ENG | HINDI

ये लोग ISIS को ज़रूर भगायेंगे

इराकी सेना

इराक में पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन के खिलाफ अमेरिकी सेना द्वारा चलाए गए सैन्य अभियान के 13 साल बाद एक बार फिर वहां दूसरी सबसे बड़ी सैन्य कार्रवाई शुरू हो चुकी है.

उस वक्त निशाना सद्दाम हुसैन थे तो इस बार निशाने पर है दुनिया का सबसे खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस.

गौरतलब है कि इराक के शहर मोसुल में आईएस के खिलाफ यह अभी तक की सबसे बड़ी और निर्णायक सैन्य कार्रवाई में इराक व गठबंधन सेना के 94 हजार सैनिक व 90 लड़ाकू विमान भाग ले रहे हैं.

15 लाख की आबादी वाले इराक के सबसे बड़े शहर मोसुल को इस्लामिक स्टेट के कब्जे से मुक्त कराने के लिए इराकी कुर्द बलों ने जो बड़ा अभियान छेड़ा है उसमें उन्हें भारी सफलता मिलती दिख रही है.

इराकी सेना ने अभी तक करीब 20 गांवों को आईएस के चंगुल से मुक्त भी करवा लिया गया है.

आईएस के आतंकी युद्ध में हवाई और जमीनी हमलों से अपनी जान बचाने के लिए नागरिकों को ढ़ाल के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं. माना जा रहा है कि आईएस के आतंकी मोसुल पर अपनी पकड़ कमजोर होती देख किसी भी हद तक जा सकते हैं. वे रासायनिक हथियारों का भी प्रयोग कर सकते हैं.

जिसको देखते हुए इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन फॉर माइग्रेशन आतंकियों द्वारा केमिकल हमले की आशंका के मद्देनजर लोगों के लिए गैस मास्क तैयार कर रहा है. बताते चले कि इराकी कुर्दिश फौजों पर आतंकी पहले भी ऐसे हथियारों से हमले कर चुके हैं.

बहराल, आईएस के खिलाफ आक्रमण की कमान संभाले इराक सेना के कुर्द लड़ाकों ने पूरी तरह मोर्चा संभाला हुआ है. वे खुले इलाके में धीरे-धीरे आगे बढ़ रहे हैं. उन्होंने मोसुल के नजदीक कई गावों से आईएस को खदेड़ दिया है.

कुछ जवान मोसुल की सीमा से करीब 30 किमी से भी कम दूरी पर हैं. हालांकि यह साफ नहीं है कि शहर के नजदीक पहुंचने में उन्हें अभी कितना समय और लगेगा. यह इलाका विस्फोटकों से भरा है, इसलिए सैनिकों को संभल संभल कर आगे बढ़ना पड़ रहा है. क्योंकि यहां थोड़ी सी गलती जान ले सकती है.

कुर्द बलों ने इराक के कुर्द क्षेत्र के करीब 200 वर्ग किमी के इलाके को अपने कब्जे में ले लिया है. उल्लेखनीय है कि आईएस ने इस इलाके पर बीते काफी समय से कब्जा जमा रखा है.

लेकिन इस बार इराकी सेना आईएस के नियंत्रण वाले इलाकों में घुसकर जो अभियान चला रही है और उसमें अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन, कनाडा समेत कई प्रमुख देशों से सैनिकों भी इराकी सेना का साथ दे रहे हैं. उसको देखते हुए लगता है कि आगामी कुछ दिनों में वे इस पूरे शहर को आईएस के आतंकियों से मुक्त कराने में सफल हो जाएंगे.

यदि ऐसा होता है तो यह इस्लामिक स्टेट के लिए तगड़ा झटका होगा.

Article Categories:
विशेष

Don't Miss! random posts ..