ENG | HINDI

महाभारत की 10 भविष्यवाणियां जो कलियुग में हो रही हैं सच साबित

महाभारत की भविष्यवाणियां – हिंदू धर्म में वेद पुराणों और ग्रंथों को बहुत महत्व है, जहां ग्रंथों में रामायण और महाभारत को जीवन का सार बताया जाता है.

लेकिन कोई भी इंसान उसे इतने अच्छे से नहीं पढ़ता है कि वह उसका मतलब निकाल सके. साथ ही इन ग्रंथों में लिखी बातें कलियुग में सच हो रही हैं. महाभारत में कई ऐसे रहस्य हैं जिनके बारे में आपको जानकारी नहीं होगी. महाभारत में कई ऐसी व्यवहारिक बातें लिखी हैं जिन्हे पढ़कर आप अपनी परेशानियों का निराकरण कर सकते हैं.

आज हम आपको महाभारत की भविष्यवाणियां बताने जा रहे हैं, जो कलियुग में हो रही हैं सच.

महाभारत की भविष्यवाणियां

१ – महाभारत में लिखा है कि कलियुग में स्त्री और मर्द बिना विवाह के एक साथ अपनी इच्छानुसार एक ही छत के नीचे रह सकेंगे. लोगों को व्यवसाय में सफलता छल के बल पर मिलेगी. पहले के जमाने में जो ब्राह्मण थे वे अपने शरीर पर बहुत सी चीजें धारण करे रहते थे. लेकिन कलिकाल में वे लोग सिर्फ एक धागा यानि कि जनेऊ पहनकर ब्राह्मण होने की प्रमाणिकता देंगे.

महाभारत की भविष्यवाणियां

२ – महाभारत में कहा गया कि कलिकाल में जो व्यक्ति जितना धनी होगी उसे उतना ही गुणवान माना जाएगा. कानून, न्याय केवल धन के आधार पर ही लागू किया जाएगा.

महाभारत की भविष्यवाणियां

३ – महाभारत में वर्णन किया गया कि कलिकाल में धर्म, सत्यवादिता, स्वच्छता,सहिष्णुता, दया, जीवन की अवधि, शारीरिक शक्ति और स्मृति सभी दिन-ब-दिन क्षीण होती जाएगी.

महाभारत की भविष्यवाणियां

४ – महाभारत में लिखा गया है कि कलिकाल में जो इंसान घूस देने में या धन खर्च करने में सक्षम नहीं होगा उसे न्यायालयों से सही-सही न्याय नहीं मिलेगा. लेकिन जो मनुष्य बहुत चालाक और स्वार्थी होगा उसे कलियुग में लोग विद्वान मानेंगे.

महाभारत की भविष्यवाणियां

५ – महाभारत में बताया गया कि कलियुग में लोग तनाव और दुख में ही रहेंगे उन्हें भूख और प्यार की चिंता रहेगी. कलियुग में हर इंसान किसी न किसी बीमारी से ग्रसित रहेगा. कलिकाल में इंसानों की उम्र केवल 20 या 30 वर्ष ही रहेगी.

महाभारत की भविष्यवाणियां

६ – महाभारत में लिखा है कि कलियुग में लोग नदी-तालाबों को तीर्थ मानेंगे, लेकिन अपने माता-पिता की निंदा करेंगे. लोग अपने सिर पर बड़े-बड़े बाल रखकर खुद को सुंदर मानेंगे और केवल पेट भरना ही लोगों का उद्देश्य होगा.

महाभारत की भविष्यवाणियां

७ – कलियुग में जब बरसात नहीं होगी तो सूखा भी पड़ेगा. कभी ठिठुरती सर्दी पड़ेगी तो कभी भीष्ण गर्मी हो जाएगी. कभी आधी चलेगी तो कभी बाढ़ आएगी. इन परिस्थितियों से मनुष्य परेशान रहेगा और मरता जाएगा.

महाभारत की भविष्यवाणियां

८ – कलियुग में जिस इंसान के पास पैसा नहीं होगा उसे अधर्मी, अपवित्र और बेकारा माना जायेगा. कलिकाल में शादी केवल दो लोगों के बीच समझौता बनकर रहेगी. लोग केवल स्नान करके समझेंगे कि वे अंतरात्मा से भी पवित्र हो गए हैं.

९ – महाभारत में लिखा गया कि कलिकाल में लोग धर्म-कर्म के काम केवल दिखावे के लिये और समाज की नजरों में अच्छे दिखाई देने के लिये करेंगे. कलियुग में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचारी लोग होंगे और लोग कुर्सी-सत्ता के लालच में एक-दूसरे का मर्डर करेंगे.

१० – कलियुग में लोग अकाल और अत्यधिक टैक्स के कराण परेशान रहेंगे और घर छोड़कर सड़कों और पहाड़ों पर निवास करने के लिये मजबूर होंगे. साथ ही मानव पत्ते, जड़, मांस, जंगली शहद, फल, फूल और बीज खाने को मजबूर होगा.

महाभारत की भविष्यवाणियां

ये है महाभारत की भविष्यवाणियां – आपको बता दें कि ज्यादातर लोगों को लगता है कि महाभारत वेदव्यास ने लिखी थी. लेकिन वेदव्यास कोई नाम नहीं है यह एक उपाधि है जिसे वेदों का ज्ञान होता है उसे दी जाती है. कृष्णद्वैपायन से पहले 27 वेदव्यास हो चुके थे, जबकि वह खुद 28वें वेदव्यास थे. महाभारत को तीन चरणों में लिखा गया पहले चरण में 8,800 श्लोक, दूसरे चरण में 24 हजार और तीसरे चरण में एक लाख श्लोक लिखे गए.

Don't Miss! random posts ..