ENG | HINDI

शनि के कोप से सब डरते है लेकिन इस अनोखे मंदिर में हनुमान के चरणों शनि नारी रूप में रहते है!

Sarangpur hanuman

शनि देव का नाम सुनते ही अच्छे अच्छों के पसीने छूट जाते है.

हर शनिवार शनि देव पर तेल चढ़ाने वालों की कतार लगी रहती है. शायद ही कोई और देवता होगा जिससे आम जन इतने अधिक डरते है.

शनि का ही प्रकोप था जो बाल गणेश का सर कट गया था, शनि की दृष्टि से ही राम को वनवास मिला था.  इन सब घटनाओं से ही पता चलता है कि शनि कितनी जल्दी कुपित होते है और उनके कोप से भगवान् भी नहीं बच  सकते.

लेकिन आज हम आपको एक ऐसे अनोखी कथा बताएँगे जिसमे शक्तिशाली शनि देव को भी डर कर नारी रूप धरना पड़ा था.

ये कथा है हनुमान और शनि देव की. वैसे तो हमारे ग्रंथों में हनुमान जी और शनिदेव के बारे में बहुत सी कथाएं है.

ये भी कहा जाता है कि हनुमान के भक्तों पर शनि का कोप नहीं होता है. हनुमान जी के आगे शनि की एक नहीं चलती.

Shri-Hanuman-Mandir

शनि पर तेल चढाने के पीछे भी कहा जाता है कि एक बार हनुमान जी और शनि देव में युद्ध हुआ और उस युद्ध में हनुमान जी ने शनि देव को छठी का दूध याद दिला दिया. इसके बाद से ही शनि देव पर तेल चढ़ाया जाने लगा.

लेकिन आज हम यहाँ बात कर रहे है गुजरात में स्थित हनुमान जी के एक ऐसे मंदिर की जहाँ शनि देव हनुमान जी के चरणों में बैठे है और वो भी स्त्री का रूप लेकर.

गुजरात के भावनगर में स्थित सारंगपुर गाँव में हनुमान का एक प्राचीन मंदिर है. कथाओं के अनुसार एक बार धरती पर शनि देव का कोप बहुत बढ़ गया. शनि की दृष्टि से सभी मानव और देव त्रस्त हो गए थे. ऐसे में सभी लोगों ने निर्णय लिया कि शनि के कोप से केवल हनुमा ही रक्षा कर सकते है.

जब हनुमान को ये बात पता चली कि सहनी उनके भक्तों को परेशान कर रहे है तो हनुमान बहुत ही क्रोधित हुए.

क्रोध में वो अपनी गदा लेकर शनि को अपने भक्तों को परेशान करने की सजा देने के लिए निकले. जब शनि देव को पता चला कि हनुमान क्रोध में लाल पीले होकर उनके ही पीछे आ रहे है तो शनिदेव डर गए. उन्हें पता था की हनुमान से उनकी रक्षा कोई नहीं कर सकता. हनुमान के क्रोध से बचने का एक ही उपाय है स्त्री रूप धारण कर लेना.

kashtbhanjan Hanuman

क्योंकि हनुमान बाल ब्रह्मचारी है और वो ना कभी किसी स्त्री पर हाथ उठाते थे और ना ही किसी स्त्री के साथ बुरा बर्ताव करते थे.

ये सोचकर शनि देव ने हनुमान से बचने के लिए स्त्री रूप ले लिया और उनके चरणों में शरण मांगी.

हनुमान जी जान गए थे कि ये नारी रूप में शनि देव ही है लेकिन हनुमान नारी पर हाथ नहीं उठाते थे इसलिए उन्होंने नारी रुपी शनि देव को क्षमा कर दिया. इसके बाद शनि ने हनुमान के भक्तों पर से अपना कोप हटा लिया और नारी रूप में हनुमान जी के चरणों में रहने का प्रण लिया.

गुजरात के इस हनुमान मंदिर को कश्त्भंजन हनुमान मंदिर के नाम से जाना जाता है. कहा जाता है कि इस मंदिर में दर्शन करने वाले हनुमान भक्त पर शनि का कोप नहीं होता है.

Don't Miss! random posts ..