ENG | HINDI

जानिए योगी क्यों चाहते हैं कि हिंदू इस दरगाह पर न जाए

सुहेल देव पासी

सुहेल देव पासी – मुख्यमंत्री बनने के बाद नहीं बल्कि बहुत पहले से ही योगी आदित्यनाथ हिंदुओं से कहते आ रहे हैं कि वे इस मजार पर चादर और फूल न चढ़ाए.

उनका साफ कहना है कि हिंदुओं को बहराइच स्थित सलार मसूद की दरगाह पर हरगिज नहीं जाना चाहिए. अगर कोई हिंदू ऐसा करता है तो वह अपने पूर्वजों का अपमान करता है.

क्योंकि सलार मसूद की दरगाह पर फूल चढ़ाने वाले प्रत्येक भारतवासी को उसके बारे में जान लेना चाहिए कि वो कौन था. आज जो हिंदू सलार मसद की दरगाह को पूजते हैं वह नहीं जानते कि वह उन्हीं के पूर्वजों का हत्यारा, हिंदू औरतों का बलातकारी और मूर्ती भंजन दानव था. इतिहास भूल हिंदू समाज आज उस राक्षस को एक देवता की तरह पूजने में लगा है.

आज बहराइच में उसकी मजार पर हर साल उर्स लगता है और उसमें हिन्दुओं के हत्यारे की मजार पर सबसे ज्यादा हिन्दू ही जाते हैं.

जबकि बहराइच के पासी राजा सुहेल देव पासी को हिंदू नहीं जानते हैं.

चलिए हम बताते हैं कि कौन है सुहेल देव पासी जिनकों पूजने की बात यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बार बार कर रहे हैं.

महमूद गजनवी के उत्तरी भारत को १७ बार लूटने व बर्बाद करने के कुछ समय बाद उसका भांजा सलार गाजी ने भारत को दारूल इस्लाम बनाने के उद्देश्य से भारत पर हमला किया.

वह पंजाब, सिंध, आज के उत्तर प्रदेश को रोंद्ता हुआ बहराइच तक जा पंहुचा. रास्ते में उसने लाखों हिन्दुओं का कत्लेआम कराया, लाखों हिंदू औरतों के बलात्कार हुए, हजारों मन्दिर तोड़ डाले. राह में उसे एक भी ऐसा हिन्दू वीर नही मिला जो उसका मान मर्दन कर सके. इस्लाम की जेहाद की आंधी को रोक सके.

लेकिन बहराइच अयोध्या के पास है के राजा सुहेल देव पासी अपनी सेना के साथ सलार गाजी के हत्याकांड को रोकने के लिए जा पहुंचे. महाराजा व हिन्दू वीरों ने सलार गाजी व उसकी दानवी सेना को मूली गाजर की तरह काट डाला. सलार गाजी मारा गया. उसकी भागती सेना के एक एक हत्यारे को काट डाला गया.

हिंदू राजा सुहेल देव पासी ने अपने धर्म का पालन करते हुए, सलार गाजी को इस्लाम के अनुसार कब्र में दफन करा दिया.

कुछ समय पश्चात् तुगलक वंश के आने पर फीरोज तुगलक ने सलारगाजी को इस्लाम का सच्चा संत सिपाही घोषित करते हुए उसकी कब्र पर मजार बनवा दी. उसके बाद मुसलमानों की देखा देख हिंदू भी अपने पूर्वजों के हत्यारे सलार मसूद को पूजने लगे.

सलार गाजी हिन्दुओं का गाजी बाबा हो गया है. हिंदू वीर शिरोमणि सुहेल देव पासी सिर्फ पासी समाज का हीरो बनकर रह गए. और सलार गाजी हिन्दुओं के भगवान बनकर हिन्दू समाज का पूजनीय हो गया है.

जिस हिंदू वीर सुहेल देव पासी के प्रताप के कारण इस्लामी सेना की इस पराजय के बाद विश्व में भारतीय शूरवीरों का ऐसा आतंक व्याप्त हो गया कि उसके बाद आने वाले 150 वर्षों तक किसी भी आक्रमणकारी को भारतवर्ष पर आक्रमण करने का साहस ही नहीं हुआ.

उसे आज हिंदू भूला बैठा है. यही वह बात है जो योगी आदित्यनाथ को बुरी लगती है.

Don't Miss! random posts ..