ENG | HINDI

6 कारण आख़िर क्यों भारत की मुस्लिम महिलाएँ कर रही हैं हिंदू धर्म स्वीकार?

मुस्लिम महिलाऐं हिन्दू धर्म में रूचि ले रही हैं

धर्म के बिना जैसे इंसान का जीना मुश्किल होता है. बिना धर्म के जैसे जीवन में स्वाद ही नहीं आता है.

अभी कुछ समय पहले तक हम यह सुनते थी कि फला इंसान ने मुस्लिम धर्म स्वीकार कर लिया और इतने लोगों को मुस्लिम बना दिया गया. लेकिन अब इसी तरह से मुस्लिम लोगहिन्दू बन रहे हैं.

हाल ही मेंउत्तर प्रदेश के अंदर एक शबनम महिला ने हिन्दू धर्म ग्रहण किया और अब वह सीमा बन गयी है. दूसरी तरफ जब यह खबर चारों तरफ फैली तो जैसे कई मुस्लिम संगठन ने इस महिला को मारने तक का फरमान दिया है. किन्तु इस महिला ने हिन्दू धर्म ग्रहण करने से पहले, यह बात सरेआम बोली है कि आखिर क्यों वह महिला मुस्लिम धर्म से निकलकर हिन्दू

धर्म में आ रही है. कोई भी वैसे इस बात से तो इनकार नहीं कर सकता है कि सनातन धर्म सदा से शान्ति को मानने वाला धर्म रहा है. साथ ही साथ इस महिला ने यह बात भी बोली है कि अब उसके साथ अन्य कई और मुस्लिम महिलाएं भी हिन्दू धर्म लेने वाली हैं.

तो आइये आपको आज बताते हैं कि आखिर क्यों मुस्लिम महिलाएं हिन्दू धर्म में रूचि ले रही हैं-

1 . हिन्दू धर्म में अहिंसा है

खुद इस महिला ने दबी जुबान में बोला कि मैं किसी धर्म का अनादर नहीं कर रही हूँ लेकिन हिन्दू धर्म के अंदर अधिक शान्ती है और यहाँ हिंसा का स्थान नहीं है. जीवन को प्यार से जीने का सही तरीका हिन्दू धर्म ही सिखाता है. यही कारण है कि अधिक से अधिक लोग आज हिन्दू धर्म में रूचि ले रहे हैं.

2 . सनातन धर्म में स्वतंत्रता है

आज जितनी स्वतंत्रता महिलाओं को सनातन धर्म दे रहा है उतनी तो शायद ईसाई धर्म भी महिलाओं को जीने कीस्वतंत्रता नहीं दे पा रहा है. मुस्लिम महिलाओं को भी आज जीने का हक़ चाहिए. बीते दिनों पाकिस्तान की एक लड़की ने यह बोला था कि पाक के अंदर मुस्लिम लडकियां तो गलियों में भी नहीं निकल सकती हैं.

3 . तलाक के लिए कानून है

सनातन धर्म में भी तलाक की प्रक्रिया है. यदि किसी पतिपत्नी की नहीं बनती है तो वह भी अलग हो सकते हैं किन्तु सनातन में ऐसा नहीं है कि पत्नी को सिर्फ बोलने से तलाक मिल जायेगा. हो सकता है कि मुस्लिम धर्म का यह कानून वाकई वैज्ञानिक आधार पर हो किन्तु मुस्लिम महिलाओं को ही यह कानून आज पसंद नहीं आ रहा है.

4 . शबनम ने बोली महत्वपूर्ण बात

शबनम ने अपनी बातचीत में महत्वपूर्ण बात बोली कि ऐसा नहीं है कि वह अपने धर्म से परेशान हैं या उसको इस्लाम से कोई परेशानी है. बस उसको समस्या आज के धर्म चलाने वाले लोगों से है. मुस्लिम युवाओं को आगे बढ़ने नहीं दिया जा रहा है और आज मुस्लिम युवा अपनी काबिलियत को भी पेश नहीं कर पा रहे हैं.

5 . नई शिक्षा पर रोक लगी है

आज मुस्लिम महिलाएं भी नई शिक्षा नीति को पढ़ना चाहती है और वह भी आसमान में उड़ना चाहती हैं किन्तु ना जाने क्यों इन महिलाओं को इनका समाज उड़ने से रोक देता है. यह एक मुख्य कारण है कि आज मुस्लिम महिलाएं अपना धर्म छोड़कर अन्य धर्म से जुड़ रही हैं.

6 . भोग की वस्तु नहीं हैं आज मुस्लिम लड़कियाँ

मुस्लिम लड़कियाँ आज भोग की वस्तु बनकर नहीं रहना चाहती हैं. कोई भी इनको इस्तेमाल करके छोड़ दे, और जब भी कभी दिल करें इनका भोग करे, ऐसा सोचना अब इस समाज के मर्दों को छोड़ना होगा. शबनम के साथ ऐसा ही हो रहा था जिस वजह से वह अपने धर्म से बाहर निकली है.

तो मुख्य रूप से यह 6 कारण रहे हैं जिनके कारण आज मुस्लिम महिलाएँ अपना धर्म छोड़ने को मजबूर हो रही हैं. खुली हवा के अंदर साँस लेना ही इनका मुख्य उद्देश्य बनता जा रहा है.

Don't Miss! random posts ..