ENG | HINDI

फाइनल मैच में इन दो भारतीय खिलाड़ियों ने बनाये शानदार रिकॉर्ड

युजवेंद्र चहल

इंडियन टीम ने फाइनल मैच जीतकर यह साबित कर दिया है कि जब भारतीय टीम एकजुट होती है तो वह दुनिया की सबसे खतरनाक टीम होती है.

ट्वेंटी-20 के किसी मैच में इंडियन टीम का ऐसा शानदार प्रदर्शन सालों बाद देखा गया है. इंडियन क्रिकेट टीम ने इंग्लैंड को फाइनल मैच 75 रनों से हराया और इसी के साथ ट्वेंटी-20 सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली.

इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन वाकई इस बात से दुखी से थे कि टीम खाली हाथ आई थी और खाली हाथ ही जा रही हैं. पहले टेस्ट सीरीज को हारे और उसके बाद 2-1 से वनडे और ट्वेंटी-20 सीरीज हारकर इंग्लैंड निराश होकर अपने देश लौट रही है. इस पूरे दौरे पर टीम इंग्लैंड ने सिर्फ 2 मैच ही जीते हैं जिसमें एक वनडे और एक ट्वेंटी ही है.

फाइनल मैच को इंडियन टीम ने सीनियर खिलाड़ियों के दम पर जीता है.

पहले सुरेश रैना फिर महेंद्र सिंह धोनी और उसके बाद युवराज सिंह की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी ने एक विशाल स्कोर खड़ा किया था. गेंदबाजी में अमित मिश्रा ने अपने अंतिम दो ओवर में कमाल की गेंदबाजी की और इसका फल चहल को मिला और उन्होंने 6 विकेट अपने नाम किये. वैसे इस मैच में युजवेंद्र चहल ने ट्वेंटी-20 के इतिहास में शानदार रिकॉर्ड भी बनाया है.

युजवेंद्र चहल के नाम रिकॉर्ड

युजवेंद्र चहल ने ट्वेंटी-20 में 6 विकेट लेकर क्रिकेट की दुनिया में शानदार रिकॉर्ड बनाया है.

चहल पहले भारतीय हैं जिन्होनें ट्वेंटी-20 गेंदबाजी में रिकॉर्ड बनाया है.

इस मैच में चहल ने 6 विकेट लिए. मैच में इनका प्रदर्शन देखें तो 4 ओवर में 25 रन देकर इन्होनें 6 विकेट अपने नाम किये हैं. चहल ट्वेंटी-20 में 6 विकेट लेने वाले विश्व के दूसरे खिलाड़ी हैं. वहीं सफल ट्वेंटी-20 गेंदबाजी के प्रदर्शन में चहल तीसरे नंबर पर शामिल हो गये हैं. इससे पहले श्रीलंका के अजंता मेंडिस ने ट्वेंटी-20 इतिहास में दो बार 6 विकेट लिए हैं. युजवेंद्र चहल अजंता मेंडिस के बाद तीसरे नंबर पर शामिल हो गये हैं.

वैसे युजवेंद्र चहल को फाइनल मैच में 6 विकेट जो मिले हैं उसका श्रेय अमित मिश्रा को जाता है. अमित ने इस मैच में शानदार गेंदबाजी की और अंतिम दो ओवर में तो इंग्लैंड को रन बनाने का कोई मौका भी नहीं दिया. वैसे अमित मिश्रा को दो विकेट मिल सकते थे लेकिन अंतिम ओवर में युवराज के हाथों से कैच निकल गया था और अमित मिश्रा को एक विकेट से ही संतोष करना पड़ा था.

महेंद्र सिंह धोनी ने किया कमाल

महेंद्र सिंह धोनी ने ट्वेंटी-20 क्रिकेट के इतिहास में अपनी पहली हाफ-सेंचुरी कल के मैच में पूरी की है.

वैसे यह भारत के लिए शानदार बात रही कि अपना 76 वां ट्वेंटी-20 मैच खेल रहे धोनी ने इस मैच में अपना अर्द्धशतक पूरा किया है. धोनी ने 36 गेंदों पर 56 रन बनाये और टीम को शानदार स्कोर तक पंहुचा दिया. वैसे यह ट्वेंटी-20 का अंतर्राष्ट्रीय रिकॉर्ड तो नहीं था किन्तु अपने 76 वे मैच में इतने बड़े खिलाड़ी का अर्द्धशतक लगाना जरुर एक रिकॉर्ड बोला जायेगा.

ये है भारतीय खिलाड़ियों के रिकॉर्ड – इस तरह से जहाँ एक तरफ युजवेंद्र चहल ने 6 विकेट लेकर ट्वेंटी-20 के इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया है वहीं महेंद्र सिंह धोनी ने अर्द्धशतक बनाकर अपने करियर में एक नया मुकाम हासिल किया है.

Don't Miss! random posts ..