ENG | HINDI

कुरूक्षेत्र के युद्ध में मारे जाने वाले एक भी योद्धा का शव नही मिला था, जानिये क्यो?

कुरूक्षेत्र के युद्ध में

कुरूक्षेत्र के युद्ध में – महाभारत का युद्ध आज से हजारों साल पहले कौरवों और पांडवों के बीच लड़ा गया था।

कुरूक्षेत्र के युद्ध में हजारों योद्धाओं ने अपने प्राण गवाएं थे, ऐसा कहा जाता है कि इन योद्धाओं के खून से आज भी कुरूक्षेत्र की मिट्टी का रंग लाल है। लेकिन क्या आप जानते है हजारों की संख्या में मरने वाले इन योद्धओं के शवों का क्या हुआ होगा क्योंकि आज तक खुदाई में या किसी भी तरह से उस जगह पर किसी कंकाल के होने की खबर नही मिली है। और नाही इतिहास में उस जगह पर किसी भी तरह के शवों के होने की जानकारी मिली है।

कुरूक्षेत्र के युद्ध में

हालांकि ये बात हजारों साल पहले की है लेकिन जब लाखों साल पहले धरती पर हुए डायनासोर के कंकाल मिल सकते है तो कुरूक्षेत्र के युद्ध में मरने वाले हजारों योद्धाओं के कंकाल क्यों नही।

दरअसल ऐसा माना जाता है कि महाभारत काल के समय युद्ध में मरने वाले सभी योद्धाओं का अंतिम संस्कार किया जाता था शायद इसलिए आज तक कुरूक्षेत्र के युद्ध में मरने वाले किसी भी योद्धा का शव या अस्थियां मिलने की खबर नही है।

कुरूक्षेत्र के युद्ध में

यहां पर हम कुछ फैक्ट बताने जा रहे है जो बताते है कि कुरूक्षेत्र के युद्ध में मरने वाले योद्धाओं का बाद में क्या हुआ था।

शाम ढलते ही रोक दिया जाता था महाभारत का युद्ध-

ऐसा कहा जाता है कि महाभारत का युद्ध सिर्फ दिन में ही लड़ा जाता था और शाम ढलते ही युद्ध रोक दिया जाता था।

कुरूक्षेत्र के युद्ध में मारे गये योद्धाओं के शव का अंतिम संस्कार कर दिया जाता था। कुरूक्षेत्र के इतिहास पर रिसर्च कर चुके अमल नंदन का कहना है कि उत्तरायन के दिन जब भीष्म पितामह ने अंतिम सांस ली तो उस दिन कुरूक्षेत्र के युद्ध के समाप्त होने की घोषणा भी की गई थी। उस दिन कुरूक्षेत्र की भूमि को भी जला दिया गया था ताकि कुरूक्षेत्र के युद्ध में मारे गये योद्धाओं को स्वर्ग में जगह मिले। जलने के बाद उस मिट्टी से युद्ध के सभी निशान भी मिट गये।

युद्ध के लिए आखिर कुरूक्षेत्र ही क्यो चुना गया

महाभारत के युद्ध के लिए जमीन की तलाश श्रीकृष्ण द्वारा की गई थी।

श्रीकृष्ण नही चाहते थे कि संबंधी और कुटुंब लोग आपस में जब एक-दूसरे को मरते और मारते हुए देखेंगे तो कही ये लोग एक-दूसरे से संधि ना कर बैठे और युद्ध न टाल दे। इसलिए युद्ध के लिए ऐसी जमीन चुनी जाए जिसमें क्रोध और द्वेष के संस्कार पर्याप्त मात्रा में हो। वास्तु के हिसाब से भी वो ऐसी जगह हो जहां शांति नही हो और युद्ध के आसार बने।

श्रीकृष्ण ने ऐसी जमीन की तलाश के लिए कई लोगों को अलग-अलग दिशाओं में भेजा तब जाकर कुरूक्षेत्र को चुना गया। ऐसा कहा जाता है कि कुरूक्षेत्र में एक भाई ने अपने सगे भाई को ही छुरे से काट दिया था। जब श्रीकृष्ण ने इस स्थान की नृशंसता सुनी तो उन्होंने निश्चय किया की भाई द्वारा भाई को काट देने वाली इस जगह पर ही महाभारत का युद्ध होना चाहिए।

Don't Miss! random posts ..