ENG | HINDI

IPS रुपा पर क्यों लगा 20 करोङ का मानहानि का मुकद्दमा !

IPS रुपा

IPS रुपा – आज के टाइम में जो जितना सच्चाई का साथ देता है उसके साथ उतना बुरा होता है। क्योंकि हम लोगो को चुप रहने की बुरी आदत पङ चुकी है । और कही न कही इन सब चीजों के लिए हम और हमारी कानून व्यवस्था जिम्मेदार है ।

अभी कुछ वक्त पहले तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री और जयललिता की दोस्त शशिकला को आय से अधिक संपत्ति रखने के जुर्म में 4 साल की सजा सुनाई गई थी। लेकिन हमारे यहां नेताओं की जेल की सजा भी किसी वीकेंड से कम नही होती । जहाँ सरकारी अधिकारी नेताओं की खिदमत करने लग जाते है। और शशिकला को वीआई ट्रीटमेंट न मिले ऐसा हो ही नही सकता था।

IPS रुपा

शशिकला को जेल में फुल वीआई ट्रीटमेंट दिया गया। इतना अच्छा खाना तो शायद आम परिवार  के लोगों को शायद साल एक बार भी नसीब न हो । जो शशिकला को जेल में दिया जा रहा था। खबरों की माने तो शशिकला के इस वीआईपी ट्रीटमेंट का खुलासा उस वक्त हुआ जब IPS रुपा ने अपने सीनियर अधिकारी की शिकायत की। और इस मामले का खुलासा किया कि उनके सीनियर अधिकारी पूर्व डीजी एच एन सत्यनारायण ने शशिकला से दो करोङ की रिश्वत ली बै ।।उन्हें जेल में वीआईपी ट्रीटमेंट देने के लिए ।

IPS रुपा

शशिकला की गिरफ्तारी पूर्व डीजी एच एन सत्यनारायण के कार्यालय में ही हुई थी । IPS रुपा ने शशिकला के वीआईपी ट्रीटमेंट की शिकायत  की। जिसके बाद IPS रुपा की तारीफ करने की बजाय उनका ट्रांसफर ट्राफिक पुलिस विभाग कर दिया गया ।

और अब तो IPS रुपा पर पूर्व डीजी एचएन सत्यनारायण ने आईपीएस ऑफिसर रुपा पर 20 करोङ का मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है। साथ ही डीजी एचएन सत्यनारायण ने दो न्यूज चैनल के खिलाफ भी मानहानि का मुकदमा दर्ज करवाया है । क्योंकि डीजी एच एन सत्यनारायण का कहना है कि उन्होंने किसी से कोई रिश्वत नही ली। उन्हें बदनाम किया जा रहा जा रहा है । आपको बता दें डीजी एचएन ने अगस्त में अपना कार्यकाल पूरा कर रिटायरमेंट ले ली था। हो सकता है कि डीजी सत्यनारायण ने रिश्वत ने ली हो। लेकिन फिर किस के कहने पर पूर्व मुख्यमंत्री  शशिकला को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जा रहा था। क्या सत्यनारायण को इसकी जांच नही करवानी चाहिए थी।

IPS रुपा

एक आईपीएस ऑफिसर का विभाग बदलकर उसकी क्षमता से निचले विभाग में भेज देना और उस पर 20 करोङ का मानहानि मुकदमा किस बात की ओर इशारा करता है ।अक्सर ऐसे कई सवाल फाइलों में दब कर रह जाते है ।

IPS रुपा

आपको बता दें शशिकला के जेल जाने के बाद उनकी संपत्ति पर आईटी का छापा भी पङा था। जिसमें शशिकला की 1430 करोङ की अगोषित आय का पता चला। इतना पैसा शशिकला जैसे नेताओं अपने पास दबाए हुए और सरकार आम लोगों की जेब से इसका हरजाना भर्ती है । अगर राजनीतिक पार्टियों के नेता इस तरह की अघोषित आय रखना बंद दे तो देश में गरीबी खत्म हो जाए। अभी हाल ही में वल्ड हेल्थ इंडेक्स की रिपोर्ट में भारत को 100वें नंबर पर रखा गया । ये इस बात का सबूत है कि देश के कुछ अमीर लोगों के कारण देश की आधे से ज्यादा भूखमरी का शिकार हो रही है ।

और हमारा सिस्टम इन नेताओं को सजा सुनाने के बाद भी इन्हें जेल में वीआईपी ट्रिटमेंट देता है ।

Don't Miss! random posts ..