ENG | HINDI

मौत के मुंह में खुशहाल जिंदगी, ये है रियल खतरों का खिलाडी

खतरों का खिलाडी

खतरों का खिलाडी – प्रकृति के द्वारा रचित इस संसार में एक से बढ़कर एक अजीबो-गरीब चीजें आपको देखने को मिल जाएंगे.

ऐसे ना जाने कितने लोग आपको मिल जाएंगे जो अपने अलग तरह के कारनामों की वजह से चर्चित हो जाते हैं. कई बार तो ऐसा होता है कि आंखों के सामने कोई व्यक्ति ऐसे कार्य कर रहा होता है जिस पर यकीन करना नामुमकिन सा हो जाता है.

लेकिन वो हकीकत में होता है. कुछ ऐसी ही सच्ची कहानी मैं आपको बताने जा रही हूं जिसे जानकर आप हैरान हुए बिना नहीं रह पाएंगे.

इस जहां में हर प्रकार के इंसान मौजूद हैं. कुछ आदमी ऐसे होते हैं जो अपनी गलत हरकरतों के कारण विश्व विख्यात होते हैं तो कुछ अपनी बहादुरी के दम पर प्रसिद्धि हासिल करते हैं जबकि कुछ इतने कायर होते हैं कि क्या कहने.

खतरों का खिलाडी

लेकिन ऐसे लोगों की संख्या इस जहां में बहुत अधिक है जो अपने काम के प्रति पूरी तरह से समर्पित रहते हैं.

पूरी ईमानदारी से अपने हर कार्य को संपन्न करते हैं. लेकिन यहां आज जिस शख्स की बात हो रही है वो ऐसे कार्य को करता है जिसके बारे में सोच कर भी रूह कांप जाए.

लेकिन वो शख्स दिन-रात इस कार्य को करता है और वो भी पूरी लगन के साथ और खुशी के साथ.

इस कार्य को करने के लिए ईमानदारी की आवश्यकता तो होती ही है लेकिन साथ ही उससे भी अधिक आवश्यकता इस बात की है कि इस तरह के काम को करने के लिए आप में भरपूर मात्रा में साहस होने चाहिए.

खतरों का खिलाडी

इस कार्य को करना मतलब अपनी जान को हर वक्त जोखिम मे डालने वाली बात होती है. वैसे इस बात को हम नहीं झुठलाते हैं कि इस दुनिया में ऐसे साहसी लोगों की भी कमी नहीं है जो मौत के मुंह में जाकर कार्य को अंजाम दे. लेकिन ये खतरों का खिलाडी ऐसा इंसान है जो अपवाद है. वो ना सिर्फ मौत के मुंह मे काम करता है बल्कि मौत के मुंह मे ही अपने परिवार के साथ खुशी-खुशी रहता भी है.

ये व्यक्ति काम की खातिर हर वक्त मौत को गले लगाने के लिए तैयार रहता है. जिस व्यक्ति की बात हो रही है उसका नाम माउंट इजेन है और इजेन की उम्र 36 साल है. इजेन के बारे में बताएं तो ये पिछले 10 सालों से लगातार जावा के एक सक्रिय ज्वालामुखी मे काम करते आ रहे हैं. निश्चित रूप से आप हैरान हो गए होंगे लेकिन ये पूरी तरह से सच है. ये कोई फिल्मी कहानी नहीं बल्कि असल जिंदगी की असल हीरो की सच्ची कहानी है. हकीकत है कि इजेन पिछले कई सालों से निरंतर सल्फेट की एक खान में कार्यरत है.

खतरों का खिलाडी

निरंतर इस कार्य को करने वाले इजेन कहते हैं कि उन्हें अब ये उनका घर लगता है. खतरों का खिलाडी इजेन बताते हैं कि ‘अब मुझे यहां पर बेहद सुकून मिलता है. पिछले लगभग 10 सालों से मैं यहां कार्यरत हूं।’

ये तो रही काम की बात लेकिन इतना ही नहीं इजेन ने इस जानलेवा ज्वालामुखी के आसपास अपना घर भी बसा रखा है. ज्वालामुखी से कुछ ही दूरी पर इजेन ने अपना एक रेस्टोरेंट भी खोल लिया है जहां पर वो खाना भी खुद ही बनाया करते हैं. जिन दिनों ज्वालामुखी शांत रहा करता है उन दिनों यहां पर सैलानियों का आवागमन काफी रहता है.

अगर फोटोग्राफर्स की बात करें तो वे हर मौसम में आते-जाते रहते हैं.

आपको बता दें कि खतरों का खिलाडी इजेन जिस तरह के ज्वालामुखी के नजदीक रहते हैं उस जावा का ये सक्रिय ज्वालामुखी कभी भी फट सकता है. इसके फटने की वजह से जो धुआं और लावा निकलता है वो इंसान के लिए जानलेवा होता है. इन सब बातों को जानने के बावजूद भी इजेन अपने कार्य को पूरी ईमानदारी और वफादारी के साथ पूरी मेहनत और लगन से किया करते हैं.

इजेन के परिवार में उनका एक बेटा और उनकी पत्नी रहती है. इजेन ने अपने घर के पास में खेती भी लगा रखी है. फसल से इतना हो जाता है कि आसानी से उनका परिवार चल सके.

ये है खतरों का खिलाडी – किसी ने सच ही कहा है की पेट पालने के लिए इंसान किसी भी हद तक जा सकता है. और हो भी क्यों नहीं आखिर पेट नहीं पालेंगे तो ज़िंदा भी तो नहीं रहा जा सकता. लेकिन इजेन अपने काम को कोई मजबूरी समझकर नहीं करते. इजेन को अपने काम से बेपनाह मोहब्बत है. जिसके कारण उनकी ज़िंदगी मौत के मुँह भी खुशनुमा है.

Don't Miss! random posts ..