ENG | HINDI

चुड़ैल की वजह से एक रात में खाली हुआ गांव ! 250 साल से इस रास्ते से कोई नहीं गुजरा

Kulbhata Village

जैसलमेर से कुछ ही किलोमीटर की दुरी पर एक गाँव बसा हुआ है.

इस गाँव को जाने वाले सभी रास्ते कभी खोल दिए जाते हैं तो कभी सील हो जाते हैं.

रात के समय तो यहाँ जाना बिलकुल मना है. शाम होने से पहले ही गाँव को जाने वाले सभी रास्ते सील कर दिए जाते हैं. अगर कोई व्यक्ति भूल से अन्दर रह जाता है तो उसकी सुरक्षा की गारंटी कोई नहीं लेता है.

हम बात कर रहे हैं कुलभाटा गाँव की.

राजस्थान का यह एक ऐसा गाँव है जहाँ कोई भी नहीं रहता है. कहते हैं कि सालों पहले यह गाँव एक भरा पूरा गाँव था. चारों तरफ खुशहाली ही थी. लेकिन फिर गाँव पर एक चुड़ैल का हमला हुआ और उस हमले की वजह से एक ही रात में पूरा गाँव खाली हो गया था.

आसपास के गाँव वाले बताते हैं कि वह चुड़ैल इसी गाँव में रहती है और आज वह पहले से बहुत ज्यादा शक्तिशाली हो चुकी है.

कुछ साल पहले इस घटना पर एक फिल्म भी बनी थी. जिसको सच्ची कहानी पर आधारित बताया गया था. लेकिन ऐसे बहुत से केस हो चुके हैं कि इस चुड़ैल ने कुछ लोगों की जान भी ली है.

कई बार यह चुड़ैल पास के गाँव वालों को भी तंग करती है. रात के समय गाँव में कुछ अजीब तरह की आवाजें आती रहती हैं. कई बार कोई महिला रोती रहती है तो कई बार तो घरों के टूटकर गिरने की भी आवाजें आती हैं. लेकिन सुबह वहां कोई भी घर टूटा नहीं मिलता है.

क्या है पूरी कहानी

इस कहानी को कुछ 250 साल पहले की कहानी बताया जाता है.

गाँव के अन्दर अचानक से ही एक चुड़ैल आ गयी थी. इस चुड़ैल को अमर रहने के लिए जवान लड़कियों की बलि चाहिए होती थी तब उस चुड़ैल ने गाँव से एक-एक कर लड़कियों को खत्म करना शुरू कर दिया.

इस चुड़ैल का नाम कालो है. वह चुड़ैल काफी खतरनाक थी. लेकिन एक दिन गाँव वालों ने साहस करते हुए इस चुड़ैल को बाबा की मदद से पकड़ा और उसको जमीन में दफ़न कर दिया.

गाँव वालों को लगा था कि परेशानी शायद अब खत्म हो गयी है. लेकिन यह मात्र उनका भ्रम था. कुछ ही दिनों बाद चुड़ैल वापस आई और इस बार वह बहुत ज्यादा गुस्से में थी. गाँव वालों को अपनी जान बचाते हुए इस गाँव को एक ही रात में खाली करना पड़ा था.

250 साल से सुनसान एक रास्ता

गाँव में एक सड़क है, जहाँ पर कहते हैं कि 250 सालों से कोई नहीं गुजरा है.

कुछ लोग इस रास्ते से जाने की कोशिश भी कर रहे थे लेकिन वह जिन्दा नहीं बचे थे. आज यह गाँव सुनसान पडा हुआ है. आसपास के लोग आये दिन चुड़ैल की हरकतों से वाकिफ रहते हैं.

बेशक आप इस कहानी को काल्पनिक मान सकते हैं लेकिन अगर आपको कहानी पर यकीन ना हो तो आप एक बार पास के गाँव में जाकर इसी प्रमाणिकता को जांच सकते हैं.

लेकिन एक बात तो सच है कि रात के समय आप इस गाँव में रुकने की हिम्मत बिलकुल नहीं कर पायेंगे.

Don't Miss! random posts ..