रहा है, तो किसी ने जिस वृक्ष पर चिड़िया बैठी थी, उसके बारे में बताया, तो किसी ने कहा कि उसे पेड़ के पत्ते दिख रहे हैं. जब उन्होंने अपने होनहार शिष्य अर्जुन से यही प्रश्न पूछा, तो जवाब में अर्जुन ने कहा कि उन्हें चिड़िया की आँख के अलावा और कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा. इस जवाब से गुरु द्रोणाचार्य बड़े प्रसन्न हुए क्योंकि उन्हें अपना सच्चा शिष्य मिल चुका था. उन्हें इस बात पर गर्व था कि अर्जुन का पूरा ध्यान अपने लक्ष्य पर था.

वहीं, आज की भाग-दौड़ भरी ज़िंदगी में अधिकांश लोग, खासकर स्टूडेंट्स किसी भी कार्य पर अपना ध्यान एकाग्र नहीं कर पाते. फलतः उन्हें मंजिल तक पहुंचने में नाकामयाबी ही हाथ लगती है. अधिकांश स्टूडेंट्स के सामने भी यही समस्या आती है. जब वे अपनी पुस्तक खोल के बैठते हैं, तो अक्सर उसमें लिखी बातें इसलिए उनकी समझ में नहीं आतीं क्योंकि उनका ध्यान कहीं और होता है. वे पन्ने पर पन्ने पलटते चले जाते हैं, पर उनके दिमाग में कुछ नहीं जाता. इससे समय तो नष्ट होता ही है, उनकी हताशा भी बढ़ती है. दरअसल, ध्यान भंग होने के कारण यही हैं कि उनका दिमाग कई तरफ लगा रहता है. वही, अगर तमाम कोशिशों के बावजूद भी दिमाग विचलित रहे, तो आपको थोड़ा-बहुत योग करना चाहिए. इससे भटकाव ख़त्म होगा और किसी भी विषय पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी.

जीवन में अनुशासन का काफी महत्व होता है. इसकी अवहेलना करने पर आपको हर तरफ नुकसान ही होगा. इसलिए बेहतर यही होगा कि आप अपनी दैनिक दिनचर्या से लेकर खान-पान तक को अनुशासित रखें. सुबह एक निश्चित समय पर सोकर उठें और नियम व समय से दैनिक कार्य निपटाएं. याद रहे, व्यवस्थित जीवन जीने से न केवल आपकी एकाग्रता की क्षमता बढ़ेगी, बल्कि आप किसी भी विषय पर अपना ध्यान केंद्रित करने में सक्षम हो सकेंगे. जब आप अध्ययन कर रहे हों, तो कोशिश करें कि आपके दिमाग में उससे भी अलग और कोई बात न आए. हमें एक समय में एक ही कार्य पर ध्यान देना चाहिए. इसके लिए पहले से ये मानकर चलें कि अच्छी पढ़ाई से आपको सुखद व बेहतरीन परिणाम हासिल हो सकता है जो आपके उज्ज्वल व चमकदार भविष्य के लिए सहायक साबित होगा.

Article Tags:

Don't Miss! random posts ..