ENG | HINDI

सूर्य आएगा शुक्र की जगह तो फिर देश में गूंजेगा मोदी-मोदी ! पढ़िए क्या बोल रही है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कुंडली

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

जिस गजकेसरी योग के दम पर नरेद्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे, वह योग अब खत्म हो गया है.

मोदी की कुंडली में अभी ग्रहों की चाल ही परेशानियाँ खड़ी कर रही हैं. शनि से परेशान मोदी को कुछ माह धैर्य से काम लेने की आवश्यकता है.
तो आइये देखते हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सितारे अभी क्या बोल रहे हैं और क्या एक बार फिर से देश में मोदी-मोदी गंजेगा? आइये जानते हैं कैसा रहेगा नरेद्र मोदी जी के लिए आगामी समय-

वर्तमान में क्या है परेशानी

अगर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कुंडली देखी जाये तो आगामी चार माह बहुत अच्छे नहीं बोले जा सकते हैं. दुश्मनों की नजर में मोदी पूरी तरह से खटक रहे हैं. कुंडली का पांचवा घर मष्तिष्क से जुड़ा हुआ होता है. अगर यह घर सही होता है तो इन्सान का विवेक भी सही रहता है. वर्तमान में मोदी की कुंडली के इस घर के अन्दर शुक्र और शनि दोनों विराजमान हैं. वहीँ शुक्र जो कला का ग्रह है उसकी शनि से नहीं बनती है. अभी मोदी की ख्याति में जो हानि हो रही है वह इन्हीं दोनों ग्रहों के कारण हो रही है.

जब नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे तो इनकी कुंडली में गजकेसरी योग था और तब वह जहाँ पैर रखते थे वहां धरती सोना उगलती थी. अब शनि के कारण ही लोगों की नजर इन पर नहीं पड़ रही है.

इस साल 28 फरवरी के दिन जबसे शनि अन्तर्दशा में आया है तबसे इनके दुश्मन इनपर हावी हैं और इनके सारे सकारात्मक काम, कहीं न कहीं जाकर नकारात्मक हो रहे हैं. शनि की वजह से ही दुश्मन इनको आँख दिखा रहे हैं. सबसे बड़ी बात यह है कि इनकी अपनी ही पार्टी के लोग इनकी चुगली कर रहे हैं. बेहतर होगा कि मोदी इनका चुनाव जल्द से जल्द करें और अभी कुछ माह इनसे दूर रहें.

आगामी दो माह के अन्दर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अपने पद और प्रतिष्ठा की रक्षा करनी होगी.

जिस स्थिति में अभी ब्रहस्पति और शनि इनकी कुंडली में हैं उससे इनके पद को हानि पहुँचने के पूरे आसार हैं.

पाकिस्तान का ना करें भरोसा

अभी इस साल तक मोदी सरकार को पाकिस्तान पर ज्यादा विश्वास नहीं करना चाहिए. पाकिस्तान इस साल राहू है जो कुंडली के बारहवें घर में विराजमान है. कुंडली का यह घर व्यय और धन के साथ-साथ सामाजिक प्रतिष्ठा भी तय करता है. इस लिहाज से पाकिस्तान मोदी को इस साल बड़ा धोखा दे सकता है.

फिर गूंजेगा मोदी-मोदी

अगस्त माह के बाद जब सितम्बर में सूर्य, शुक्र की जगह लेगा तब फिर से मोदी जीवन में एक नई संचार ऊर्जा का आगमन होगा. यह समय आने वाले एक साल तक इनके लिए गोल्डन समय होगा. इस समय में फिर से हर जगह मोदी-मोदी ही नाम सुनाई देगा. जो विरोधी अभी हाहाकार मचा रहे हैं वह मोदी के आसपास भी नजर नहीं आयेंगे. इस साल के अंत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कुछ ऐसी योजनाओं को बनायेंगे जो जनता के लिए बहुत अच्छी होंगी. जनता इस कार्य के लिए मोदी को दिल से धन्यवाद बोलेगी.

सितम्बर माह में, पार्टी के अन्दर अभी जो लोग मोदी की बुराई कर रहे हैं वह सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भक्त बने नजर आयेंगे.

स्वास्थ्य का ध्यान रखें

अभी आगामी दो माह तक मोदी अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें. अधिक काम और थकान की वजह से स्वास्थ्य खराब रह सकता है.

क्या है अभी के लिए राय

अभी के लिए राय की बात करें तो नरेद्र मोदी को मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर में दीया जलाना चाहिए. प्रतिदिन अगर हनुमान चालीसा का पाठ किया जाये तो इससे शनि शांत हो जाएगा. अभी जो दुश्मन सामने खड़े हुए हैं, हनुमान कृपा से उनको भी शांत किया जा सकता है.

तो कुल मिलाकर देखा जाए तो अभी मोदी जी की भलाई शांत रहने में ही है.

कैसे भी कैसे अगस्त माह तक का समय काट लिया जाये. इसके बाद जब सूर्य उच्च का होगा तो खुद की नई सकारात्मक ऊर्जा से नरेद्र मोदी, भारत देश में नया इतिहास लिखेंगे.

Don't Miss! random posts ..