ENG | HINDI

इस मंदिर में 7 लड़कियों को बनाते हैं देवी और फिर उन्हें कर देते हैं निःवस्त्र!

आस्था के नाम पर

आस्था के नाम पर – अभी देश में बाबाओं की बाबागीरि से लोग परेशान है।

एक बाबा का घिनौनापन अभी दिमाग से हटता नहीं कि दूसरे बाबा की दरिन्दगी सामने आ जाती है। ये लोग धर्म और आस्था के नाम पर लोगों के विश्वास का गला घोट देते हैं।

हमारे देश में आस्था के नाम पर ऐसी बहुत सी चीजें सामने आती है जिसे सुनकर आपके हाथ पैर नीले पड़ जाएंगे। हाल ही में एक नया मामला सामने आया। जहां एक ओर नवरात्री में कन्याओं को ज्यादा महत्व दिया जाता है वहीं हमारे देश में एक मंदिर ऐसा भी है जहां आस्था के नाम पर लड़कियों के साथ जो किया जाता है उसे सुनकर आपकी रुह कांप जाएगी।

आस्था के नाम पर

तमिलनाडू के मैदूर में स्थित मंदिर में  7 लड़कियों को 15 दिनों तक देवी बना कर रखा जाता है। गांव के लोग चुनी गई 7 लड़कियों को सबसे भाग्यवान मानती है। गांव की सभी लड़कियों को पहले पंडित के सामने परेड करना होता है। परेड के बाद इन लड़कियों का चुनाव एक पुरुष पंडित करता है।

चुनी गई लड़कियों को मंदिर में 15 दिन रहना होता है। रहना तक तो ठीक हैं लेकिन इनको कमर से उपर तक निःवस्त्र किया जाता है और इनको फूल और जेवर पहनाया जाता है।

15 दिनों तक मंदिर में कैद इन लड़कियों के पास कोई नहीं जा सकता। इस दौरान केवल पंडित ही उनकी देखरेख वहां रहकर करता है।

जिन लड़कियों को इसके लिए चुना जाता है उनकी उम्र 10-14 साल होती है, यानि अगर पंडित उनके साथ धर्म के नाम पर कुछ गलत करता भी है तो उन लड़कियों को इस बात का अहसास नहीं होगा।

मैदुर में इस मंदिर की प्रथा प्राचीन समय से ही चली आ रही है। इसमें मंदिर के आस पास के साठ गांव हिस्सा लेते हैं।

आस्था के नाम पर इस तरह की प्रथा कोई नई नहीं है। हमारे देश में ऐसी कई प्रथाएं है जो आपको हैरान कर देंगी। लेकिन इस तरह की प्रथा महिलाओं के सम्मान के लिए है या उनका शोषण करने के लिए? इस बारें में लोगों को स्वयं ही जागरुक होने की जरुरत हैं क्योंकि इस तरह के प्रथाओं में लोगों की सहमति शामिल होती है।

Don't Miss! random posts ..