ENG | HINDI

अगर सर्दियों में घूमना चाहते हैं कोई अच्छी जगह तो M.P का ये छोटा सा शहर पूरी कर देगा आपकी हर ख्वाहिश !

खजुराहो

खजुराहो – भारत एक बहुत ही बड़ा देश है, यहाँ तरह-तरह की संस्कृति, सभ्यताये, इमारते और उन इमारतों से जुडी तरह-तरह की कहानियाँ पाई जाती है लेकिन इन सभ्यताओं की सबसे बड़ी बात है ये है कि अलग-अलग रीती रिवाज और परंपरा होने के बावजूद भी आपस में खूब संगठित है।

इनमें से प्राचीन काल की प्राचीन इमारते जो उन प्राचीन नगरों की संस्कृति को दर्शाने में एक खासी भूमिका निभाती है, सबसे पहले अस्तित्व में आती है।

आज हम बात करने वाले है एक ऐसे ही शहर की, जो अपनी इमारतों के लिए प्रसिद्द है।  और इस शहर का नाम है खजुराहो।

आपने अपने आस –पास कई बार ये नाम सुना होगा। क्योंकि यहाँ की कामुक मूर्तियाँ पूरे विश्व में प्रसिद्द है। इन मंदिरों को देख कर हमें अपने पूर्वजों के सेक्स से संबंधित ज्ञान का पता चलता है। ये मंदिर कामशास्त्र के मामले में एक खासी भूमिका निभाते हैं। यहाँ 85 मंदिर है जिनमें पश्चिमी मंदिर समूह, जैन मंदिर, घंटाई मंदिर, जवारी मंदिर इत्यादि मंदिर प्रसिद्द है।

सेक्स पोजीशन के लिए प्रसिद्द ये कामुक मूर्तियाँ पश्चिमी मंदिर समूह में आसानी से देखी जा सकती है।

खजुराहो

इसके अलावा अगर आप खजुराहो में और भी कुछ घूमना चाहते हो तो यहाँ हर साल फरबरी माह में इंटरनेशनल डांस फेस्टिवल का आयोजन होता है। जिसमें देश-विदेश से कलाकार आते हैं और भारत के क्लासिकल नृत्य- भरतनाट्यम, कुचिपुड़ी, ओडिसी इत्यादि नृत्यों के माध्यम से प्रस्तुति देते हैं। अक्सर यह फेस्टिवल 20 से 26 फरबरी के बीच देखा जा सकता है।खजुराहो डांस फेस्टिवल में जो कलकार आते हैं उनमें फिल्म कलाकार भी शामिल होते हैं, अगर बॉलीवुड के कलाकार की बात कि जाए तो अब तक हेमा मालिनी, ईशा देवल, आन्हा देवल अपने पारंपरिक डांस के माध्यम से प्रस्तुति दे चुकी है।

खजुराहो

अगर फिल्म के क्षेत्र में खजुराहो का नाम लिया जाए तो यहाँ हर साल‘खजुराहो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल’ भी होता है। जिसमें फिल्म इंडस्ट्री की बड़ी-बड़ी हस्तियाँ शामिल होती है। यह इवेंट हर साल दिसम्बर माह में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा आयोजित होता है।

खजुराहो

इसके अलावा मीडिया के मामले में खजुराहो पर बेस्ड कई सारे टीवी एपिसोड और प्रोग्राम आ चुके है, जिनमें एपिक चैनल पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम देवलोक विथ देव दत्त पट्टनायक में खजुराहो की मूर्तियों के बारे में और संरचना प्रोग्राम में मंदिर की बनावट के बारे में प्रमुखता से बताया गया है।

मध्यप्रदेश का यह छोटा सा शहर खजुराहो अपने आप में एक पूर्ण विकसित शहर है, यहाँ आने के लिए एअरपोर्ट, रेलवे, और बस की बहुविकल्प सुविधा अवेलेबल है और रुकने के लिए पर्याप्त और बिभिन्न प्राइस मेनू  वाले उच्च, मध्य और निम्न वर्ग के सरकारी और प्राइवेट होटल भी है।

खजुराहो

अगर खजुराहो के आस-पास में पर्यटक स्थलों की बात की जाए तो खजुराहो के आस-पास भी पर्याप्त पर्यटक स्थल है, जो खजुराहो की सुन्दरता में चार-चाँद लगा देते हैं। इनमे पन्ना नेशनल पार्क, पांडव फाल, रनेह फाल इत्यादि शामिल है।

इस तरह अगर आप खजुराहो में अपने परिवार के साथ घूमने अथवा हनीमून के लिए आते हैं, तो खजुराहो एक अच्छा विकल्प सावित हो सकता है। क्योंकि यहाँ के मंदिर और दर्शनीय स्थल आप का मन मोह लेंगे। इसके अलावा यहाँ होने वाले फेस्टिवल भी खजुराहो को ख़ास बनाने में एक खासी भूमिका निभाते है। बशर्ते आपने सही समय का चुनाव किया हो।

Don't Miss! random posts ..