ENG | HINDI

जानिए नेपाल बार्डर पर एनआईए क्यों कर रही है छापेमारी

एनआईए

भारतीय खुफिया एजेंसी को एक बेहद गोपनीय जानकारी मिली है.

इस जानकारी के बाद जहां राजधानी दिल्ली सहित प्रमुख शहरों में हाई अलर्ट है वहीं एनआईए नेपाल बार्डर पर ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है.

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने भारत में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर फ्रांस जैसी तबाही मचाने के लिए नेपाल बॉर्डर के पास अपने स्लीपर सेल तैनात किए हैं.

यहां से इनकों इशारा मिलते ही भारत में प्रवेश कर अपने मिशन को अंजाम देना है. बताया जाता है कि इसके लिए आईएसआई नेपाल सीमा के नजदीक रहने वाले करीब सौ से अधिक लड़कों को अपनी जाल में फंसा रखा है.

ऐसा पहली बार हुआ है कि जब एनआईए या किसी भारतीय एजेंसी ने इतने व्यापक पैमाने पर नेपाल सीमा पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के एजेंटों की धरपकड़ के लिए इतना बड़ा अभियान चलाया है.

हाल में तहसीन उर्फ मोनू की गिरफ्तारी के बाद इंडियन मुजाहिद्दीन का दरभंगा मॉड्यूल फेल हो गया था.

खबर मिली है कि दुबई में बैठे नेपाली व्यवसायी शम्शुल होदा के माध्यम से आईएसआई नेपाल-उत्तर बिहार के सीमावर्ती जिले पूर्वी चंपारण, सीतामढ़ी, मधुबनी के लड़कों को लालच देकर मोतिहारी मॉड्यूल तैयार कर रहा है.

कुछ दिनों पहले पहले पकड़े गए मोती पासवान, उमाशंकर पटेल व मुकेश यादव ने यह खुलासा एनआईए, आईबी, एटीएस, रेलवे विजिलेंस सहित अन्य खुफिया एजेंसी के समक्ष किया है. तीनों ने कई नाम बताए हैं. इस पर एनआईए की टीम ने स्थानीय पुलिस की मदद से घोड़ासहन व आदापुर इलाके के कई गांवों में छापेमारी की.

बताया जाता है कि इन तीनों को मोतिहारी से अलग किसी दूसरे जगह पर रख कर पूछताछ की जा रही है. आंशका है कि देश के कई जगहों पर हुए रेल हादसे में कहीं न कहीं मोतिहारी मॉड्यूल ने भूमिका निभाई है. खुफिया एजेंसी अब यह जानकारी जुटा रही है कि नेपाल व बिहार में पकड़े गए छह संदिग्धों को प्रशिक्षण कहां दिया गया था. उन्हें नेपाल या दुबई के रास्ते पाकिस्तान तो नहीं भेजा गया था. आतंकी गतिविधियों का सेंटर नेपाल में तो नहीं बनाया गया है.

वहीं खुफिया एजेंसी शम्शुल होदा के रिश्ते अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम सहित अन्य आतंकियों के साथ होने की भी जांच कर रही है. नेपाल के वीरगंज में बैठा शम्शुल का भाई भी साजिश में शामिल है. उसी के माध्यम से उसने नेपाल नागरिक ब्रजकिशोर गिरि उर्फ बाबा को चुना था.

जांच एजेंसी बाबा सहित अन्य संदिग्धों के अकाउंट भी खंगाल रही है. बिहार व नेपाल में पकड़े गए सभी छह संदिग्ध आतंकियों के मोबाइल की सीडीआर भी खंगाली जा रही है.

जांच में यह पता चलेगा कि भारत, नेपाल, दुबई सहित पाकिस्तान में उनकी कहां-कहां बातचीत होती है.

Article Categories:
राजनीति

Don't Miss! random posts ..