ENG | HINDI

जानिए महाभारत काल में किन-किन देशों में था भारतीय संस्कृति का बोलबाला !

भारतीय संस्कृति का बोलबाला

भारतीय संस्कृति का बोलबाला – भारत एक ऐसा देश हैं जो प्राचीन काल से ही अपने धार्मिक और सांस्कृतिक मान्यताओं के चलते  दुनिया में अपनी एक अलग पहचान रखता है. यह दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जहां विविधता में एकता का अनूठा संगम देखने को मिलता है.

आज के जिस आधुनिक भारत में हम रहते हैं दरअसल अतीत में हमारा भारत इससे बिल्कुल अलग हुआ करता था. प्राचीन काल में हमारी संस्कृति जितनी विशाल हुआ करती थी उतना ही ज्यादा उसका विस्तार हुआ करता था.

आज हम महाभारत काल के उस प्राचीन भारतीय संस्कृति से रूबरू कराने जा रहे जिसका बोलबाला सिर्फ हिंदुसतान में ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में हुआ करता था और ये सारे देश अखंड भारत का अहम हिस्सा हुआ करते थे.

भारतीय संस्कृति का बोलबाला

1- पाकिस्तान

हमारा पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान 15 अगस्त 1947 के पहले भारत का अंग हुआ करता था. लेकिन जब भारत-पाकिस्तान का बंटवारा हुआ तब पाकिस्तान में स्थित कई हिंदू मंदिरों को तोड़ दिया गया. हालांकि महाभारत काल में पाकिस्तान में भारतीय संस्कृति का बोलबाला था.

2- बांग्लादेश

15 अगस्त 1947 के पहले बांग्लादेश भी भारत का अभिन्न अंग हुआ करता था. लेकिन देश का विभाजन होते ही बांग्लादेश पूर्वी पाकिस्तान के रूप में भारत से अलग हो गया. फिर 1971 में बांग्लादेश पाकिस्तान से भी अलग हो गया. आपको बता दें कि महाभारत काल में बांग्लादेश तक भारतीय संस्कृति फैली हुई थी.

3- नेपाल

नेपाल विश्व का एकमात्र हिंदू देश है जिसका एकीकरण गोरखा राजा ने सन 1769 में किया था. प्राचीन काल में यह भारत का हिस्सा हुआ करता था और यहां के लोग भारतीय संस्कृति से खासा प्रभावित थे.

4- भूटान

प्राचीन काल में भूटान भद्र देश के नाम से मशहूर हुआ करता था. लेकिन 8 अगस्त 1949 में भारत-भूटान संधि हुई जिससे भूटान भारत से अलग एक स्वतंत्र देश बन गया. लेकिन यहां महाभारत काल में सिर्फ और सिर्फ भारतीय संस्कृति का ही बोलबाला था.

5- तिब्बत

प्राचीन काल में तिब्बत को त्रिविष्टप के नाम से जाना जाता था. आपको बता दें कि यहां बौद्ध धर्म का प्रचार चौथी शताब्दी में शुरू हुआ. चीन ने साल 1957 में तिब्बत पर कब्जा कर लिया लेकिन यहां प्राचीन काल में भारतीय संस्कृति का ही प्रभाव था.

6- श्रीलंका

प्राचीन काल में श्रीलंका का नाम ताम्रपर्णी हुआ करता था. लेकिन भारत के इस अभिन्न अंग पर सन 1505 में पुर्तगाली, 1606 में डच और 1795 में अंग्रेजों ने अपना अधिकार जमा लिया. आखिरकार साल 1935 में अंग्रेजों ने लंका को भारत से अलग कर दिया. हालांकि यहां आज भी भारतीय संस्कृति की झलक देखने को मिल ही जाती है.

7- म्यांमार

मान्यताओं के अनुसार म्यांमार यानी बर्मा का प्रथम राजा वाराणसी का एक राजकुमार था. लेकिन सन 1852 में अंग्रेजों ने इसपर अपना अधिकार जमा लिया और फिर साल 1937 में भारत से इसे अलग कर दिया गया. महाभारत काल में म्यांमार में भारतीय संस्कृति का बोलबाला था.

8- ईरान

कहा जाता है कि 2000 ई. पू. में ईरान में आर्य संस्कृति उदय हुआ था. बलूचिस्तान के रास्ते आर्य ईरान पहुंचे और वहां अपनी सभ्यता और संस्कृति का प्रचार-प्रसार किया. आर्यों के नाम से इस देश का नाम आर्याना पड़ा. लेकिन 644 ई. में अरबों ने ईरान पर आक्रमण किया और उसे अपने अधिकार में ले लिया.

9- कम्बोडिया

बताया जाता है कि प्रथम शताब्दी में कौंडिन्य नाम के एक ब्राह्मण ने यहां हिन्दू राज्य की स्थापना की थी और महाभारत काल में कंबोडिया में भी भारतीय संस्कृति का ही बोलबाला था.

10- वियतनाम

प्राचीन काल में वियतनाम का नाम चम्पा हुआ करता था. कहा जाता है कि दूसरी शताब्दी में स्थापित चम्पा भारतीय संस्कृति का प्रमुख केंद्र हुआ करता था. लेकिन साल 1825 में चम्पा में महान हिन्दू राज्य का अंत हो गया और आज यह वियतनाम के नाम से प्रसिद्ध है.

11- मलेशिया

प्राचीन काल में कुछ भारतीयों ने मलेशिया पहुंचकर वहां के निवासियों को भारतीय सभ्यता और संस्कृति से अवगत कराया. लेकिन बदलते वक्त के साथ-साथ मलेशिया में शैव, वैष्णव और बौद्ध धर्म का तेजी से प्रसार होने लगा.

12- इंडोनेशिया

किसी जमाने में इंडोनेशिया भारत का एक संपन्न राज्य हुआ करता था. आज इंडोनेशिया में बाली द्वीप को छोड़कर दूसरे द्वीपों पर मुसलमानों की तादात ज्यादा है. फिर भी हिन्दू देवी-देवताओं से यहां का जनमानस आज भी पुरानी संस्कृति और परंपराओं से जुड़ा हुआ है.

13- फिलीपींस

प्राचीन काल में फिलीपींस में भारतीय संस्कृति का पूरा प्रभाव हुआ करता था लेकिन 15 वीं शताब्दी में मुसलमानों ने आक्रमण कर वहां अपना अधिकार जमा लिया. प्राचीन काल की तरह आज भी फिलीपींस में कुछ हिन्दू रीति-रिवाज प्रचलित हैं.

14- अफगानिस्तान

350 ईसा पूर्व तक अफगानिस्तान भारत का एक अभिन्न अंग था और यहां भारतीय संस्कृति का बोलबाला था. लेकिन सातवीं शताब्दी में इस्लाम धर्म के आगमन से अफगानिस्तान धीरे-धीरे राजनीतिक और फिर सांस्कृतिक रुप से भारत से अलग हो गया.

भारतीय संस्कृति का बोलबाला – आपको बता दें कि प्राचीन काल में हमारा देश सांस्कृतिक तौर पर बहुत संपन्न हुआ करता था जिसकी वजह से लोग दूर-दूर से हमारी संस्कृति सीखने के लिए आया करते थे. लेकिन आज हम भारतीय संस्कृति की इस अनमोल धरोहर की रक्षा करने में नाकाम हो रहे हैं जिसकी वजह से हमारी संस्कृति और धर्म का पतन होने लगा है.

Don't Miss! random posts ..