ENG | HINDI

लड़कों की मर्दानगी पर सवाल उठाने की कोशिश भी मत करना! वरना यह होगा!

farhan-akhtar-mard

मर्द है तो सामने आ!

चल हट, तू तो मर्द ही नहीं है!

ऐसे और भी ना जाने कितने डायलॉग हम हिंदी फिल्मों में सुनते हैं|

तालियाँ बजायीं, हँसे और फिर भूल गए| लेकिन दोस्तों, सभी मर्दों के लिए यह हँसने की बात नहीं है, कुछ इसे दिल पर ले लेते हैं! मर्द होना और मर्दानगी साबित करना मानो हर मर्द का जन्मसिद्ध अधिकार ही नहीं, उसका कर्तव्य भी है| एक बार कोई सवाल उठा ले बस, फिर देखिये कि किस हद तक जा सकते हैं यह मर्द!

इसी बात का खुलासा हुआ हाल ही में एक स्टडी के दौरान| शोधकर्ता यही जानना चाहते थे कि अगर किसी की मर्दानगी पर सवाल उठाये जाएँगे तो उनकी प्रतिक्रिया कैसी होगी| जानते हैं क्या हुआ?

जिन मर्दों से ऐसे सवाल पूछे गए, उन्होंने बिना सोचे-समझे झूठ का सहारा लिया और खुद को ज़रुरत से अत्यधिक रोमांटिक दिखने की कोशिश की| इतना ही नहीं, उन मर्दों ने अपनी हाइट भी कई इंच ज़्यादा बतायी और अपना ढोल पीटते हुए यहाँ तक कह दिया कि उनके ढेरों रोमांटिक पार्टनर रह चुके हैं और उनसे बड़ा मर्द शायद ही दुनिया में होगा| अब यह बात और है कि यह सब झूठ पकड़ में आ गए, मगर गौर करने वाली बात यह है कि मर्दानगी एक बहुत ही नाज़ुक विषय है मर्दों के लिए!

जिन मर्दों से बाकी सब पूछा गया लेकिन उनकी मर्दानगी पर कोई सवाल नहीं उठाया गया, उन्होंने ऐसा कोई भी झूठ नहीं बोला बल्कि अपनी लव-लाइफ के बारे में सच सच बताया| लेकिन झूठ का सहारा लेकर मर्दानगी सिद्ध करने वाले मर्द किसी सीमा में बंधे बिना यह बताने में जुट गए कि किस तरह वो सच्चे मर्द हैं! अपनी लम्बाई बताने में भी उन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी और असलियत से कई इंच बढ़ा कर अपनी लम्बाई बताई!

अरे भाई आपका कद लम्बा है तो उस से आप मर्द हैं, यह कैसे साबित होगा?

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार मर्दानगी के ऊपर उठे सवाल आदमी को झकझोड़ के रख देते हैं| फिर उन्हें अपना करियर, अपने रिश्ते, दोस्ती वगेरह इतना ज़रूरी नहीं लगते जितना कि अपनी मर्दानगी सिद्ध कर पाना| शायद इसका कारण है हमारा समाज जहाँ बेडरूम की बातें यूँ तो खुले आम नहीं होतीं लेकिन उनका मज़ाक बहुत बनाया जाता है|

इसी जग-हँसाई से बचने के लिए मर्द झूठ का सहारा लेते हैं!

चलिए कोशिश करें एक ऐसा समाज विकसित करने की जहाँ लोग अपनी सेक्स-लाइफ को लेकर इतने घबराएँ नहीं, जहाँ इश्क़-मोहब्बत, हर्ष-आनंद के लिए हो ना कि किसी को कुछ सिद्ध करने के लिए!

और मर्दानगी सिर्फ बिस्तर में साबित नहीं होती, असली मर्द वो है जो अच्छे काम करे, दूसरों की मदद करे, औरतों की इज़्ज़त करे और हर मुसीबत का हँसते-हँसते सामना करे!

क्या आप हैं सच्चे मर्द?

Don't Miss! random posts ..