ENG | HINDI

देश की नौजवान खिलाड़ी के साथ हुआ धोखा, सास और पति हर रोज देते रहे दर्द

तारा शाहदेव

तारा शाहदेव – नेशनल शूटर तारा को धोखे में रखा गया और उससे एक मुसलिम आदमी ने हिंदू नाम से शादी कर ली और जब इस बात का खुलासा हुआ तो बात बहुत आगे बड़ चुकी थी.

इस केस की चार्जशीट तक सीबीआई के हाथ में आने की नौबत आ गई.

ये बात है साल 2014 की जब नेशनल शूटर तारा शाहदेव ने एक हिंदू लड़के से शादी की थी लेकिन बाद में उन्हें पता चला की उनके साथ धोका हुआ है असल में उसका पति जो खुद को रंजीत कुमार कोहली बताता है वो एक मुसलमान है जिसकी असली पहचान रकीबुल है.

इस बात का खुलासा हुआ जब तारा अपने पति और उसकी माँ की कैद से बच कर भाग निकली, तारा शाहदेव ने बताया कि रकीबुल और उसकी माँ उससे जबरदस्ती इसलाम धर्म कबूल करवाना चाहते थे. तारा को उसके पति ने ये तक धमकी दी थी कि या तो तुम इसलाम धर्म स्वीकार कर लो या फिर इसी बिस्तर पर तुम्हें रोज एक नये आदमी के साथ सोना पड़ेगा.

तारा शाहदेव ने बताया की अपने प्यार के जाल में फसाने के लिए रकीबुल कई अलग-अलग तरह के हथकंडे अपनाता था, जैसे की बड़े अफसरों के साथ पीली बत्ती की गाड़ी में आना. लेकिन शादी के बाद रकीबुल उर्फ रंजीत ने अपना असली रंग दिखाया. तारा बताती हैं की शादी के बाद उन्हें मांग में सिंदूर तक भरने की इजाजत नहीं थी, रकीबुल की माँ उसे हाथ तोड़ने की धमकी देती थी और कहती थी कि इस घर में सुहाग की निशानी के लिए कोई सिंदूर नहीं लगाता और ना तुम लगाओगी.

तारा शाहदेव आगे बताती हैं की शादी से पहले शूटिंग रेंज के लिए फंड दिलवाने तक के वादे कर के उन्हें फसाया गया था और साथ ही धौंस तक जमा कर दिखाई थी कि उसके पास किसी चीज की कमी नहीं है लेकिन शादी के बाद तो जैसे सब कुछ ही बदल गया हो, रंजीत यानी रकीबुल की असलियत तो तभी सामने आई थी.

तारा शाहदेव

रकीबुल बेहद शातिर दिमाग का था और उसने काफी चालाकी से तारा शाहदेव को फांसा था. आम दिनों की ही तरह रकीबुल सभी लड़कियों के साथ खेलता था और तारा को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए उसने कॉलेज में 2-3 बच्चियों का एडमिशन तक करवा दिया ताकी ऐसा लगे की उससे अच्छा और प्रभावशाली इंसान और कोई नहीं.

बता दे की शादी के बाद तारा को उसकी सास कौशर और पति रकीबुल से दहेज तक की धमकियां मिली थी और साथ ही उसपर जबरन धर्म परिवर्तन के अत्याचार भी किए जाने लगे थे. नेशनल शूटर तारा के इस केस की चार्जशीट सीबीआई ने तैयार की है और कहा है की इस मामले में 3 दोषी हैं कौशर, रकीबुल और अकशतमोहमद. अकशत मोहमद रकीबुल का ही पुराना साथी है.

फिलहाल हाइकोर्ट ने रकीबुल को शादी से पहले तारा शाहदेव को अपना झुठा धर्म बताने के जुर्म में और साथ ही शादी के बाद उसे जबरन इस्लाम अपनाने के लिए मजबूर करने के लिए जेल की सजा सुनाई थी. साल 2014 27 अगस्त से रंजीत उर्फ रकीबुल जेल में हैं जबकि उसकी माँ जमानत भर रिहा है.

Don't Miss! random posts ..