ENG | HINDI

एक ऐसा महल जिसे बनाने वाला हर मज़दूर बन गया अमीर

दिनभर सड़क पर, लोगों के घर आदि पर काम करने वाला मजदूर भला अमीर कैसे बन सकता है? ये सोचकर थोड़ी हैरानी होती है. दिनभर पसीना बहाकर कुछ रूपए कमाने वाले ये मजदूर भला ऐसा क्या कर दिए की सब के सब अमीर हो गए. ये बात हज़म होने वाली नहीं है, एल्किन है सच. असल में हमारे देश के एक हिस्से में एक ऐसा महल है, जिसे बनाने वाला हर मजदूर अब अमीर हो चुका है. अकहिर क्या है सच्चाई? आइए जानते हैं.

ये महल देश के राजस्थान प्रदेश में है. राजस्थान के हिल स्टेशन में बना है. जी हाँ, राजस्थान के माउन्ट आबू में है ये महल जिसे बनाकर हर मजदूर अमीर बन गया. इसे यहाँ का ताजमहल भी कहा जाता है. यह मंदिर 1000 साल पहले बना और यह किस प्रकार बना यह आज भी एक रहस्य है. यह जहाँ बना है पहले वो जंगल हुआ करता था. उस समय यहाँ पहुंचना दूभर था. ऐसे में इतनी सुंदर कृति का बनना लोगों को आश्चर्य में डाल देता है. लोग आज भी हैरान होते है कि किस प्रकार इस जंगल में और पहाड़ी पर पत्थरों को लाया गया. इतना सुंदर मंदिर की इसे देखने वाले वहीँ टिक जाते हैं. यहाँ के सुंदर पत्थर लोगों का मन मोह लेते हैं. इसे देखने के लिए विदेश से लोग आते हैं.

ऐसी कहावत है कि इसे बनाने वाले मजदूरों को मजदूरी के रूप में सोना और चांदी मिला था. इसके निर्माण में ये कहावत है कि जब मजदूर इन मार्बल को तराशने के दौरान तोड़ते थे तो जो बड़े टुकड़े बच जाते थे उसे तौला जाता था. उसकी जितनी तौल होती थी उसके बराबर चांदी उस अमुक मजदूर को दिया जाता था. उसके बाद जो मार्बल का पाउडर बच जाता था उसकी तौल होती थी और उस बराबर का सोना उस अमुक मजदूर को दिया जाता था. यह भी कहा जाता है कि 14 साल के बाद दिलवाड़ा जैन मंदिर के निर्माण में लगे हर मजदूर के पास करोड़ों से ज्यादा सोना और चांदी था यानी हर मजदूर करोड़पति हो चुका था.

एक कथा के अनुसार जब इस मंदिर का निर्माण हो रहा था तब यहाँ पर काम कर रहे सभी मजदूरों को दोपहर के २ घंटे आराम करने और खाना खाने के लिए दिया गया था, लेकिन मजदूरों ने सिर्फ आधे घंटे को ही लंच में इस्तेमाल किया बाकी समय यानी डेढ़ घंटा उन्होंने मंदिर निर्माण में लगाया. और दिलवाड़ा जैन मंदिर में लंच टेंपल इसका गवाह है. इससे खुश होकर भी मंदिर बनवाने वाले ने मजदूरों को बहुत सा दान दिया.

यह मंदिर सिर्फ राजस्थान ही नहीं बल्कि पूरे देश में बहुत प्रसिध्द है और यहाँ पर सालभर सैलानियों की भीड़ लगी रहती है. दिलवाड़ा मंदिर जैन धर्मावलंबियों का प्रसिद्ध मंदिर है. दिलवाड़ा जैन मंदिर राजस्थान राज्य के सिरोही जिले के माउंट आबू में स्थित है. ये मंदिर ५ मंदिरों का समूह है.

अपने परिवार के साथ आप भी इस महल और मंदिर को देखने ज़रूर जाएं. इतनी सुंदर आकृति वाला और इतनी सुंदर कहानी वाला दूसरा मंदिर आपको नहीं मिलेगा.  इस मंदिर के साथ राजस्थान के बाकी जगहों की सैर करना भी न भूलें.

Don't Miss! random posts ..