ENG | HINDI

सलवार कमीज़ पहननेवाली इस महिला से WWE के रिंग में खौफ खा जाते हैं बड़े-बड़े रेसलर !

वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट की चकाचौंध भरी दुनिया हमेशा से ही युवा रेसलर्स को आकर्षित करती रही है. बात करें वर्तमान भारतीय रेसलर्स की तो इनमें ग्रेट खली का नाम सबसे पहले जुबां पर आता है.

लेकिन इन दिनों सलवार कमीज़ पहननेवाली एक भारतीय महिला डब्ल्यू डब्ल्यू ई के रिंग में अच्छे-अच्छे रेसलर्स को धूल चटा रही है. यहां सबसे खास बात तो यह है कि इस महिला रेसलर को ट्रेनिंग देनेवाला कोई और नहीं बल्कि ग्रेट खली ही हैं.

तो चलिए हम आपको सलावर कमीज़ पहनकर रिंग में बड़े-बड़े धुरंधरों को पटखनी देनेवाली इस महिला रेसलर के बारे में विस्तार से बताते हैं.

 

अपने पहनावे को लेकर बटोर रही है सुर्खियां

हरियाणा से ताल्लुक रखनेवाली कविता देवी सलवार कमीज़ पहनकर डब्ल्यू डब्ल्यू ई के रिंग में उतरने वाली पहली भारतीय महिला रेसलर है. अपने शानदार रेसलिंग मूव्स के अलावा कविता देवी अपने पहनावे को लेकर सोशल मीडिया पर काफी सुर्खियां बटोर रही है.

डब्ल्यू डब्ल्यू ई की ओर से पहली बार सिर्फ महिलाओं के लिए आयोजित किए गए टूर्नामेंट माई यंग क्लासिक में कविता देवी न्यूज़ीलैंड की डकोटा कई के खिलाफ रिंग में उतरीं.

कविता ने इस रिंग में डकोटा को शानदार पटखनी दी जिसे देखकर दर्शक काफी हैरान और प्रभावित रह गए. हालांकि कविता के इस शानदार प्रदर्शन के बावजूद न्हें इस टूर्नामेंट के पहले राउंड में हार का सामना करना पड़ा था.

भारतीय पहनावे में मचा रही हैं धमाल

आमतौर पर डब्ल्यू डब्ल्यू ई में महिला रेसलर्स अपने बोल्ड वेस्टर्न पहनावे के लिए जानी जाती हैं. लेकिन कविता देवी ने वेस्टर्न पहनावे के बजाय भारतीय पहनावे को ही ज्यादा अहमियत दी. आपको बता दें कि अनका ट्रेडिशनल पहनावा लोगों को काफी पसंद आया है. भारतीय परिधान में अच्छे-अच्छों को धूल चटानेवाली कविता भारत की कई महिलाओं के सामने अपने कारनामों से एक नई मिसाल पेश कर रही हैं.

साल 2017 में कविता देवी ने डब्ल्यू डब्ल्यू ई के दुबई ट्राईआउट में अपना परचम लहराया था. इस टूर्नामेंट में कविता के शानदार प्रदर्शन को लेकर डब्ल्यू डब्ल्यू ई टैलेंट डेवलपमेंट के वाईस प्रेसिडेंट का मानना है कि कविता एक एथलीट एंव बेहद ताकतवर महिला हैं जिनमें इस एंटरटेनमेंट स्पोर्ट की जबरदस्त समझ है.

द ग्रेट खलीकी स्टूडेंट हैं कविता

इसमें कोई शक नहीं है कि द ग्रेट खली के नाम से मशहूर दलीप सिंह राणा ने डब्ल्यू डब्ल्यू ई में काफी नाम कमाया है और कविता देवी भी द ग्रेट खली की ही स्टूडेंट हैं. आपको बता दें कि भारतीय रेसलर्स को डब्ल्यू डब्ल्यू ई के लिए तैयार करने के मकसद से खली पंजाब में रेसलिंग प्रमोशन एंड ट्रेनिंग एकेडमी चलाते हैं और कविता ने भी प्रोफेशनल रेसलिंग के दांव-पेंच इसी ट्रेनिंग अकादमी में सीखे हैं.

द ग्रेट खली की स्टूडेंट कविता वेटलिफ्टिंग में भी पदक जीत चुकी हैं. साल 2016 में आयोजित हुए साउथ एशियाई गेम्स में महिला वेटलिफ्टिंग के 75 किलोग्राम वर्ग में कविता देवी ने गोल्ड मेडल जीतकर देश को गौरवान्वित किया था.

बहरहाल आनेवाले समय में यह देखना दिलचस्प होगा कि द ग्रेट खली की यह स्टूडेंट अपने गुरू के नक्शे कदम पर चलते हुए लेडी ग्रेटी खली बनने में कामयाब हो पाती हैं या नहीं.

 

 

Don't Miss! random posts ..