ENG | HINDI

आखिर घर से बाहर जाते समय क्यों नहीं टोकना चाहिए किसी को ?

घर से बाहर जाते समय टोकना

घर से बाहर जाते समय टोकना – भारतीय परिवेश में जन्म लेना इतना आसान नहीं है.

हमारे देश में ऐसी कई बातें हैं, जिनका पालन हम लोग ही कर सकते हैं. दूसरे इसे सुनकर हँसते हैं. उन्हें ऐसा लगता है की क्या बेकार की बातें हैं. लेकिन हमारे पूर्वज इन बातों का अनुभव किए होंगे तभी हम इसका अनुकरण कर रहे हैं.

अक्सर आपने सुना होगा कि जब भी घर से कोई बाहर जाता है, उसे बुलाते नहीं, उसे टोकते नहीं. घर से बाहर जाते समय टोकना शुभ नहीं माना जाता.

आखिर ऐसा क्यों?

जब हम किसी काम से घर से बाहर जाते हैं तो उस पल हमारा दिमाग पूरी तरह से उस काम को पूरा करने के बारे में सोचता है. हमारा दिमाग उसी दिशा में आगे बढ़ने लगता है. भले ही हम दूसरे मुद्दों पर बात करते हैं, नाश्ता करते हैं, लेकिन दिमाग कहीं एक जगह टिका होता है. एक ऐसा जोन होता है वो जहाँ दिमाग अलर्ट पॉइंट पर होता है.

बाहर निकलते समय जब हम किसी को टोक देते हैं, तो उसका दिमाग पूरी तरह से असामान्य हो जाता है. जिसके कारण कई लोगों को बहुत तेज़ गुस्सा आता है. अचानक से पीछे मुड़ते ही शरीर की दशा बदल जाती है. जो गति हमारा दिमाग उस काम के लिए लगा रहा था अब वो गति शरीर को पीछे मुड़ने और उस सवाल का जवाब देने में लगाना पड़ता है, जिसके बारे में दिमाग तैयार नहीं था.

एक बार दिमाग के डिस्टर्ब होने से उस काम की सफलता नहीं मिलती. कई मामले में लोगों का एक्सीडेंट हो जाता है, तो कई मामले में लोग उस काम को उस दिन नहीं कर पाते. इसका एकमात्र कारण होता है की दिमाग को उसकी गति और लक्ष्य से रोकना.

यही कारण धीरे धीरे एक मान्यता में बदल गई. अनुभव के आधार पर लोगों ने ये महसूस किया कि ऐसा करने पर काम सफल नहीं होता. कुछ न कुछ रुकावट हो ही जाती है, इसलिए लोगों ने इसे एक मान्यता बना ली कि बाहर जाते समय किसी को नहीं टोकना चाहिए.

इस तरह से घर से बाहर जाते समय टोकना शुभ नहीं मन जाता – अब से अप भी इस तरह का काम न करें. हो सके तो पहले ही पूछ लें कि कहाँ जा रहे हैं. क्या काम से? कब आएँगे. जाते हुए कभी न पूछें.

Don't Miss! random posts ..