ENG | HINDI

गुजरात में मिलने वाली इन तीन चीज़ों पर नाज़ करता है पूरा भारत

भारत को विकसित देशों की लिस्ट में शामिल करने के लिए और यहां की जनता को आर्थिक और तकनीकी आधार पर हर सुविधा मुहैया करवाने के लिए, फाइनेंशि‍यि‍ल और इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर ग्राउंड्स पर भारत को और अधिक मज़बूत बनाने के लिए हमारी सरकार कई प्रयास कर रही है और कई प्रोजेक्ट्स की भी नींव रख रही है।

ऐसे ही कुछ प्रोजेक्ट्स के बारे में हम आज आपको बताने जा रहे हैं, इन प्रोजेक्ट्स की सबसे खास बात ये है कि ये सभी प्रोजेक्ट्स गुजरात में शुरू होंगे और इन प्रोजेक्ट्स के पूरे होने के बाद हम सभी को अपने गुजरात और अपने देश पर नाज़ होगा।

बुलेट ट्रेन योजना

इस क्रम में सबसे पहले आती है बुलेट ट्रेन योजना, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंदो आबे ने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास कर दिया है। ये प्रोजेक्ट 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है, इसके पूरा होने के बाद मुंबई से गुजरात की दूरी तय करना बहुत ही आसान हो जाएगा। आपको बता दें कि ये देश का पहला बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट है। जापान की शिंकशेन बुलेट ट्रेन दुनिया की सबसे तेज ट्रेन में से एक है और इसलिए जापान से हाथ मिलाते हुए कुल लागत का 85% सॉफ्ट लोन देने का वादा किया है।

यह लोन महज 0.1 फीसदी की ब्याज दर पर दिया जाएगा। इस लोन का रीपेमेंट 15 वर्ष बाद शुरू होगा। सरकार की मानें तो ये एक बहुत ही फायदेमंद प्रोसेस है जिसके तहत बड़ी ही आसानी से हम इस धनराशि को अदा कर पाएंगे और इसके एवज में बड़ा फायदा भी कमाएंगे।

सबसे अच्छी बात तो ये है कि सिर्फ विकास की दृष्टि से ही नहीं, बल्कि रोज़गार की दृष्टि से भी ये प्रोजेक्ट महत्वपूर्ण है। इस प्रोजेक्ट के पूरा होने की प्रक्रिया में करीब 20,000 लोगों को कंस्‍ट्रक्‍शन के दौरान जॉब मिलेगी। इसके लिए विशेष तौर पर हाई स्पीड रेल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट की भी वडोदरा में स्थापना की जाएगी। इस इंस्टीट्यूट में हर तरह की सुविधा होगी, जो जापान अपने ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में देता है। ऐसा माना जा रहा है कि इस पूरे प्रोजेक्ट के बनने में तकरीबन 19 अरब डॉलर (करीब एक लाख करोड़ रुपए) का खर्च आएगा।

रो-रो प्रोजेक्ट

इसके अलावा गुजरात में एक रो-रो प्रोजेक्ट भी प्रस्तावित है। इस प्रोजेक्ट की खास बात ये है कि इसमें जहाजों को इस तरह से तैयार किया जाता है, जिनमें कारों, ट्रकों, सेमी-ट्रेलर ट्रकों, ट्रेलर्स और अन्य चीजों को लादा जा सकता है। ये सिर्फ सामान लादने के लिए ही उपयोगी नहीं होते हैं बल्कि इसमें लोग सफर भी कर सकते हैं। रो-रो सर्वि‍स के लिए जहाजों को इस तरह से तैयार किया जाता है कि बंदरगाहों पर इनमें सामानों को आसानी से लादा जा सके और उतारा जा सके।

गिफ्ट सिटी

इन दोनों प्रोजेक्ट्स के अलावा एक और भी ऐसी चीज़ है जो हमारे देश की तरक्की में चार चांद लगाती है और वो है गिफ्ट सिटी। देश का पहला इंटरनेशनल फाइनेंशियल सर्विस सेंटर गांधीनगर की गिफ्ट सिटी में खोला जा चुका है। इस पूरी गिफ्ट सिटी में देश-वि‍देश के कई बड़े बैंक, इंश्योरेंस कंपनि‍यां और फाइनेंस से जुड़ी कंपनि‍यों ने अपने ऑफि‍स खोले हुए हैं।

उम्मीद है कि गुजरात की इन खास बातों के बारे में जानकर आप भी पूछना चाहते होंगे केम छो गुजरात ! और अपने देश पर तो आपको गर्व ज़रूर हो रहा होगा।

Don't Miss! random posts ..