ENG | HINDI

ये मुंबई की पुलिस हैं या मुंबई के गुण्डे?

Mumbai-Police

भारतीय संविधान में पुलिस का भूमिका एक संरक्षक के रूप बताई गयी हैं. समाज का हर व्यक्ति कानून का पालन सही तरीके से करे इस बात की ज़िम्मेदारी पुलिस की होती हैं.

लेकिन क्या हो जब पुलिस ही कानून को तांक में रख कर अवैधानिक हरकत करने लगे और वह भी “मुंबई पुलिस”

कहा जाता हैं कि मुंबई की पुलिस दुनिया की सबसे बेहतरीन पुलिस फ़ोर्स में आती हैं. लेकिन अभी सोशल मीडिया में मुंबई पुलिस का एक विडियो वायरल हो रहा है जिसमें कानून यह के रखवाले ही कानून की धज्जियां उड़ाते नज़र आ रहे हैं.

यह घटना मुंबई के किस इलाके में हुई हैं इस बात की तो जानकारी नहीं मिल पाई हैं, लेकिन इस विडियो में नो पर्किंग पर खड़ी एक कार को पुलिस के लोग उठाने के बजाये उसके शीशे और एंटीना तोड़ रहे थे. पास से गुज़र रहे एक शख्स ने जब इस बात का विरोध किया कि आप इस तरह गाड़ी के साथ तोड़-फोड़ नहीं कर सकते हैं, चाहे तो इसे आप उठा कर ले जाये तो वहां मौजूद एक पुलिस वाला उल्टा उससे सवाल करने लगा कि अगर यह गाड़ी आप कि नहीं हैं तो आप को क्या लेना-देना हैं? विडियो बनाना बंद करें और यहाँ से आप जाईये.

पुलिस के इस हरकत के बाद भी उस शख्स ने विडियो बनाना जारी रखा और उस व्यक्ति द्वारा बार-बार किये गए सवाल से अंतत उन पुलिस वालों ने उस गाड़ी की तोड़-फोड़ बंद कर दी और उस कार को टोइंग वैन से ले गए. इस विडियो को फेसबुक पर आमची मुंबई नाम के एक ग्रुप ने शेयर किया हैं.

विडियो लिंक- https://www.facebook.com/AsAamchiMumbai/videos/1547543145504943/?fref=nf

लेकिन इस के बाद एक सवाल उठाता हैं कि अगर पुलिस ही इस तरह से गुंडागर्दी करेगी तो कानून की बात कौन करेगा? और बात जब मुंबई पुलिस की हो तो ऐसी घटनाओं में उन पर उंगली उठना लाज़मी हैं.

Article Categories:
विशेष

Don't Miss! random posts ..